Home /News /rajasthan /

देव दर्शन यात्रा: मेवाड़ पहुंची वसुंधरा राजे, बोलीं- राजनीति में नहीं धर्म नीति में विश्वास करती हूं

देव दर्शन यात्रा: मेवाड़ पहुंची वसुंधरा राजे, बोलीं- राजनीति में नहीं धर्म नीति में विश्वास करती हूं

Vasundhara Raje in Udaipur: राजस्थान की पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने मेवाड़ में बड़ा बयान दिया है.

Vasundhara Raje in Udaipur: राजस्थान की पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने मेवाड़ में बड़ा बयान दिया है.

Rajasthan News: मेवाड़ पहुंची पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे (Vasundhara Raje) ने व दर्शन मेवाड़ यात्रा का आगाज किया. उन्होंने इस यात्रा को पूरी तरह धार्मिक बताया है. वसुंधरा राजे  ने कहा कि शुरू से ही मैं राजनीति में नहीं धर्म नीति में विश्वास करती हूं.

अधिक पढ़ें ...

उदयपुर. राजस्थान की पूर्व मुख्यमंत्री और भाजपा की राष्ट्रीय उपाध्यक्ष वसुंधरा राजे (Vasundhara Raje) ने मंगलवार को मेवाड़ के प्रसिद्ध धार्मिक स्थल सांवरिया सेठ के दरबार में पूजा अर्चना के साथ अपनी देव दर्शन मेवाड़ यात्रा का आगाज किया.  सुबह करीब 11:30 बजे वसुंधरा राजे भगवान सांवलिया के दर्शन करने पहुंची और मंदिर में विधि विधान के साथ दर्शन करने के बाद वसुंधरा राजे ने एक जनसभा को संबोधित किया. राजनीतिक हलकों में लगातार चर्चाओं में आ रही देव दर्शन यात्रा को लेकर वसुंधरा राजे ने सार्वजनिक तौर पर साफ कर दिया कि यह यात्रा राजनीतिक ना होकर पूरी तरीके से धार्मिक और कोरोना के दौर में बिछड़े अपनों के परिवार के साथ मिलकर उन्हें सांत्वना बनाना भी है. वसुंधरा राजे ने कहा कि सबसे पहली आवश्यकता भगवान के मंदिरों को सुदृढ़ करने की है, दूसरी प्राथमिकता साधु-संतों से सीख  लेकर आगे बढ़ाने की है और फिर जनता के प्यार के दम पर विकास करना है.

इस मौके पर पूर्व मुख्यमंत्री ने जनसभा को संबोधित करते हुए पूर्ववर्ती  भाजपा सरकार के दौर में धार्मिक स्थलों के जीर्णोद्धार को लेकर किए गए कार्यों का जिक्र किया. किसी भी तरह के राजनीतिक बयानों से बचते हुए वसुंधरा राजे ने अपने तमाम समर्थक और चाहने वालों द्वारा उन्हें दिए गए अपार स्नेह और प्यार के लिए धन्यवाद दिया.  इस मौके पर वसुंधरा समर्थक चित्तौड़ के कई विधायक, पूर्व विधायक , पूर्व सांसद और भाजपा पदाधिकारी मौजूद रहे।सांवरिया सेठ के दरबार में हाजिरी लगाने के बाद वसुंधरा राजे लसाडिया के लिए रवाना हो गई.

वसुंधरा राजे ने दिया बड़ा बयान

पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने कहा है कि उनकी अपने सहयोगियों के निधन पर संवेदना व्यक्त करने के कार्यक्रम को मीडिया के कुछ लोग राजनीतिक यात्रा बता कर भ्रम फैला रहे है. जबकि शोक व्यक्त करने का ये कार्यक्रम राजनीतिक यात्रा नहीं है. वे तो कोराना के कारण चल बसे अपनों को श्रद्धा सुमन अर्पित करने और भगवान के दर्शन कर प्रदेश की ख़ुशहाली की कमना करने आई है. उन्होंने कहा कि लोगों का यही प्यार,यही आशीर्वाद और यही साथ ही हमारी सब से बड़ी दौलत है. इसके बिना हम अधूरे है. मेरी माता राजमाता साहब ने भी मुझे यही सिखाया है-

ये भी पढ़ें: Rajasthan: घर में घुसकर शादीशुदा महिला से रेप, मना करने पर अश्लील फोटो किया वायरल
पूर्व सीएम ने कहा है कि वे शुरू से ही राजनीति में नहीं धर्म नीति में विश्वास करती है. कांग्रेस के लोग आरोप भी लागते हैं कि ये तो भगवान भरोसे चलती है. हां मै स्वीकार करती हूं कि मैं भगवान भरोसे ही हूं. मैं शुरू से ही राजनीति में नहीं धर्म नीति में विश्वास करती हूं. उन्होंने कहा कि जब हमारी सरकार थी तब हमने 550 करोड़ की लागत से प्रदेश के 125 मंदिरों का विकास तथा 110 करोड़ की लागत से 50 देवी-देवताओं और महापुरुषों के पेनोरमा का निर्माण करवाया.

Tags: Ashok gehlot, Rajasthan news, Udaipur news, Vasundhara raje

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर