जल संकट : कसुम्पटी टैंक में लीकेज, 24 घंटे में 1 लाख लीटर पानी बर्बाद

जल संकट को लेकर फिल्ड पर उतरे आईपीएच मंत्री.

जल संकट को लेकर फिल्ड पर उतरे आईपीएच मंत्री.

महेन्द्र सिंह ठाकुर ने हाईड्रोलॉजिस्ट से कहा है कि जहां-जहां हैंडपम्प स्थापित करने के लिए स्थल चिन्हित किए गए हैं, वहां जल्द से हैंडपम्पों की स्थापना की जानी चाहिए.

  • Share this:

हिमाचल प्रदेश के शिमला में चल रहे जल संकट को लेकर प्रशासन अमला अब भी गंभीर नहीं है. आलम यह है कि कुसम्पटी में एक वाटर टैंक में एक ही रात में पचास से एक लाख लीटर पानी व्यर्थ बह गया.

हालांकि, इस संबंध में आईपीएच विभाग के एक जेई को चार्जशीट करने के आदेश दिए गए हैं. मंगलवार को सिंचाई एवं जन स्वास्थ्य मंत्री महेन्द्र सिंह ठाकुर ने 7 बजे से लेकर 12 बजे तक लगातार शहर के विभिन्न क्षेत्रों में विभाग के अभियंताओं को साथ लेकर पानी उपलब्ध होने का जायजा लिया.

यहां-यहां पहुंचे आईपीएच मंत्री

सबसे पहले मंत्री कसुम्पटी क्षेत्र पहुंचे. जहां सभी सरकारी व निजी आवासों में लोगों को पानी की आपूर्ति का जायजा लिया. इसके बाद मंत्री न्यू शिमला के सेक्टर-4 पहुंचे तथा डीएवी स्कूल से लेकर बीसीएस तक पैदल सभी रिहायशों में लोगों से पानी मिलने के बारे में जांच पड़ताल की.
सेक्टर-चार में उन्होंने रोहाल परिवार, कांता चौहान तथा मोनिका से बात की। इसी प्रकार सेक्टर-2 के महावीर सिंह ने मंत्री को अवगत करवाया कि आज पानी मिला है.



रिसाव को लेकर मंत्री नाराज दिखे

मंत्री ने बताया कि कसुम्पटी में स्टोरेज टैंक से पानी उपलब्ध करवाया जा रहा है, लेकिन उसमें काफी रिसाव था और पानी आईपीएच कार्यालय की नाली से लगातार बह रहा है. 24 घंटे में 50 हजार से लेकर एक लाख लीटर तक पानी बर्बाद हो जाता है. इस पर मंत्री ने संबंधित कनिष्ठ अभियंता को चार्जशीट करने के आदेश दिए हैं.

निर्माण के लिए पानी के दुरुपयोग पर कनेक्शन काटने के आदेश

सिंचाई एवं जन स्वास्थ्य मंत्री ने सेक्टर-दो में प्रातःकाल से लगातार ओवर हो रही टंकी का मौके पर कनेक्शन कटवा दिया. इसी सेक्टर में भवन निर्माण के लिए किए जा रहे पानी के दुरुपयोग को लेकर उन्होंने अभियंताओं से कड़ी कार्रवाई करने तथा ऐसे लोगों के कनेक्शन तुरंत काटने के निर्देश दिए.

महेन्द्र सिंह ठाकुर ने हाईड्रोलॉजिस्ट से कहा है कि जहां-जहां हैंडपम्प स्थापित करने के लिए स्थल चिन्हित किए गए हैं, वहां जल्द से हैंडपम्पों की स्थापना की जानी चाहिए.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज