Home /News /rajasthan /

उदयपुर में होईकोर्ट बेंच की मांग, चपलोत को मिला विधानसभा अध्यक्ष का साथ

उदयपुर में होईकोर्ट बेंच की मांग, चपलोत को मिला विधानसभा अध्यक्ष का साथ

उदयपुर में हाईकोट बेंच की मांग पर अनशन.

उदयपुर में हाईकोट बेंच की मांग पर अनशन.

उदयपुर में हाईकोट बेंच की मांग पर पूर्व विधानसभा अध्यक्ष और बीजेपी सरकार में विधि मंत्री रह चुके शांतिलाल चपलोत आमरण अनशन पर बैठ गए हैं.

    राजस्थान के आदिवासी बाहुल्य उदयपुर जिले में हाईकोट बेंच की खोले जाने की मांग पूरी नहीं होने पर बुधवार को पूर्व विधानसभा अध्यक्ष और बीजेपी सरकार में विधि मंत्री रह चुके शांतिलाल चपलोत आमरण अनशन पर बैठ गए. चपलोत के अनशन की सूचना के बाद विधानसभा अध्यक्ष कैलाश मेघवाल भी चपलोत से मिलने मौके पर पहुंचे. मेघवाल ने यहां चपलोत के साथ बैठे नजर आए. उन्होंने भी उदयपुरवासियों की हाईकोर्ट बेंच की मांग को जायज बताया है.

    उदयपुर में हाईकोर्ट बेंच खोलने की मांग आज की नहीं है बल्कि 36 साल से चल आ रही है. पूर्व विधानसभा शांतिलाल चपलोत अनशन से पहले ऐलान करके सरकार से मांग पूरी करने की चेतावनी दी थी. उन्होंने कहा था कि वे तब तक अनशन पर बैठे रहेंगे जब तक कि बेंच को लेकर स्थायी समाधान नहीं निकल जाए. वहीं उदयपुर बार एसोसिएशन के अध्यक्ष रामकृपा शर्मा के अनुसार आमरण अनशन के कारण कोर्ट परिसर में कामकाज का बहिष्कार किया गया है.

    इससे पहले हाईकोर्ट बेंच आंदोलन के तहत 16 मई से अनशन शुरू करने के चपलोत के ऐलान के बाद सोमवार को यूडीएच मंत्री श्रीचंद कृपलानी और जिले के प्रभारी मंत्री धनसिंह रावत उदयपुर पहुंचे थे. उन्होंने बताया कि रविवार रात को जयपुर में गवर्नर हाउस जयपुर में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के सामने राज्यपाल कल्याण सिंह, सीएम वसुंधरा राजे और विधानसभा अध्यक्ष कैलाश मेघवाल ने यह मुद्दा रखते हुए जरूरत बताई थी.

    इसपर राष्ट्रपति ने सीएम से राज्य सरकार के जरिए प्रस्ताव और वकीलों के 11 सदस्यीय दल को दिल्ली भेजने की बात कही. इसके बाद ही वसुंधरा राजे ने एक प्रतिनिधिमंडल को बुलाया और अब 18 मई को दल वसुंधरा से मिलने पहुंचेगा.

    Tags: Rajasthan high court, Rajasthan news, Udaipur news

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर