Corona Warriors: उदयपुर के व्यवसायी ने की प्रशासन को हेलीकॉप्टर देने की पेशकश

यह हेलीकॉप्टर 4 सीटर है. एक बार में करीब 250 लीटर तरल पदार्थ लेकर उड़ सकता है.

यह हेलीकॉप्टर 4 सीटर है. एक बार में करीब 250 लीटर तरल पदार्थ लेकर उड़ सकता है.

उदयपुर (Udaipur) में एक कोरोना योद्धा ने प्रशासन के सामने अपना हेलीकॉप्टर देने की पेशकश कर दी है. उनका कहना है कि मेडिकल इमरजेंसी (Medical emergency) के दौर में हेलीकॉप्टर से सेनेटाइजेशन करने का कार्य किया जा सकता है.

  • Share this:
उदयपुर. समूचा विश्व इस समय कोरोना महामारी (COVID-19) के दौरान लॉकडाउन (Lockdown) में है. कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या भी दिनोंदिन बढ़ती जा रही है. प्रदेश में भी कोरोना मरीजों के आंकड़े बढ़ रहे हैं. ऐसे में इस इमरजेंसी के दौर में कोरोना योद्धा लोगों की जान बचाने में पूरे जोश और जज्बे के साथ जुटे हुए हैं और इस जंग को जीतने की कोशिश कर रहे हैं.

पर्यटकों के लिये हेलीकॉप्टर का संचालन करते हैं

उदयपुर में एक कोरोना योद्धा ने प्रशासन के सामने अपना हेलीकॉप्टर देने की पेशकश कर दी है. उनका कहना है कि मेडिकल इमरजेंसी के दौर में हेलीकॉप्टर से सेनेटाइजेशन करने का कार्य किया जा सकता है. उदयपुर के बेदला इलाके में रहने वाले जयप्रकाश जोशी शहर में पर्यटकों के लिये हेलीकॉप्टर का संचालन करते हैं. लॉकडाउन के दौरान उनका बिजनस भी ठप है. ऐेसे में उन्होंने अपने हेलीकॉप्टर को कोरोना के खिलाफ जंग में उतारने के लिये प्रशासन के सामने पेशकश की है.

एक बार में करीब 250 लीटर तरल पदार्थ लेकर उड़ सकता है
जयप्रकाश जोशी चाहते हैं कि प्रशासन इस बुरे दौर में उनके हेलीकॉप्टर को उपयोग में लेकर संक्रमित क्षेत्र को सेनेटाइज करने के काम में ले ताकि वायरस को फैलने से रोकने में सफलता मिल सके. जयप्रकाश जोशी ने अपने हेलीकॉप्टर के उपयेाग को लेकर उदयपुर जिला कलक्टर और एसपी को पत्र लिखा है. इस पत्र के मार्फत उन्होंने बताया है कि उनका हेलीकॉप्टर 4 सीटर है. एक बार में करीब 250 लीटर तरल पदार्थ लेकर उड़ सकता है. इस तरल पदार्थ से संक्रमित क्षेत्र को सेनेटाइज करने का कार्य किया जा सकता है.



आपातकालीन सेवाएं अभी भी जारी हैं



जोशी के अनुसार यदि भविष्य में हालात बिगडते हैं तो वे संक्रमित क्षेत्र को संक्रमण मुक्त करने के लिये हवाई मार्ग से सेनेटाइज करने के कार्य में अपना हेलीकॉप्टर दे सकते हैं. हालांकि अभी भारत सरकार द्वारा 3 मई तक हवाई सेवाओं को बंद किया गया है, लेकिन आपातकालीन सेवाएं अभी भी जारी हैं. ऐेसे में यदि प्रशासन को इस हेलीकॉप्टर के उपयोग की जरुरत महसुस होती है तो इसे काम में लेकर संक्रमित क्षेत्र में प्रवेश किया बिना उसे सेनेटाइज करने के प्रयास किये जा सकते हैं. मेडिकल इमरजेंसी के दौर में इसका सदुपयोग कर जल्द राहत देने के भी कार्य में किया जा सकता है.

राजस्थान में 60 लाख लोगों को बाजार से गेहूं खरीदकर मुफ्त बांटा जाएगा: CM गहलोत

गहलोत सरकार का फैसला, 2 साल तक चिकित्सा क्षेत्र में खर्च होगा MLA लेड का पैसा
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज