ओशो ध्यान विहार आश्रम में मिली जर्मन युवती, प्रशासन को नहीं दी गई थी सूचना, पुलिसकर्मी के घर में बना हुआ है आश्रम

सोढ़ाला में 5 जगह आंशिक कोरोना कर्फ्यू लगा हुआ है. (प्रतीकात्मक चित्र)

सोढ़ाला में 5 जगह आंशिक कोरोना कर्फ्यू लगा हुआ है. (प्रतीकात्मक चित्र)

उदयपुर (Udaypur) का यह आश्रम जिस घर में संचालित हो रहा है वह घर एसपी ऑफिस के डीएसबी शाखा में कार्यरत सज्जन सिंह का है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 9, 2020, 10:32 AM IST
  • Share this:
उदयपुर. कोरोना महामारी (Corona Epidemic) को लेकर विदेशी नागरिकों पर विशेष नजर रखी जा रही है, क्योंकि भारत में यह बीमारी विदेश से ही पहुंची है. लेकिन अभी भी कुछ लोग इसे गंभीरता से लेने के बजाय लापरवाही बरत रहे हैं. उदयपुर के गोवर्धन विलास थाना इलाके में ओशो ध्यान विहार आश्रम में एक विदेशी युवती के होने की जानकारी पुलिस को मिली. पुलिस (Police) ने जानकारी मिलते ही विदेशी युवती का पासपोर्ट (Passport) जब्त कर लिया और विदेशी विषयक अधिनियम 1946 के तहत मामला दर्ज किया.

गोवर्धन विलास थाना क्षेत्र के सेठजी की कुंडल स्थित एक घर में ओशो ध्यान विहार संचालित किया जा रहा था. इसी आश्रम में जर्मन निवासी एक विदेशी युवती पिछले 18 दिनों से रह रही है. यह आश्रम जिस घर में संचालित हो रहा है, वह घर एसपी ऑफिस के डीएसबी शाखा में कार्यरत सज्जन सिंह का है. यह युवती 18 मार्च को उदयपुर आई थी और तब से यही पर रह रही है. लॉकडाउन (Lockdown) के दौरान विदेशी लोगों की जानकारी तुरंत प्रभाव से प्रशासन को देना जिम्मेदारी बनती है, लेकिन सज्जन सिंह ने पुलिसकर्मी होने के बावजूद यह जानकारी न प्रशासन को दी न ही सी फॉर्म के मार्फत सीआईडी विभाग को दी और ना ही स्थानीय थाने को इसकी सूचना दी.

फरवरी महीने में आई थी भारत

गोवर्धन विलास थाना पुलिस को कुंडल स्थित आश्रम में 5-6 विदेशियों के छुपने की जानकारी मिली थी. ऐसे में पुलिस ने पूरी टीम के साथ दबिश दी तो वहां उन्हें जर्मन की एक युवती क्यारा मारकी मिली. विदेशी युवती से जब पुलिस ने पूछताछ की तो उसने बताया कि वह फरवरी महीने में भारत आई थी और कई जगह घूमने के बाद 18 मार्च से उदयपुर स्थित इस घर में रह रही है.
पुलिसकर्मी की लापरवाही

जर्मनी में भी कोरोनावायरस के चलते स्थिति काबू में नहीं है. ऐसे में वहां के किसी नागरिक की जानकारी छिपाना भारत में बड़ा नुकसानदायक साबित हो सकता है. पुलिसकर्मी सज्जन सिंह द्वारा यह जानकारी छुपाना, जो स्वयं पुलिस की गोपनीय शाखा में ड्यूटी देते हैं बड़ा लापरवाही पूर्ण कदम है. फिलहाल पुलिस ने अधिनियम 1946 के तहत मामला दर्ज किया है और विदेशी युवती क्यारा मारकी का पासपोर्ट भी जब्त कर लिया है.

ये भी पढ़ें: COVID-19: राजस्थान में तेजी से बढ़ रहा ग्राफ, 2 दर्जन नए पॉजिटिव केस आए, 325 हुई संख्या




अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज