Home /News /rajasthan /

Mavli-Bari Sadri Railway line तैयार, 82.55 KM लंबी ट्रैक पर 91 अंडर पास, 6 बड़े स्टेशन, जानें सबकुछ

Mavli-Bari Sadri Railway line तैयार, 82.55 KM लंबी ट्रैक पर 91 अंडर पास, 6 बड़े स्टेशन, जानें सबकुछ

mavli bari sadri railway line: 82.55 किमी लंबे ट्रैक पर वल्लभनगर, कानोड़, खेरोदा, भींडर और बांसी में स्टेशन बनाए गए हैं.

mavli bari sadri railway line: 82.55 किमी लंबे ट्रैक पर वल्लभनगर, कानोड़, खेरोदा, भींडर और बांसी में स्टेशन बनाए गए हैं.

mavli bari sadri gauge conversion Latest News: भारतीय रेलवे (Indian Railways) ने राजस्थान के रेल यात्रियों को बड़ी सौगात दी है. मावली से बड़ी सादड़ी के बीच 6 स्टेशन बनाए गए हैं. 420 करोड़ रुपये खर्च कर ब्रॉडगेज लाइन के ट्रैक की सौगात देने जा रहा है. सब कुछ ठीक-ठाक रहा तो फरवरी अंत तक इस लाइन पर रेल संचालन की अनुमति मिलने की पूरी संभावना है. इस ट्रैक पर मावली के बाद वल्लभनगर, कानोड़, खेरोदा, भींडर, बांसी और बड़ी सादड़ी में स्टेशन बनाए गए हैं. इस रेलवे लाइन पर 91 अंडर पास और 128 पुलिया बनाई गई है. फरवरी में इसकी सीआरएस जांच होगी. रेलवे के अधिकारियों ने बताया कि मावली से बड़ी सादड़ी ब्रॉडगेज लाइन 5 साल में बनकर तैयार हुई है.

अधिक पढ़ें ...

उदयपुर. मावली से बड़ी सादड़ी 82.55 किलोमीटर की ब्रॉडगेज लाइन ( Mavli-Badi Sadri Broad gauge)  लगभग बनकर तैयार हो चुकी है. इस रेललाइन (Rail line) पर मावली के बाद वल्लभनगर, कानोड़, खेरोदा, भींडर, बांसी और बड़ी सादड़ी  में रेलवे स्टेशन (railway station) बनाए गए हैं. रेलवे के अधिकारियों का कहना है कि इस लाइन की कमीशन ऑफ रेलवे सेफ्टी (सीआरएस) जांच फरवरी के पहले सप्ताह में होगी. बड़ी सादड़ी से नीमच तक की लाइन अभी नहीं बनी है. इससे ट्रैक एमपी से नहीं जुड़ पाएगा, लेकिन इस ट्रैक पर लोकल रेलगाड़ी चलने की उम्मीद जताई जा रही है.

रेलवे से मिली जानकारी के मुताबिक, मावली से बड़ी सादड़ी ब्रॉडगेज लाइन 420 करोड़ की लागत से 5 साल में बनकर तैयार हुआ है. फिलहाल, इस लाइन पर मशीन से ट्रैक बिछाने का काम किया जा रहा है. फरवरी में इसकी सीआरएस जांच होगी.

420 करोड़ की लागत आई, बनने में लगे 5 साल

रेलवे के अधिकारियों ने बताया कि मावली से बड़ी सादड़ी ब्रॉडगेज लाइन 5 साल में बनकर तैयार हुई है. इस ट्रैक पर 420 करोड़ रुपये खर्च हुए हैं. इस लाइन पर अभी मशीनों से ट्रैक बिछाए जा रहे हैं. ट्रैक का काम भी कुछ किलोमीटर का ही रह गया है. इसके अलावा अन्य सभी काम पूरे हो चुके हैं. फरवरी के  में सीआरएस जांच करेंगे. सब कुछ सही रहा तो फरवरी अंत तक इस लाइन पर ट्रेन संचालन की अनुमति मिलने की पूरी संभावना है.

करीब 47 किलोमीटर की रेल लाइन प्रस्तावित
मावली से बड़ी सादड़ी तक का क्षेत्र उत्तर-पश्चिम रेलवे (North Western Railway) के अधीन आता है. वहीं बड़ी सादड़ी से नीमच तक का काम पश्चिम रेलवे के अधीन आता है. करीब 47 किलोमीटर की यह रेल लाइन प्रस्तावित है. इसकी लाइन की बजट में घोषणा के साथ सर्वे हो चुका है. लेकिन अब तक इस लाइन के लिए भूमि अवाप्ति का काम नहीं हो पाया है.

ये भी पढ़ें: जैसलमेर में मालगाड़ी के 15 वैगन पटरी से उतरे, 4 ट्रेनें कैंसिल, चेक करें पूरी लिस्ट

मावली से सादड़ी तक छह रेलवे स्टेशन बनाए
इस रेल लाइन पर मावली के बाद वल्लभनगर, कानोड़, खेरोदा, भींडर, बांसी और बड़ी सादड़ी में 6 स्टेशन बनाए गए हैं. जानकारों का कहना है कि चित्तौड़ रेलवे स्टेशन से ट्रेनों का आवागमन बढ़ गया है. इसके और बढ़ने की संभावना है. ऐसे में मावली से नीमच लाइन बनने पर कोटा सहित अन्य जगहों पर जाने के लिए मार्ग उपलब्ध होगा.

Tags: Indian Railways, Rajasthan news, Udaipur news

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर