लाइव टीवी

'पैडल टू जंगल' यात्रा का आगाज, IG बिनीता ठाकुर ने हरी झंडी दिखाकर किया रवाना
Udaipur News in Hindi

Kapil Shrimali | News18 Rajasthan
Updated: February 7, 2020, 4:40 PM IST
'पैडल टू जंगल' यात्रा का आगाज, IG बिनीता ठाकुर ने हरी झंडी दिखाकर किया रवाना
'पैडल टू जंगल' के तहत 150 किलोमीटर की होगी यात्रा.

उदयपुर (Udaipur) में आज से तीन दिवसीय 'पैडल टू जंगल' का शुभारंभ हुआ. ईको टूरिज्म को बढ़ावा देने के लिए वन विभाग की और पैडल टू जंगल (Pedal To Jungle) का आयोजन किया जा रहा है जिसमें देश के विभिन्न राज्यों के साइक्लिस्ट भाग ले रहे हैं.

  • Share this:
उदयपुर. राजस्‍थान के उदयपुर (Udaipur) में आज से तीन दिवसीय 'पैडल टू जंगल' का शुभारंभ हुआ. उदयपुर रेंज की आईजी बिनीता ठाकुर (IG Binita Thakur) ने हरी झंडी दिखाकर साइक्लिस्ट को जंगल सफारी का मजा लेने हेतु रवाना किया. ईको टूरिज्म को बढ़ावा देने के लिए वन विभाग की और से लगातार तीसरे वर्ष पैडल टू जंगल (Pedal To Jungle) का आयोजन किया जा रहा है जिसमें देश के विभिन्न राज्यों से साइक्लिस्ट भाग ले रहे हैं. इस बार पैडल टू जंगल का सफर खास रोमांचकारी होगा, क्‍योंकि ये दल महाराणा प्रताप को नमन भी करेगा.

पैडल टू जंगल की ये है थीम
इस बार की थीम में जंगलों के बीच से जो रास्ता चुना गया है उसमें ऐसे कई स्थानों से होकर साइकिल यात्रा गुजरेगी जहं महाराणा प्रताप के जीवनकाल का महत्वपूर्ण समय गुजरा है. ईको टूरिज्म को बढ़ावा देने के मकसद से तीन वर्ष पूर्व पैडल टू जंगल की शुरुआत की गई थी और धीरे-धीरे देश भर के साइक्लिस्ट की रूचि इस और बढ़ने लगी है. लगातार तीन वर्षों से मेवाड के विभिन्न जंगलों से होकर यह साइकिल यात्रा गुजरती है, जोकि पर्यावरण से भी अपना जुड़ाव बढ़ाते हैं. इस यात्रा से लोगों में पर्यावरण के प्रति लगाव बढ़ रहा है, तो वहीं जंगल के रास्ते वहां की परिस्थितियां और उनसे निपटने के विभिन्न तरीके भी समझने को मिल रहे हैं.

यहां के लोग ले रहे हैं हिस्‍सा

इस बार भी वन विभाग ने पैडल टू जंगल यात्रा के लिए आवेदन मांगे थे और तीस लोगों के तुरन्त रजिस्ट्रेशन भी करा लिया. इस यात्रा को लेकर वन विभाग ने विभिन्न क्षेत्रों में रात्रि विश्राम की भी व्यवस्थाएं की हैं. पैडल टू जंगल के तीसरे संस्करण की लोकप्रियता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता हैं कि यहां राजस्थान के उदयपुर, जयपुर, जोधपुर, कोटा के अलावा नागपुर, मुंबई, चेन्नई, दिल्ली, गुजरात, हरियाणा सहित देश के अन्य हिस्सों से प्रकृति प्रेमी हिस्सा ले रहे हैं. साइकिल सफारी को लेकर महिलाओं में भी उत्साह देखा जा रहा है और करीब छह महिलाएं भी तीन दिन तक साइकिल सफारी करेंगी.

साइकिल सफारी आयोजकों ने कही ये बात
साइकिल सफारी आयोजन के मुख्य संमन्वयक और रिटायर्ड आईएफएस राहुल भटनागर ने बताया कि शुक्रवार को साइकिल यात्री फहतसागर पाल से रवाना होकर रानी रोड, बड़ी, छोटा मदार, गोडान कला, धार, उबेश्वरजी, भाटा गांव होते हुए श्रीराम गांव स्थित केम्प साइट पहुंचेगी. दूसरे दिन का सफर श्रीराम गांव से प्रांरभ होकर गोगुन्दा, रावलिया कला, पानेर, बरवाड़ा, ओड़ा, केलवाड़ा, गवार होकर बेला बसेरा रिसोर्ट पर थमेगा. जबकि तीसरे दिन साइकिल सवार प्रकृति प्रेमी बेला बसेरा रिसोर्ट से निकलकर गवार, केलवाड़ा, बीड की भागल, कुंभलगढ़ सेंचुरी गेट, दाना बट्टा, ठण्डी बेरी होते हुए मुछाला महावीर तक पहुंचेंगे. जबकि यात्रा के समापन समारोह में मुख्य वन संरक्षक आरके सिंह, राजसमंद उप वन संरक्षक फतेहसिंह राठौड़ के साथ कई अन्‍य प्रमुख लोग भी होंगे. 

ये भी पढ़ें-

RPSC के खिलाफ धरना दे रहे बेरोजगार अभ्यर्थियों ने मांगी 'भीख',ये है पूरा मामला

 

Magha Purnima: माघी पूर्णिमा में गंगा स्नान से पुण्य, जानें कब है शुभ मुहूर्त

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए उदयपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 7, 2020, 4:32 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर