Covid-19 : इजाजत न होने के बावजूद कोरोना काल में स्कूल खोला, प्रबंधन को नोटिस
Udaipur News in Hindi

Covid-19 : इजाजत न होने के बावजूद कोरोना काल में स्कूल खोला, प्रबंधन को नोटिस
ब्लॉक शिक्षा अधिकारी अंबालाल के मौके पर पहुंचते ही स्कूल प्रबंधन ने आनन-फानन में बच्चों को स्कूल से बाहर निकाल दिया.

कोरोना काल में स्कूल खोलने का यह गंभीर आरोप सेंट मैथ्यूज सीनियर सेकेंडरी स्कूल प्रबंधन पर लगा है. प्रबंधन द्वारा इस स्कूल को खोलने के फैसले के बाद यहां कक्षा में कई बच्चे बैठकर पढ़ाई कर रहे थे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 4, 2020, 5:04 PM IST
  • Share this:
उदयपुर. उदयपुर (Udaipur) में अनलॉक-4 (Unlock-4) के लिए गाइडलाइन (Guideline) जारी है. इस गाइडलाइन में स्कूलों को खोलने की स्वीकृति नहीं दी गई है. बावजूद उदयपुर के गोगुंदा इलाके में एक स्कूल के प्रबंधन ने स्कूल खोल दिया और कक्षाओं का संचालन कर दिया. कोरोना महामारी के दौर में स्कूल प्रबंधन (School management) का यह कदम न सिर्फ बच्चों के स्वास्थ्य के साथ खिलवाड़ है, बल्कि जिस कोरोना संक्रमण (Corona infection) की चेन तोड़ने की कोशिश की जा रही है, उसे बढ़ाने वाला है. मुमकिन है कि प्रबंधन के इस फैसले से कोरोना का प्रसार थमने की जगह और तेजी से पसरे.

सेंट मैथ्यूज सीनियर सेकेंडरी स्कूल प्रबंधन को नोटिस

कोरोना काल में स्कूल खोलने का यह गंभीर आरोप सेंट मैथ्यूज सीनियर सेकेंडरी स्कूल प्रबंधन पर लगा है. प्रबंधन द्वारा इस स्कूल को खोलने के फैसले के बाद यहां कक्षा में कई बच्चे बैठकर पढ़ाई कर रहे थे. इस बात की जानकारी ब्लॉक शिक्षा अधिकारी तक भी पहुंची. उन्होंने मौके पर जाकर निरीक्षण किया तो स्कूल में बच्चे पढ़ाई करते हुए मिले. हालांकि ब्लॉक शिक्षा अधिकारी अंबालाल के मौके पर पहुंचते ही स्कूल प्रबंधन ने आनन-फानन में बच्चों को स्कूल से बाहर निकाल दिया. फिलहाल शिक्षा विभाग ने स्कूल प्रबंधन को नोटिस जारी किया है और ब्लॉक शिक्षा अधिकारी ने पूरे मामले की जानकारी जिला शिक्षा अधिकारी को भिजवाई है. अब उच्च अधिकारियों के निर्देश पर आगे की कार्रवाई की जाएगी.




अधिकारियों ने कक्षा का संचालन होते देखा

दूसरी और स्कूल प्रबंधन ने शिक्षा विभाग के सामने अपने तर्क रखे हैं. स्कूल प्रबंधन का कहा कहना है कि ये बच्चे अध्यापकों से परामर्श लेने के लिए स्कूल आए थे, जिन्हें कक्षा में बैठाकर बात की जा रही थी. हालांकि विभाग के अधिकारियों की मानें तो उन्होंने मौके पर कक्षा का संचालन होते हुए देखा ओर टीम के स्कूल में पहुंचते ही बच्चों को जल्दबाजी में बाहर निकाला गया. बहरहाल इस मामले में स्कूल प्रबंधन के अपने तर्क हैं. लेकिन शिक्षा विभाग के अधिकारियों द्वारा मौके की स्थिति को देखकर स्कूल को नोटिस दिया गया है. अधिकारियों का मानना हैं कि बच्चों को टीम आने के साथ स्कूल से जबरन बाहर निकाला गया. यदि वे परामर्श के लिये स्कूल आए थे तो उन्हें बाहर निकालने की आवश्यकता क्यों हुई. अब इस मामले में देखना होगा कि शिक्षा विभाग नोटिस के आगे स्कूल पर क्या कार्रवाई करता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज