बड़ी पहल: जनजाति के छात्र-छात्राओं को निशुल्क कोचिंग का तोहफा, अब मिल सकेंगे बेहतर अवसर

मंत्री बामनिया ने कहा कि आदिवासी अंचल के जनजाति छात्र छात्राओं में प्रतिभाओं की कोई कमी नहीं हैं, लेकिन उन्हें उचित मार्गदर्शन नहीं मिल पाता हैं.

मंत्री बामनिया ने कहा कि आदिवासी अंचल के जनजाति छात्र छात्राओं में प्रतिभाओं की कोई कमी नहीं हैं, लेकिन उन्हें उचित मार्गदर्शन नहीं मिल पाता हैं.

जनजाति विकास विभाग (Tribal Development Department) की नई पहल के तहत कोटा की एलन कॅरियर इंस्टीट्यूट (Allan Career Institute) के मार्फत जनजाति के 200 छात्र-छात्राओं को इंजीनियरिंग और मेडिकल प्रवेश परीक्षाओं की निशुल्क कोचिंग (Free coaching) दिलाई जायेगी.

  • Share this:
उदयपुर. प्रदेश के जनजाति मंत्री अर्जुन सिंह बामनिया ने आदिवासी अंचल की प्रतिभाओं (Talents) के सपनों को साकार करने के लिये शुक्रवार को बड़ी योजना का ऐलान किया. जनजाति विकास विभाग (Tribal Development Department) की नई पहल के तहत कोटा की एलन कॅरियर इंस्टीट्यूट (Allan Career Institute) के मार्फत जनजाति के 200 छात्र-छात्राओं को इंजीनियरिंग और मेडिकल प्रवेश परीक्षाओं की निशुल्क कोचिंग (Free coaching) दिलाई जायेगी. जनजाति के छात्र-छात्राओं को अभावों के चलते बेहतर मौके नहीं मिल पाते हैं. इसको देखते हुए जनजाति विकास विभाग लंबे समय से इस तरह की कार्ययोजना पर विचार कर रहा था. अब उसे अमली जामा पहनाया जाएगा.

परीक्षा के माध्यम से किया जाएगा चयन

इस मसले पर लंबे विचार-विमर्श के बाद विभाग ने कोटा के एलन कॅरियर इंस्टीट्यूट को इसके लिए प्रस्ताव भेजा था. योजना के तहत सरकारी स्कूल में पढ़ाई कर रहे जनजाति वर्ग के छात्र-छात्राओं का कोचिंग के लिए चयन किया जायेगा. जनजाति विकास विभाग ने प्रतिभावान विद्यार्थियों के चयन के लिये प्रक्रिया निर्धारित की है. इसके तहत पहले एक परीक्षा आयोजित की जायेगी. परीक्षा में प्राप्त अंकों की वरीयता के आधार पर विद्यार्थियों का कोचिंग के लिए चयन किया जायेगा. यह कोचिंग उदयपुर और कोटा में दी जायेगी.

सभी सुविधाएं विभाग द्वारा मुहैया कराई जायेगी
जनजाति अंचल के विद्यार्थियों को कोचिंग के दौरान सभी सुविधाएं विभाग द्वारा मुहैया कराई जायेगी. इसमें कोचिंग देने वाले इंस्ट्टीट्यूट द्वारा उदयपुर में बैच संचालित करने के लिये ट्रेंड फेकल्टी को भेजा जायेगा ताकि वो विद्यार्थियों को इंजीनियरिंग और मेडिकल प्रवेश परीक्षाओं के लिये बेहतर तरीके से तैयारी करा सके.

200 प्रतिभावान विद्यार्थियों को मिलेगा मौका

आदिवासी जनजाति विकास विभाग के मंत्री अर्जुन सिंह बामनिया ने बताया कि आदिवासी निर्धन परिवारों के 200 प्रतिभावान विद्यार्थियों को निःशुल्क मेडिकल और इंजीनियरिंग प्रवेश परीक्षाओं की तैयारी के लिए कोचिंग दी जाएगी. कोचिंग क्लासेज अप्रेल माह में शुरू की जाएगी. बामनिया ने कहा कि आदिवासी अंचल के जनजाति छात्र छात्राओं में प्रतिभाओं की कोई कमी नहीं हैं, लेकिन उन्हें उचित मार्गदर्शन नहीं मिल पाता हैं. इसके चलते ये विद्यार्थी पिछड़ जाते हैं.



जयपुर: उपभोक्ताओं को बिजली का झटका, 10-11 % बढ़ाई दरें, 1 फरवरी से हुईं लागू

जोधपुर: शादी के लिए लड़के की न्यूनतम आयु 21 और लड़की के लिए 18 वर्ष क्यों ?
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज