सरपंच चुनाव: मौताणा की मांग से जीत की खुशी हुई काफूर, 'गायब' हुईं नवनिर्वाचित सरपंच

राजस्थान के उदयपुर जिले के झाडोल कस्बे की चंदवास ग्राम पंचायत की नई प्रधान गीता देवी वडेरा जीत के बाद गायब हैं. (फाइल फोटो)

राजस्थान के उदयपुर जिले के झाडोल कस्बे की चंदवास ग्राम पंचायत की नई प्रधान गीता देवी वडेरा जीत के बाद गायब हैं. (फाइल फोटो)

राजस्थान के उदयपुर जिले (Udaipur District) के झाडोल कस्बे की चंदवास ग्राम पंचायत की नई प्रधान गीता देवी वडेरा (Geeta Devi Wadera) जीत के बाद गायब हैं. इसकी वजह हैरान करने वाली है. दरअसल वह मौताणा की मांग के कारण परेशान हैं.

  • Share this:
उदयपुर. राजस्थान के उदयपुर जिले (Udaipur District) के झाडोल कस्बे के समीप चंदवास ग्राम पंचायत में दूसरे चरण में मतदान हुआ था. मतदान के बाद गीता देवी वडेरा (Geeta Devi Wadera) को जीत हासिल हुई, लेकिन जीत की खुशी तब काफूर हो गई जब एक वोटर की हादसे में मौत हो गई और उसके परिजन मौताणा मांगने के लिए अड़ गये. दरअसल, मतदान के समय एक वोटर अमृत लाल वडेरा ऑटो में बाहर लटककर मतदान के बाद अपने घर जा रहा थे, उस दौरान ऑटो से गिरकर वह घायल हो गए और इलाज के दौरान मौत हो गई. अब नवनिर्वाचित सरपंच का आरोप है कि पांच लाख रुपए का मौताणा मांगा जा रहा है और नहीं देने पर जान से मारने की धमकी भी दी जा रही है.



आदिवासी बाहुल अंचल में है मौताणा प्रथा

दक्षिणी राजस्थान के आदिवासी बाहुल अंचल में मौताणा कुप्रथा के चलते कई दिनों तक लाश को अंतिम संस्कार का इंतजार करना पड़ता है. इस बार भी तीन दिन से झाडोल की मोर्चरी में शव रखा हैं लेकिन मौताणा नहीं सुलटने के चलते परिवार अंतिम संस्कार को तैयार नहीं है. मृतक के परिजनों से लगातार वार्ता भी चल रही हैं, लेकिन पांच लाख रुपए को लेकर मामला सुलटता नजर नहीं आ रहा हैं.

सरपंच  ने कही ये बात
ऐसे में नवनिर्वाचित सरपंच भी अपने घर जाने से भयभीत है. तीन दिनों से घर से गायब सरपंच गीता देवी ने पुलिस के सामने गुहार भी लगाई है और सुरक्षा की मांग भी की है. उनका आरोप है कि इस मामले को वे लोग ज्यादा तूल दे रहे हैं जो चुनाव में उनसे हार गये थे. गीता देवी का कहना है कि उस युवक की मौत में उनकी कोई जिम्मेदारी नहीं बनती है, लेकिन उसके बावजूद उन्हें धमकी देकर डराया जा रहा है.

पुलिस ने कही ये बात



जबकि झाडोल थाना पुलिस इस मामले में गांव में पूरी तरह से सुरक्षा उपलब्ध कराने की बात कह रही है. पुलिस का मानना है कि सरंपच गीता देवी यदि उन्हें लिखित रिपोर्ट देगी तो वे नियमानुसार उस पर कार्रवाई करेंगे. यहीं नहीं, पुलिस ने मृतक के परिजनों को सूचना दे दी है, लेकिन तीन दिन से परिजन पुलिस स्टेशन नहीं पहुंचे हैं. ऐसे में पुलिस परिजनों के आने के बाद ही पोस्टमार्टम की कार्रवाई कर सकेगी. पुलिस मौताणे जैसे किसी भी मामले से साफ इंकार कर रही है.



 



ये भी पढ़ें-



JLF 2020: साहित्य के महाकुंभ में प्रसून जोशी का जलवा, कविता पर भावुक हुए लोग



 



सरपंच चुनाव: 'अलमारी' के चक्कर में पंचायत चुनाव में कूदे 3 पिता-पुत्र
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज