Udaipur/Dungarpur: NH-8 पर उपद्रवियों का तांडव थमा, शांति बहाली की राह खुली, धरना समाप्त

जनप्रतिनिधियों और अधिकारियों के साथ अभ्यर्थियों के प्रतिनिधिमण्डल ने हाई-वे स्थित धरना स्थल तक पैदल मार्च किया.
जनप्रतिनिधियों और अधिकारियों के साथ अभ्यर्थियों के प्रतिनिधिमण्डल ने हाई-वे स्थित धरना स्थल तक पैदल मार्च किया.

उदयपुर संभाग में उदयपुर-डूंगरपुर (Udaipur-Dungarpur) जिले की सीमा पर चल रहा हिंसक प्रदर्शन (Violent demonstration) अब थम गया है. प्रदर्शनकारियों ने वार्ता के बाद धरना समाप्त कर दिया है.

  • Share this:
उदयपुर/डूंगरपुर. दोनों जिले की सीमा पर नेशनल हाई-वे पर चल रहा उपद्रवियों का तांडव (Violence) थम गया है, लेकिन इस बीच ऋषभदेव में रविवार देर रात तक पथराव होता रहा. अब एनएच 8 पर हालात सामान्य (Situation normal) हो चुके हैं और आवाजाही शुरू हो गई है. कानून एवं शांति व्यवस्था (Law and order) बनाए रखने के लिए मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के निर्देशों पर रविवार रात को खेरवाड़ा पंचायत समिति सभागार में जनजाति अभ्यर्थियों के साथ अधिकारियों, जनप्रतिनिधियों और सामाजिक संगठनों के प्रतिनिधियों की संयुक्त बैठक हुई. इसमें शांति की राह खुल गई और जनजाति अभ्यर्थियों ने डूंगरपुर जिले की कांकरी डूंगरी से अपना धरना समाप्त कर दिया.

शांति बहाली की राह तलाशी
जनजाति क्षेत्रीय विकास मंत्री अर्जुनसिंह बामनिया की मौजूदगी में आयोजित बैठक में उदयपुर सांसद अर्जुनलाल मीणा, बांसवाड़ा-डूंगरपुर सांसद कनकमल कटारा, पूर्व केबिनेट मंत्री महेन्द्रजीतसिंह मालवीया व दयाराम परमार, पूर्व सांसद रघुवीरसिंह मीणा व ताराचंद भगोरा, डूंगरपुर विधायक गणेश घोघरा, सागवाड़ा विधायक रामप्रसाद, चौरासी विधायक राजकुमार रोत, पूर्व विधायक सुशील कटारा व देवन्द्र कटारा सहित अन्य सभी सामाजिक संगठनों के प्रतिनिधियों ने जनजाति अभ्यर्थियों के प्रतिनिधिमण्डल के साथ तसल्ली से चर्चा की. बैठक में आंदोलन के विषय, लोकशांति कायम करने और आंदोलन के शांतिपूर्ण समाधान की राह पर विचार विमर्श करते हुए शांति बहाली की राह तलाशी.

राजस्थान पंचायत चुनाव: प्रथम चरण के लिये 31 लाख से अधिक मतदाता आज चुनेंगे 947 पंचायतों में गांव की सरकार
ये अधिकारी रहे मौजूद


सभी जनप्रतिनिधियों और प्रशासनिक व पुलिस अधिकारियों की समझाइश व सुझाव के बाद जनजाति अभ्यर्थियों ने धरना समाप्त करने पर सहमति जताई. इसके बाद जनप्रतिनिधियों व अधिकारियों के साथ अभ्यर्थियों के प्रतिनिधिमण्डल ने हाई-वे स्थित धरना स्थल तक पैदल मार्च किया और आमजन में शांति बहाली का विश्वास जताया. इस मौके पर राज्य स्तर से पहुंचे पुलिस महानिदेशक (अपराध) एम.एल. लाठर, जयपुर पुलिस कमीश्नर आनन्द श्रीवास्तव और अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक (भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो) एम.एन. दिनेश के साथ ही उदयपुर संभागीय आयुक्त विकास एस भाले, आईजी बिनीता ठाकुर, उदयपुर जिला कलक्टर चेतन देवड़ा, डूंगरपुर कलक्टर कानाराम समेत प्रशासनिक व पुलिस अधिकारी मौजूद थे.

Rajasthan: गहलोत सरकार ने बिजली पेनल्टी को लेकर किसानों को दी बड़ी राहत

मुख्यमंत्री के निर्देश पर शनिवार रात को पहुंचे थे 3 वरिष्ठ पुलिस अधिकारी
उल्लेखनीय है कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने शनिवार रात को उदयपुर एवं डूंगरपुर जिलों में हिंसक प्रदर्शनों की स्थिति पर राज्य स्तरीय पुलिस व प्रशासनिक अधिकारियों के साथ लगातार बैठकों के माध्यम से हिंसा-प्रभावित क्षेत्रों में कानून-व्यवस्था की स्थिति की समीक्षा की थी. उसके बाद अधिकारियों को स्थिति पर नियंत्रण के लिए आवश्यक कार्रवाई के निर्देश दिए थे. मुख्यमंत्री ने उच्च-स्तरीय बैठकों के बाद प्रदर्शनकारियों के साथ बातचीत कर स्थिति को नियंत्रण में रखने तथा कानून-व्यवस्था के दृष्टिगत पुलिस महानिदेशक लाठर, जयपुर पुलिस कमीश्नर आनन्द श्रीवास्तव और अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक (भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो) एम.एन. दिनेश सहित अन्य अधिकारियों को रात में ही हेलीकॉप्टर से डूंगरपुर भेजा था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज