होम /न्यूज /राजस्थान /'बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ' का नारा देकर महिला पुलिस अधिकारी लोगों को कर रही जागरूक

'बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ' का नारा देकर महिला पुलिस अधिकारी लोगों को कर रही जागरूक

बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ के नारा देने वाली महिला पुलिस अधिकारी चेतना भाटी पिछले 20 वर्षो से महिलाओं को जागरूक करने और उन्ह ...अधिक पढ़ें

रिपोर्ट- निशा राठौड़

उदयपुर. आमतौर पर आप ने पुलिस को अपराधियों को पकड़ते देखा होगा. पुलिस विभाग को लेकर मन में आज भी कई तरह का डर रहता है. खासकर महिलाएं आज भी अपनी परेशानी ले कर पुलिस टीके नहीं पहुंचती है. लेकिन उदयपुर की एक महिला पुलिस अधिकारी ऐसी भी जो महिलाओं में पुलिस के प्रति डर को खत्म करने का काम कर रही है. उदयपुर शहर में कार्यरत आरपीएस चेतना भाटी महिलाओं को पुलिस के प्रति जागरूक करने का काम कर रही है. ये कई तरह के कार्यक्रम का आयोजन करती है जिससे महिलाओं को कानून की जानकारी दे सके.

बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ का दिया नारा
जैसलमेर जिले में जन्मी बेटी चेतना जहा जन्म पर ही बेटियों को मार दिया जाता है. उसी को ध्यान में रख कर इन्होंने ‘ बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ ‘का नारा दिया था जो आज देश भर में विख्यात है.यह नारा हमे कई जगह देखने और पढ़ने को आज भी मिल जाता है.

जैसलमेर जिले की पहली महिला पुलिस अधिकारी
चेतना भाटी ने बताया की उनके खिले में बेटियो को अभिशाप माना जाता है, बहुत कम लड़कियां थी, जो उस समय उनके जिले में पढ़ा करती थी, वे उस समय भी लडको के स्कूल में पढ़ी और जैसलमेर जिले की पहली महिला पुलिस अधिकारी बनी थी. इन्हें इनके उत्कृष्ट कार्य करने के लिए कई बार पुरस्कारों से नवाजा गया है.

महिला अनुसंधान प्रकोष्ठ में कार्यरत पुलिस अधिकारी महिलाओं के अधिकारों के बारे में बता रही साथ ही 5 हजार से अधिक महिलाओं को न्याय दिला चुकी है. इनका कहना हे की ये महिलाओं के जागरूकता के लिए अलग से कार्यक्रम आयोजित करती है, क्योंकि ये महिला पुलिस थाने में कार्यरत रह चुकी है तो इन्हें पता है किस तरह से महिलाओं पर अत्याचार किए जाते है. महिलाओं को उनके हक की जानकारी नही होती इसी वजह से कई बार वे अपने बच्चों से साथ आत्महत्याया जैसे कदम तक उठा देती है. इसी वजह से महिलाओं और बच्चों को जागरूक करने का कार्य कर रही है.

Tags: Rajasthan news, Udaipur news

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें