होम /न्यूज /राजस्थान /Udaipur: भक्ति में लीन पुजारी ने सीने पर उगाए 21 KG के ज्‍वारे, जानें पूरा मामला

Udaipur: भक्ति में लीन पुजारी ने सीने पर उगाए 21 KG के ज्‍वारे, जानें पूरा मामला

Udaipur News: नवरात्रि के दौरान उदयपुर जिले के अंजयपुरा गांव के पुजारी ने अनूठा संकल्‍प ले रखा है. उन्‍होंने अपने सीने ...अधिक पढ़ें

रिपोर्ट- निशा राठौड

उदयपुर. राजस्थान के उदयपुर जिले में एक पुजारी की अनोखी तपस्या सामने आई है. माता के भक्त ने नवरात्रि में अन्न जल का त्याग कर रखा है और अपने शरीर पर 21 किलो वजनी ज्वारे उगा रखे हैं. यह ज्‍वारे आज यानी नवरात्रि के अंतिम दिन विसर्जन किए जाएंगे.पुजारी ने यह संकल्प पांच साल के लिए लिया है. यह देवी की भक्ति की महिमा है जिसके आगे सब अपना शीश नमाते हैं.

उदयपुर जिले के झाड़ोल उपखंड के ओगणा कस्बे के पास ही अजयपुरा गांव है. वहीं इष्ट देवी धारा माताजी का मंदिर है. इस मंदिर में पुजारी केशुलाल एक अनूठी तपस्या में लीन हैं.वह आठ दिन से बिना अन्न जल ग्रहण किए एक ही मुद्रा में लेटे हुए हैं और उनके सीने पर 21 किलो का एक पात्र रखा हुआ है. इस पात्र में माताजी के ज्वारे उगे हुए हैं. नवरात्रि के नौ दिन तक वे इसी मुद्रा में रहेंगे और आखरी दिन गांव के सरोवर में ये ज्वारे विसर्जन के लिए ले जाए जायेंगे. हर साल नवरात्रि के दिनों में सभी मंदिरों में ज्‍वारे उगाए जाते हैं.

पांच साल की तपस्या का लिया संकल्प
पुजारी केशूलाल पिछले 4 साल से यह तपस्या कर रहे हैं. हर वर्ष शारदीय नवरात्रि में वे ऐसी तपस्या करते हैं. वह लगातार 5 वर्ष तक अपने शरीर पर ज्‍वारे उगाने का प्रण ले चुके हैं. जबकि वह नवरात्रि स्थापना के सात दिन पहले से ही अन्न जल छोड़ कर खुद को तैयार करते हैं. उनको देखने दूर दूर से लोग आ रहे हैं. स्थानीय निवासियों का कहना है कि पुजारी पिछले चार सालों से इसी तरह से सीने ज्वारे उगा रहे हैं और नो दिनों तक किसी भी प्रकार का कोई भी खाद्य पदार्थ या लिक्विड नही पीते और न ही मल मूत्र का त्याग करते हैं. कई बार डॉक्टरों ने भी इनकी जांच की,लेकिन यह माता का चमत्कार ही है की वह पूरी तरह से स्वस्थ हैं.

Tags: Navaratri, Udaipur news

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें