उदयपुर वर्ल्ड म्यूजिक फेस्टिवल 2020: दुनिया के नामचीन संगीतकारों ने दी शानदार प्रस्तुतियां

फेस्टिवल में भारत के अलावा फ्रांस, स्पेन, अफ्रीका, ईरान, पुर्तगाल, कुर्दिस्तान, माली, रूस, स्विट्जरलैंड आदि देशों के संगीतकार शिरकत कर रहे हैं.

फेस्टिवल में भारत के अलावा फ्रांस, स्पेन, अफ्रीका, ईरान, पुर्तगाल, कुर्दिस्तान, माली, रूस, स्विट्जरलैंड आदि देशों के संगीतकार शिरकत कर रहे हैं.

भारत के सबसे बड़े विश्व संगीत महोत्सव ‘उदयपुर वर्ल्ड म्यूजिक फेस्टिवल’ (Udaipur World Music Festival) के 5वें संस्करण की शुरुआत सुधा रघुरमन और जेफरी एमपोंडो ने महात्मा गांधी और मार्टिन लूथर किंग को श्रद्धांजलि देने के साथ की.

  • Share this:
उदयपुर. भारत के सबसे बड़े विश्व संगीत महोत्सव ‘उदयपुर वर्ल्ड म्यूजिक फेस्टिवल’ (Udaipur World Music Festival) के 5वें संस्करण की शुरुआत शुक्रवार को सुधा रघुरमन (भारत) और जेफरी एमपोंडो (फ्रांस) द्वारा महात्मा गांधी और मार्टिन लूथर किंग (Martin Luther King) को दी गई श्रृद्धांजलि से हुई. इस वर्ष फेस्टिवल की थीम ‘हम विश्व हैं: अनेकता में एकता’ है. यह फेस्टिवल उदयपुर के मांजी का घाट (अम्बराई घाट), फतहसागर पाल और गांधी मैदान पर आयोजित हो रहा है.



संगीत की कई शैलियों की प्रस्तुतियां

महोत्सव के पहले दिन शुक्रवार रात को पंजाबी लोक रैप और हिप-हॉप गायिका गिन्नी माही, स्विस रॉक बैण्ड श्नेलरटोलरमीयर, भारतीय बैण्ड ‘व्हेन चाय मेट टोस्ट’ के नियो-फोक और फ्रैंच ग्रुप नो जैज़ के इलेक्ट्रो-जैज़ की शानदार प्रस्तुतियां हुईं. इस तीन दिवसीय वार्षिक महोत्सव में संगीत की कई शैलियों में भारत के अलावा फ्रांस, स्पेन, अफ्रीका, इरान, पुर्तगाल, कुर्दिस्तान, माली, रूस, स्विट्जरलैंड आदि देशों के संगीतकार शिरकत कर रहे हैं.



एशिया के सबसे बड़े मंचों में शामिल है यह महोत्सव
सहर इंडिया के संस्थापक निदेशक संजीव भार्गव ने कहा कि यह महोत्सव महज चार वर्षों में एशिया के सबसे बड़े मंचों में से एक बन गया है. यह एक छत के नीचे संगीत की विभिन्न शैलियों की पेशकश करता है. हमेशा की तरह इस बार भी आयोजन में विश्व के दुर्लभ संगीतकारों का लाइनअप है और सबसे महत्वपूर्ण यह है कि इन्हें भारत में कभी देखा या सुना नहीं गया. उन्हें इस साल की थीम ‘अनेकता में एकता’ पर प्रस्तुति देते देखना भी दुर्लभ रहा.





शनिवार को इनकी हैं प्रस्तुतियां

महोत्सव के दूसरे दिन शनिवार को सुबह 8 से 10 बजे तक अम्बराई घाट पर पहली प्रस्तुति भारत की सुधा रघुरामन द्वारा आदि शंकराचार्य पर तथा दूसरी प्रस्तुति इरान/लेबलोन की किआ तबस्सियन एवं चारबेल रूहाना द्वारा दी जा रही है. फतहसागर पर दोपहर 3 से शाम 6 बजे तक में पहली पेशकश आउट ऑफ दी बॉक्स: जेल यूनिवर्सिटी थीम पर इंडियन सूफी की होगी. दूसरी प्रस्तुति पुर्तगाल के फेडो की सारा कोरिया व अंतिम प्रस्तुति भारतीय फॉक एंड रॉक अंकुर तिवारी एंड दी घलत फैमेली की होगी. शाम को गांधी ग्राउंड में 7 बजे से राजस्थानी फॉक पर मामे खान, माली-फ्रांस के वेर्स्टन अफ्रीकन फॉक ब्यूज के हबीब कोईटे व इंडियन पॉप रोक थाईकुड्डम ब्रिज की प्रस्तुति दर्शकों को झुमने पर मजबूर कर देगी.



 



उदयपुर में आज से शुरू होगा भारत का सबसे बड़ा संगीत महाकुंभ, जानें क्या है खास



 



जयपुर: उपभोक्ताओं को बिजली का झटका, 10-11 % बढ़ाई दरें, 1 फरवरी से हुईं लागू
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज