उदयपुरः बेटी की हत्या मामले में उम्रकैद की सजा मिली तो कैदी ने सेंट्रल जेल में फांसी लगा दी जान

मृतक रामनिवास (फाइल फोटो)

मृतक रामनिवास (फाइल फोटो)

रामनिवास बेटी की हत्या (Murder) के बाद से काफी परेशान था और जब उसे सजा मिली तो जेल में भी वह अवसाद की स्थिति में था.

  • Share this:
उदयपुर. उदयपुर (Udaipur) के सेंट्रल जेल (Central Jail) में बंद एक व्यक्ति ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली. कोर्ट ने उसको उसकी 2 साल की बेटी की हत्या (Murder) के आरोप में दोषी पाया था. ऐसे में कोर्ट ने दोषी पिता को उम्र कैद की सजा सुनाई थी. कहा जा रहा है कि सजा के दूसरे दिन ही रामनिवास ने जेल के टॉयलेट में शॉल का फंदा बनाकर फांसी लगा ली, जिससे उसकी मौत हो गई.



रामनिवास मूलत सुजानगढ़ का रहने था. वह उदयपुर में किराए के मकान में रहता था. उसे पत्नी के चरित्र पर संदेह था, इस कारण 2 साल की बेटी के साथ मारपीट करता था. 13 अक्टूबर 2015 को घर के बाहर रेलिंग पर मासूम बच्ची फांसी के फंदे पर लटकी हुई मिली. जांच के दौरान पुलिस ने मृतक बच्ची के पिता रामनिवास को गिरफ्तार किया था.



हत्या के बाद से काफी परेशान था

रामनिवास बेटी की हत्या के बाद से काफी परेशान था और जब उसे सजा मिली तो जेल में भी वह अवसाद की स्थिति में था. जेल अस्पताल में उसका इलाज भी किया गया. शुक्रवार देर शाम जब जेल बंद होने के बाद कैदियों की गिनती की जा रही थी, तब एक कैदी कम मिलने पर जेल प्रहरियों ने उसकी तलाश की. तलाशी के दौरान रामनिवास का शव जेल की उद्योगशाला के पास टॉयलेट के रोशनदान में शॉल से बने फांसी के फंदे पर लटका हुआ मिला.
जेल में कैदी द्वारा आत्महत्या करने की सूचना जैसे ही सूरजपोल थाना पुलिस को मिली तो पुलिस भी मौके पर पहुंची और कोर्ट से मजिस्ट्रेट भी जेल पहुंचे. मजिस्ट्रेट द्वारा और पुलिस द्वारा देर रात तक अपनी कार्रवाइयों को पूरा किया गया और फिर मृतक रामनिवास के शव को मोर्चरी में शिफ्ट किया. आज रामनिवास के शव का पोस्टमार्टम किया जाएगा.





पत्र के आधार पर ही दोषी माना गया था

रामनिवास को उसके पत्र के आधार पर ही दोषी माना गया था. बेटी की हत्या के समय रामनिवास में एक पत्र लिखा था जिसमें उसने लिखा था कि मैं जो कर रहा हूं उसका फल मुझे जरूर मिलेगा. इस पत्र में ही उसने अपनी पत्नी के चरित्र को लेकर भी लिखा था. पत्र की फॉरेंसिक जांच और लिखावट के नमूने मिलाने के बाद ही कोर्ट ने पत्र के आधार पर रामनिवास को दोषी माना और सजा सुनाई.



ये भी पढ़ें- 



दिल्ली हिंसा:लापरवाही का जिम्मेदार कौन?गृह मंत्रालय ने पुलिस से तलब की रिपोर्ट



दिल्‍ली हिंसा: केजरीवाल सरकार ने अब तक 38 लाख रुपये की मुआवजा राशि जारी की
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज