राजस्थान: स्कूटी से जा रहे पति-पत्नी पर गिरा पीपल का पेड़, एक की मौके पर मौत, दूसरे की हालत गंभीर

मौके पर मौजूद लोग शाहिद को समीप के एक निजी चिकित्सालय में लेकर पहुंचे लेकिन तब तक वह दम तोड़ चुका था.

भूपालपुरा थाना (Bhupalpura Police Station) अधिकारी संजय शर्मा ने बताया कि बुगाटी निवासी शाहिद की इस हादसे में मौत हुई है और उसकी पत्नी आसमा का हॉस्पिटल में इलाज चल रहा है.

  • Share this:
उदयपुर. उदयपुर (Udaipur) में शनिवार को एक दर्दनाक हादसा सामने आया, जिसमें राह चलती एक स्कूटी पर पीपल का एक बड़ा पेड़ (Peepal Tree) गिर गया. स्कूटी पर पति-पत्नी सवार थे और इस हादसे में पति की मौके पर मौत हो गई. साथ ही पत्नी गंभीर घायल हुई है. भूपालपुरा इलाके (Bhupalpura Locality) में हुए इस हादसे के बाद मौके पर अफरातफरी मच गई. मानसून से पहले  जर्जर अवस्था के पेड़ों को काटने का कार्य निगम द्वारा किया जाता है. ऐसे में निगम की बड़ी लापरवाही भी सामने आई है. मठ इलाके में एक चबूतरे पर एक बड़ा पीपल का पेड़ उगा हुआ है. पीपल के पेड़ का एक बड़ा भाग अचानक टूट कर सड़क पर गिर गया. सड़क पर वाहनों की आवाजाही थी. इस समय शाहिद नाम का एक व्यक्ति अपनी पत्नी के साथ गुजर रहा था. यह पेड़ शाहिद की गाड़ी पर आ गिरा. हादसे की भयावहता का अंदाजा इस बात से ही लगाया जा सकता है कि शाहिद (Shahid) की मौके पर ही मौत हो गई और उसकी पत्नी आसमा के सिर में चोट लगने से घायल है.

भूपालपुरा थाना अधिकारी संजय शर्मा ने बताया कि बुगाटी निवासी शाहिद की इस हादसे में मौत हुई है और उसकी पत्नी आसमा का हॉस्पिटल में इलाज चल रहा है. जानकारी के अनुसार शाहिद अपनी पत्नी आसमा को लेकर उसके पीहर अलीपुरा इलाके में आया था. दोनों शाम होने पर स्कूटी से पुनः अपने घर लौट रहे थे. उसी दौरान सड़क किनारे पेड़ अचानक उन पर गिर पड़ा. शाहिद और आसमा पेड़ के नीचे दब गए. वहीं उनकी गाड़ी भी पूरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गई. आसपास में मौजूद लोगों की भीड़ मौके पर जमा हो गई और कड़ी मशक्कत कर पेड़ के नीचे दबे पति पत्नी को बाहर निकाला गया.

वहीं आसमा को इलाज के लिए भर्ती कराया गया
मौके पर मौजूद लोग शाहिद को समीप के एक निजी चिकित्सालय में लेकर पहुंचे लेकिन तब तक वह दम तोड़ चुका था. वहीं आसमा को इलाज के लिए भर्ती कराया गया. पेड़ के नीचे दबने से युवक की मौत के इस मामले में नगर निगम की बड़ी लापरवाही को उजागर किया है. निगम मानसून से पहले जर्जर अवस्था के पेड़ों की छटनी कराने का दावा करती है. लेकिन इस बार निगम ने ऐसे कोई कार्य नहीं किए जिससे कमजोर पेड़ों को हटाया जा सके. और शायद निगम की इसी लापरवाही का खामियाजा शाहिद को भुगतना पड़ा. हालांकि हादसे की सूचना मिलने के तुरंत बाद निगम के उपमहापौर पारस सिंह भी मौके पर पहुंचे और घटना की जानकारी ली. हीं निगम का अग्निशमन दस्ता भी घटनास्थल पर आया और रास्ते में गिरे पेड़ को हटाया साथ ही पीपल के पेड़ की छंटनी भी की.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.