डूंगरपुर प्रदर्शनः हिंसा रोकने को RAF की 2 और RAC की 6 कंपनियां तैनात, 24 केस दर्ज

डूंगरपुर में हिंसक प्रदर्शनों को काबू में करने के लिए RAF और RAC की हुई तैनाती. (फोटोः एएनआई)
डूंगरपुर में हिंसक प्रदर्शनों को काबू में करने के लिए RAF और RAC की हुई तैनाती. (फोटोः एएनआई)

Dungarpur Violence: डूंगरपुर में शिक्षकों के पदों को एसटी अभ्यर्थियों से भरे जाने को लेकर शुरू हुआ प्रदर्शन अब भी जारी. 55 पंचायतों में चुनाव स्थगित होने के बाद सरकार ने हालात पर काबू पाने के लिए RAF और RAC के जवानों को तैनात किया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 28, 2020, 12:41 AM IST
  • Share this:
डूंगरपुर. राजस्थान में 1167 पदों पर शिक्षक भर्ती को लेकर शुरू हुआ प्रदर्शन (Dungarpur Violence) अब भी थमा नहीं है. डूंगरपुर में हिंसक प्रदर्शनों के लगातार जारी रहने के बाद आज राज्य निर्वाचन आयोग ने उदयपुर जिले की 55 ग्राम पंचायतों में कल होने वाले चुनाव (Rajasthan Panchayat Election) भी स्थगित कर दिए हैं. देर रात डूंगरपुर और आसपास के इलाकों में तनावपूर्ण माहौल को देखते हुए रैपिड एक्शन फोर्स (RAF) और राजस्थान सशस्त्र पुलिसबल (RAC) को भी तैनात किया गया. बताया गया कि RAF की दो और RAC की 6 कंपनियों के जवानों की तैनाती की गई है. इधर, राज्य के पुलिसबल के प्रमुख डीजीपी भूपेंद्र सिंह (DGP Bhupendra Singh) ने मीडिया के साथ बातचीत में बताया कि डूंगरपुर में हिंसक प्रदर्शनों को लेकर 24 केस दर्ज किए गए हैं.

इससे पहले आज शाम राज्य निर्वाचन आयोग ने डूंगरपुर हिंसा के मद्देनजर बड़ा फैसला लिया. हिंसक प्रदर्शनों का असर ग्राम पंचायत चुनाव पर न पड़े, इसको देखते हुए आयोग (Election Commission) ने उदयपुर जिले की 55 पंचायतों में होने वाला चुनाव स्थगित कर दिया. इन पंचायतों के लिए कल यानी 28 सितंबर को वोट डाले जाने थे. निर्वाचन आयोग ने उदयपुर में लॉ एंड ऑर्डर के हालात को देखते हुए फिलहाल पंचायत चुनाव स्थगित करने की सूचना जारी कर दी. बताया गया कि उदयपुर के गोगुंदा और सराडा पंचायत समितियों के तहत 55 पंचायतों के चुनाव स्थगित किए गए हैं.


आपको बता दें कि डूंगरपुर में शिक्षक भर्ती-2018 में टीएसपी क्षेत्र के अनारक्षित 1167 पदों को अनुसूचित जनजाति के अभ्यर्थियों से भरने की मांग को लेकर प्रदर्शन शुरू हुआ था, जिसने हिंसक रूप ले लिया. उपद्रवियों ने डूंगरपुर-आसपुर मार्ग जाम कर प्रदर्शन किया और सड़क पर कई वाहनों में आग लगा दी. तनावपूर्ण हालात के मद्देनजर सरकार ने पुलिसबल को तैनात कर दिया, लेकिन स्थिति बिगड़ती देख अब आरएएफ और आरएसी को लगाया गया है. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने प्रदर्शनकारियों से शांति बनाए रखने की अपील की है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज