CM गहलोत सरकार गिराने के आरोप सिद्ध कर देंगे तो राजनीति से ले लूंगा सन्यास- कटारिया
Udaipur News in Hindi

CM गहलोत सरकार गिराने के आरोप सिद्ध कर देंगे तो राजनीति से ले लूंगा सन्यास- कटारिया
नेता विपक्ष गुलाबचंद कटारिया ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत पर आरोप लगाए हैं कि वो अपनी अंदरूनी गुटबाजी को छिपाने के लिए इस षडयंत्र को कर रहे हैं (फाइल फोटो)

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) के बयाव पर नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया (Gulabchand Kataria) खासे आक्रोशित नजर आए. कटारिया ने मुख्यमंत्री के आरोपों पर पलटवार किया और आरोपों को सिद्ध करने की चुनौती दी है

  • Share this:
उदयपुर. राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) ने एसओजी की कार्रवाई में विधायक खरीद-फरोख्त मामले से जुड़े दो लोगों को हिरासत में लिया है. इस मामले में सीएम गहलोत (CM Gehlot) ने शनिवार को प्रेस ब्रीफिंग कर बीजेपी (BJP) के राष्ट्रीय और राज्यस्तरीय नेताओं पर गंभीर आरोप लगाए हैं. उन्होंने बीजेपी के राष्ट्रीय नेतृत्व के इशारे पर गुलाबचंद कटारिया, सतीश पूनिया और राजेंद्र राठौड़ पर प्रदेश की कांग्रेस सरकार को गिराने का षडयंत्र रचने का आरोप लगाया. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के बयाव पर नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया खासे आक्रोशित नजर आए. कटारिया ने मुख्यमंत्री के आरोपों पर पलटवार किया और आरोपों को सिद्ध करने की चुनौती दी है.

कटारिया ने कहा कि मुख्यमंत्री यदि आरोपों को सिद्ध कर देंगे तो वो राजनीति से पलभर में संन्यास ले लेंगे. कटारिया ने मुख्यमंत्री की पूरी प्रेस कांफ्रेंस पर सवाल खड़े किए और साफ किया कि आज (शनिवार) की कांफ्रेंस में मुख्यमंत्री गहलोत की घबराहट नजर आ रही थी. कटारिया ने कहा प्रेस कांफ्रेंस में मुख्यमंत्री द्वारा उपयोग किये गए शब्द उनके स्तर के नहीं थे. मुख्यमंत्री की प्रेस ब्रीफिंग पर गुलाबचंद कटारिया ने कहा कि गहलोत ने राज्यसभा चुनाव के दौरान कई प्रलोभन दिए हैं जिन्हें अब पूरा करना उनके गले की फांस बन रही हैं. यहीं नहीं कटारिया ने इस पूरे प्रकरण में गहलोत सरकार को आरोपों को सिद्ध करने के लिए खुली चुनौती दी.





CM गहलोत के लगाए आरोपों पर कटारिया ने किया पलटवार
कटारिया ने मुख्यमंत्री गहलोत पर आरोप लगाए हैं कि वो अपनी अंदरूनी गुटबाजी को छिपाने के लिए इस षडयंत्र को कर रहे हैं. कटारिया ने कहा कि मुख्यमंत्री को घबराने की क्या आवश्यकता हैं यदि वो पूर्ण बहुमत रखते हैं. उन्होंने मुख्यमंत्री की घबराहट की वजह उनकी सरकार में अंदरूनी विद्रोह होना बताया. नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया ने स्पष्ट किया कि बीजेपी कभी ऐसे कार्यों में रूचि नहीं रखती है, यदि किसी व्यक्ति ने इस तरह का कार्य किया है तो उस पर सख्त कार्रवाई करनी चाहिए.

मुख्यमंत्री गहलोत ने अपनी प्रेस ब्रीफिंग की शुरुआत कोरोना वायरस के खिलाफ किए गए कार्यो से किया. कटारिया ने उस पर भी निशाना साधा. कटारिया ने कहा कि हमने कोरोना काल में राजनीति नहीं करना चाहते हैं लेकिन सरकार ने इस दौरान राशन वितरण में भी भेदभाव किया. कांग्रेसी विधायक अपने राशन किट को अपने फोटो लगवाकर बंटवा रहे थे, जबकि बीजेपी विधायकों के किट प्रशासन से बंटवाए गए. इस मामले में भी सरकार तक शिकायत दर्ज कराई गई लेकिन सरकार जवाब नहीं दे पाई.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading