Cyclone Tauktae: चक्रवाती तूफान का खौफ, अलर्ट मोड पर आया उदयपुर प्रशासन

जिला कलक्टर ने पुलिस, एसडीआरएफ और नागरिक सुरक्षा विभाग को अलर्ट मोड पर रहने के निर्देश दिए हैं.

जिला कलक्टर ने पुलिस, एसडीआरएफ और नागरिक सुरक्षा विभाग को अलर्ट मोड पर रहने के निर्देश दिए हैं.

Awe of Tauktae cyclone: चक्रवाती तूफान के कारण कोविड पीड़ित मरीजों (Covid Patients) के इलाज में किसी तरह की कोई दिक्कत नहीं आये इसके लिये उदयपुर प्रशासन ने कमर कस ली है. इसके लिये इंतजामों को अमली जामा पहना दिया गया है.

  • Share this:

उदयपुर. चक्रवाती तूफान तौउते (Cyclone Taukta) के प्रभाव के कारण कोविड मरीजों के उपचार में कोई बाधा उत्पन्न न हो इसके लिए जिला प्रशासन सतर्क (Alert ) हो गया है. जिला कलक्टर ने अजमेर विद्युत वितरण निगम लिमिटेड को निर्देश दिये हैं कि वे तीन क्लस्टर बनाकर प्रत्येक में एक तकनीकी दल बनायें जो न्यूनतम समय में बिजली व्यवस्था में बाधा उत्पन्न होने पर उसे सुचारू कर सके.

चक्रवाती तूफान तौउते को देखते हुये जिला कलक्टर चेतन देवड़ा ने जिला परिषद सभागार में रविवार को आपातकालीन बैठक बुलाई. बैठक में कलक्टर देवड़ा ने निर्देश दिये कि ऑक्सीजन गैस उत्पादक फर्मों को निर्बाध बिजली आपूर्ति मिले इसके लिये अजमेर विद्युत वितरण निगम लिमिटेड विभाग से एक एक सहायक अभियन्ता/कनिष्ठ अभियन्ता को उनमें नियुक्त किया जाये. महाराणा भूपाल राजकीय चिकित्सालय और ईएसआईसी चिकित्सालय चित्रकुट नगर में भी एक-एक सहायक अभियन्ता या कनिष्ठ अभियन्ता की तुरन्त प्रभाव से नियुक्ति की जाये.

तीन टीमें रखेंगी अस्पतालों में बिजली आपूर्ति पर नजर

जिला कलक्टर ने पुलिस, एसडीआरएफ और नागरिक सुरक्षा विभाग को अलर्ट मोड पर रहने के निर्देश दिए हैं. एडीएम प्रशासन ओ.पी. बुनकर ने बताया कि नागरिक सुरक्षा विभाग में 300 स्वयंसेवक हैं. इनमें 100 कार्यरत हैं और वे राउंड द क्लॉक कार्य कर रहें हैं. पुलिस विभाग को निर्देश दिये गये हैं कि चक्रवात के दौरान यदि कहीं पर भी जाम की स्थिति बनती एवं आवागमन बाधित होता है तो तुरन्त कानून व्यवस्था सुनिश्चित करने के लिये अलर्ट मोड पर रहें.
ऑक्सीजन परिवहन रहे सुचारू

बैठक के दौरान जिला कलक्टर ने चक्रवात के दौरान राष्ट्रीय राजमार्ग और सड़कें आदि क्षतिग्रस्त होने की आशंका जताते हुए कहा कि चट्टाने खिसकने, पेड़ गिरने आदि से परिवहन बाधित हो सकता है. कोविड-19 के तहत प्रभावित लोगों के इलाज के लिये जामनगर और हजीरा से ऑक्सीजन सड़क मार्ग से उदयपुर टेंकर द्वारा लाई जा रही है. मार्ग बाधित होने से ऑक्सीजन आपूर्ति में बाधा उत्पन्न हो सकती है. इसलिये परिवहन सुगम करने की कार्रवाई सुनिश्चित करें.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज