PM मोदी का मंत्रः उदयपुर पुलिस ने आपदा को अवसर में बदला, 45 फरार बदमाशों को दबोचा
Udaipur News in Hindi

PM मोदी का मंत्रः उदयपुर पुलिस ने आपदा को अवसर में बदला, 45 फरार बदमाशों को दबोचा
पुलिस ने उदयपुर, चित्तौड़गढ़, राजसमंद, बांसवाड़ा, डूंगरपुर, भीलवाड़ा, अजमेर, ब्यावर सहित मध्यप्रदेश और गुजरात के अलग-अलग जिलों में बदमाशों की पड़ताल की.

वैश्विक महामारी कोविड (COVID-19) के दौर में उदयपुर पुलिस ने पीएम नरेन्द्र मोदी की 'आपदा को अवसर में बदलने' की बात को अपनाते हुए अनूठी मुहिम चलाकर 45 बदमाशों को सलाखों के पीछे पहुंचा दिया.

  • Share this:
उदयपुर. वैश्विक महामारी कोविड (COVID-19) के दौर में उदयपुर पुलिस ने पीएम नरेन्द्र मोदी (PM Narendra Modi) की 'आपदा को अवसर में बदलने' की बात को अपनाते हुए अनूठी मुहिम चलाकर 45 बदमाशों को सलाखों के पीछे पहुंचा दिया. पुलिस ने इस अवधि में लंबे समय से फरार चल रहे बदमाशों को पकड़ने के लिए प्लम्बर, ठेकेदार और कोरोना सर्वे टीम सहित अलग-अलग रूप धर कर उनके घर और अन्य ठिकानों पर दबिशें दी. पुलिस का अनुमान था कि इस आपदा में ये बदमाश घरों पर ही मिलेंगे. लिहाजा पुलिस ने मौके का फायदा उठाकर अपनी रणनीति बनाई और उसमें सफलता प्राप्त की. प्रतापनगर थाना पुलिस ने 1 महीने के भीतर अलग-अलग रूप धरकर 45 स्थाई वारंटियों और वांछित अपराधियों को धरदबोचा.

मध्य प्रदेश और गुजरात भी गई पुलिस

प्रतापनगर थाना पुलिस ने इन अपराधियों को पकड़ने के लिए कई रूप बदले. कुछ जगह पुलिस प्लम्बर बनकर पहुंची तो कहीं ठेकेदार बनकर उनके ठिकानों पर दबिशें दी. कुछ जगह तो ऐसी भी रही जहां कोरोना सर्वे तक करने के नाम पर हाथों में रजिस्टर लिए पुलिस की टीम ने बदमाशों के दरवाजों पर दस्तक दी और फिर उनको गिरफ्तार किया. प्रतापनगर थानाधिकारी विवेक सिंह ने बताया कि जिले में चल रहे स्थाई वारंटियों और वांछित अपराधियों की धरपकड़ अभियान के तहत 1 जुलाई से 31 जुलाई के बीच प्रतापनगर पुलिस ने उदयपुर, चित्तौड़गढ़, राजसमंद, बांसवाड़ा, डूंगरपुर, भीलवाड़ा, अजमेर, ब्यावर सहित मध्यप्रदेश और गुजरात के अलग-अलग जिलों में बदमाशों की पड़ताल की.



Ayodhya Ram Mandir Bhumi Pujan: उदयपुर के सलिल सिंघल पीएम मोदी के साथ मंच पर रहेंगे मौजूद
2 पुलिसकर्मी भी कोरोना की चपेट में आए

ये सभी बदमाश पिछले 10 से 15 बरसों से फरार थे. इनके खिलाफ कार्रवाई के दौरान पूरी सतर्कता बरतते हुए भी थाने के दो पुलिसकर्मी कोरोना पॉजिटिव तक हो गए, लेकिन पुलिस टीम ने अपनी कार्रवाइयां जारी रखी. कार्रवाई के दौरान पुलिस टीम बदमाशों के घरों तक मुखबिर की सूचना पर पहुंची. वहां पुलिसकर्मी हमेशा सिविल ड्रेस में गए. कुछ बदमाश इस कोरोना काल में भी घर नहीं पहुंचे तो उनके घरवालों को फोन कर एक्सीडेंट होने सहित अन्य बहाने बनाकर उसके नंबर लिए और उन तक पहुंचे. थाने की पुलिस टीम ने एक-दूसरे के सहयोग से 1 महीने में 45 वांछित बदमाशों और स्थाई वारंटियों को पकड़ा है. इस दौरान ऐसे बदमाश भी पकड़े गए जो कोरोना संक्रमित निकले. उनसे 2 पुलिसकर्मी भी कोरोना संक्रमण की चपेट में आ गए.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज