होम /न्यूज /राजस्थान /उदयपुर में निराश्रितों को मिला आश्रय, 93 लोगों का किया गया रेस्क्यू

उदयपुर में निराश्रितों को मिला आश्रय, 93 लोगों का किया गया रेस्क्यू

राजस्थान के उदयपुर शहर में अपना घर आश्रम की शाखा का संचालन किया जा रहा है जहा मानसिक रूप से बीमार व्यक्तियों की मदद की ...अधिक पढ़ें

    निशा राठौड़/उदयपुर. मानसिक रूप से कमजोर और सड़कों पर बेसहारा लोगों को अब उदयपुर में मिल गया है अपना घर. जी हां आज हम बात कर रहे हैं अपना घर आश्रम की जो की मानसिक रूप से बीमार लोगों की मदद कर रहे है. इसके साथ ही उन्हें अपने घर तक पहुंचने का काम भी किया जा रहा है. राजस्थान के उदयपुर शहर में अपना घर आश्रम की एक शाखा संचालित है, जो वर्ष 2021 से यहा काम कर रही हे अभी तक इन्होंने 93 लोगों का रेस्क्यू किया है और 14 लोगों को अपने परिवार से मिलवाया है.

    अपना घर आश्रम के सदस्यों को सूचना मिलना पर यह उस व्यक्ति तक पहुंचते और उसे रेस्क्यू करके आश्रम में लाया जाता है. इसके बाद उसे स्नान करा दूसरे कपड़े पहनाये जाते हैं और उनकी काउंसलिंग तथा मेडीकल हेल्थ की जानकारी ली जाती है. इसके बाद उन्हें मेडिकल ट्रीटमेंट दे कर ठीक करने की कोशिश की जाती है. अगर व्यक्ति ठीक हो जाता है और निवास स्थान या परिवार के बारे में जानकारी ली जाती और उन्हें उनके परिवार के सदस्यों को सौप दिया जाता है.

    93 लोगों का रेस्क्यू किया गया
    14 लोगो को मिलवा चुके परिवार से उदयपुर के संचालक सुरेश विजयवर्गीय ने बताया कि आश्रम के स्थापना के बाद करीब 93 लोगों का रेस्क्यू कर लिया गया है और उन्हें पुनः स्थापित करने का कार्य भी किया जा रहा है. अभी तक कुल 14 लोगों को उनके परिवार से मिला चुके हैं, जिसमें से एक करीब 40 साल बाद अपने घर पहुंचा था. जब से आश्रम में लाया गया तो उसकी मानसिक हालत बहुत ज्यादा खराब थी. इलाज के दौरान वह ठीक होता गया और काउंसलिंग के बाद उसे उसके परिवार के पास भेजा गया.

    नेपाल सहित,देश भर में 52 शहरो में कर रहे कार्य. आश्रम में आश्रय ही असहाय लोगों की मदद करने के लिए लगभग देश में 52 शाखाएं संचालित है. साथ ही नेपाल में भी एक शाखा का संचालन किया जा रहा है, जिसमें करीब 9000 से भी अधिक मानसिक रूप से पीड़ित लोगों को रखा जा रहा है. साथी महिलाओं के लिए अलग से रहने की व्यवस्था आश्रम द्वारा की जा रही है.

    Tags: Rajasthan news, Udaipur news

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें