उदयपुर की जेल में कैदी ने की खुदकुशी, शव लिए बिना परिजन लौटे, लगाया हत्या का आरोप

पुलिस थाने में एक आरोपी ने की खुदकुशी (प्रतीकात्मक तस्वीर)
पुलिस थाने में एक आरोपी ने की खुदकुशी (प्रतीकात्मक तस्वीर)

जगदीश के परिजनों ने जेल की सुरक्षा के बीच आत्महत्या पर सवाल खड़े किए और हत्या होने का अंदेशा जताया. परिवार के सदस्यों ने हत्या का अंदेशा जताने के साथ ही जगदीश का शव लेने से मना कर दिया और शव लिए बिना ही मौके से चले गए.

  • News18Hindi
  • Last Updated: June 11, 2020, 11:21 PM IST
  • Share this:
उदयपुर. उदयपुर (Udaipur) के मावली उप कारागृह में एक कैदी (Prisoner) ने फांसी लगाकर आत्महत्या (suicide) कर ली. जेल के अंदर आत्महत्या करने की सूचना से हड़कंप मच गया है. जेल के अंदर सुरक्षा पर भी सवाल खड़े होने लगे. कैदी द्वारा आत्महत्या की सूचना जेल प्रबंधन ने मावली थाना पुलिस को दी. पुलिस ने आकर अग्रिम कार्रवाई की. खुदकुशी करने वाले कैदी की पहचान जगदीश कालबेलिया के रूप में हुई.

दुधमुंही बेटी की हत्या का आरोपी था

जगदीश कालबेलिया पर 25 मई को अपनी 2 साल की बेटी की हत्या का आरोप है. ऐसे में पुलिस ने जगदीश को गिरफ्तार किया और फिर पूछताछ पूरी होने के बाद न्यायालय के आदेश से उसे जेल भेज दिया था. आज जगदीश ने जेल के अंदर महिला बैरक के बाथरूम के रोशनदान में टॉवल से फंदा लगाकर आत्महत्या कर ली. जेल प्रबंधन के अनुसार उसी समय स्टाफ को जानकारी हो गई, ऐसे में उसे तड़पते हुए ही नीचे उतारा गया और चिकित्सकों ने आकर जब जांच की तब तक उसकी मौत हो चुकी थी.



अवसाद में था कैदी
जेल में बंद होने के बाद जगदीश पिछले कुछ दिनों से मानसिक अवसाद में था और प्रतिदिन जेल के स्टाफ से जमानत के लिए पूछता रहता था. जेल में जगदीश की मानसिक स्थिति बिगड़ने लगी थी और यही वजह है कि उसका जेल में बर्ताव की काफी हद तक बदला था. मानसिक रूप से परेशान हो चुके जगदीश ने शायद अपना मानसिक संतुलन खो दिया और आत्महत्या का निर्णय लिया.

परिजनों ने लगाया हत्या का आरोप

जगदीश द्वारा की गई आत्महत्या की सूचना मावली थाना पुलिस को दी गई. उसके बाद पुलिस के आला अधिकारी तुरंत उपकारागृह पहुंचे और तफ्तीश शुरू की. इस बीच जगदीश के परिजनों को भी सूचना दी गई. जगदीश के परिजनों ने जेल की सुरक्षा के बीच आत्महत्या पर सवाल खड़े किए और हत्या होने का अंदेशा जताया. परिवार के सदस्यों ने हत्या का अंदेशा जताने के साथ ही जगदीश का शव लेने से मना कर दिया और शव लिए बिना ही मौके से चले गए. पुलिस ने समाज के मोतबिरो के साथ वार्ता की और वार्ता के दौरान मजिस्ट्रेट जांच का आश्वासन दिलाते हुए शव को पोस्टमार्टम के लिए मोर्चरी में शिफ्ट कराया.

इन्हें भी पढ़ें :

रेलवे बोर्ड ने जारी किया मानसून टाइम टेबल, आज से बदला इन 11 ट्रेनों का समय

ACB टीम की छापेमारी में पलंग के नीचे छिपा मिला रिश्वत लेने का आरोपी जेई...
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज