Home /News /rajasthan /

उदयपुर में प्रशासन को जगाने के लिए आदिवासियों ने बजाए ढोल नगाड़े

उदयपुर में प्रशासन को जगाने के लिए आदिवासियों ने बजाए ढोल नगाड़े

उदयपुर के कोटड़ा इलाके में मूलभूत सुविधाओं के अभाव में जीवन यापन कर रहे हजारों आदिवासियों का मंगलवार को सब्र का बांध टूट गया और उन्होंने ढोल नगाड़े बजाकर प्रशासन को जगाने का प्रयास किया.

    उदयपुर के कोटड़ा इलाके में मूलभूत सुविधाओं के अभाव में जीवन यापन कर रहे हजारों आदिवासियों का मंगलवार को सब्र का बांध टूट गया और वे सडकों पर उतर आए. आदिवासियों ने अपने पारंपरिक अंदाज में ढोल नगाड़े बजाकर प्रशासन को जगाने का प्रयास किया. सरकारी रिकॉर्ड में सुविधा सम्पन्न यह क्षेत्र हकीकत में मूलभूत सुविधाओं का पूरी तरह महरूम है. कई बार मांग करने के बावजूद प्रशासन की यहां कुंभकर्णी नींद नहीं टूट रही है. लिहाजा इससे उकताए ग्रामीणों का गुस्सा फूट पड़ा और उन्होंने सोए हुए प्रशासन को जगाने के लिए अनूठा अंदाज अपनाया.

    मूलभूत सुविधाओं की मांग कर करके थक चुके आदिवासी पारंपरिक अंदाज में ढोल नगाड़े लेकर सड़कों पर निकले. इस प्रदर्शन में महिलाओं ने भी पुरुषों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर पूरा जोश दिखाया. आदिवासी ढोल नगाड़े बजाते हुए निकले और पूरे कोटड़ा कस्बे में रैली निकालकर बहरे प्रशासन को जगाने की कोशिश की. आदिवासियों की इस रैली का समापन एसडीएम कार्यालय में हुआ. वहां उन्होंने ज्ञापन सौंपकर सरकारी योजनाओं की हकीकत सरकार तक पहुंचाने की कोशिश की. इस दौरान सैकड़ों लोगों ने हाथों में लाठियां भी ले रखी थी. रैली को देखते हुए पुलिस भी चौकस रही.

    उल्लेखनीय है कि आदिवासी अंचल कोटडा में आज भी ऐसे कई गांव हैं जो सरकारी रिकॉर्ड में तो पूरी तरह से सुविधा सम्पन्न हैं, लेकिन वास्तविक स्थिति उससे बिल्कुल उलट है. आदिवासियों के विकास के लिए सरकार की ओर से कई तरह योजनाएं संचालित हो रही हैं, लेकिन उनका जितना फायदा पहुंचना चाहिए उतना नहीं पहुंच पा रहा है. हकीकत में तो कई योजनाएं भी केवल कागजों तक में चल रही है.

    Tags: Rajasthan news, Udaipur news

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर