होम /न्यूज /राजस्थान /Udaipur: ब्रेन स्टोक (लकवा) है तो घबराए नहीं, मैकेनिकल ओम्बेक्टोमी प्रक्रिया से इलाज संभव

Udaipur: ब्रेन स्टोक (लकवा) है तो घबराए नहीं, मैकेनिकल ओम्बेक्टोमी प्रक्रिया से इलाज संभव

एमआरआई स्कैन से ऐसा लगा कि मस्तिष्क के दाहिने आधे हिस्से को आपूर्ति करने वाली एक प्रमुख धमनी बंद हो गई है. इसको ठीक करन ...अधिक पढ़ें

    निशा राठौड़

    उदयपुर. राजस्थान के उदयपुर के पारस अस्पताल की न्यूरो टीम को 55 वर्षीय व्यक्ति को मैकेनिकल ओम्बेक्टोमी की इलाज की प्रक्रिया के द्वारा ठीक करने में सफलता मिली है. इस प्रक्रिया में ब्लॉक हो चुकी रक्त वाहिकाओं में से बिना चीर-फाड़ के बड़े क्लॉट को निकाला गया. यह प्रक्रिया स्ट्रोक के शुरुआत के 24 घंटे बाद तक भी की जा सकती है. यह बहुत जटिल प्रक्रिया थी, जिसे उदयपुर के पारस अस्पताल के सीनियर कंसल्टेंट न्यूरोलॉजी एंड इंटरवेंशनल न्यूरो फिजिशियन डॉ. तरुण माथुर और सीनियर कंसल्टेंट न्यूरोलॉजी डॉ. मनीष कुलश्रेष्ठ की न्यूरो टीम ने सफल बनाया.

    मिली जानकारी के मुताबिक निम्बाहेड़ा के 55 वर्षीय व्यक्ति के मस्तिष्क के दाहिने आधे हिस्से को आपूर्ति करने वाली एक प्रमुख धमनी बंद हो गई थी. इसके कारण मरीज का बायां हाथ और पैर काम नहीं कर रहा था. अस्पताल में उनके सिर का एमआरआई स्कैन किया गया जिसमें पता चला कि मस्तिष्क के दाहिनी तरफ इन्फास्ट है.

    एमआरआई स्कैन से ऐसा लगा कि मस्तिष्क के दाहिने आधे हिस्से को आपूर्ति करने वाली एक प्रमुख धमनी बंद हो गई है. इसको ठीक करने के लिए मैकेनिकल ओम्बेक्टोमी के द्वारा इलाज जरूरी था. फिर डॉक्टरों ने उनके परिवारवालों को समझाया और अंत में इस प्रक्रिया में मस्तिष्क के दाहिने आधे हिस्से की आपूर्ति करने वाली बड़ी धमनी से थ्रोम्बस को तार के द्वारा हटा दिया गया. उपचार के बाद मरीज वापस ठीक होने की स्थिति में आने लगा और उसके हाथ-पैर में मूवमेंट होने लगी. हालांकि, अब मरीज ठीक हैं और अपना स्वयं का कार्य खुद कर पा रहे हैं. यह प्रक्रिया न्यूरो कैथलैब में की गई थी.

    क्या होता है ब्रेन स्टोक

    ब्रेन स्टोक को आम भाषा में लकवा रोग कहा जाता है. इस रोग में अचानक से व्यक्ति के शरीर में रक्त संचार में ब्लॉकेज आ जाती है. इस वजह से शरीर का कोई अंग कार्य करना बंद कर देता है. सामान्य रूप में माना जाता है कि ब्रेन स्ट्रोक के चार घंटे के भीतर यदि व्यक्ति को अस्पताल पहुंचा दिया जाए तो उसका इलाज संभव है.

    Live location-
    पारस हॉस्पिटल्स, उदयपुर 089290 16897
    https://maps.app.goo.gl/HtqjARqTxQU4HeaKA

    Tags: Health News, Latest Medical news, Rajasthan news in hindi, Udaipur news

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें