पुणे: इंफोसिस महिला कर्मचारी की ऑफिस में गला घोंटकर हत्या

पुणे को भारत की मिनी सिलिकॉन वैली का दर्जा हासिल है. यहां दुनिया भर में अपने नाम का परचम लहराने वाली आईटी इंडस्ट्री का सिरमौर कही जाने वाली कंपनियों के बड़े बड़े दफ्तर मौजूद हैं.

  • News18India
  • Last Updated: January 30, 2017, 11:39 PM IST
  • Share this:
पुणे को भारत की मिनी सिलिकॉन वैली का दर्जा हासिल है. यहां दुनिया भर में अपने नाम का परचम लहराने वाली आईटी इंडस्ट्री का सिरमौर कही जाने वाली कंपनियों के बड़े बड़े दफ्तर मौजूद हैं. दफ्तरों की उसी कतार में शामिल है इंफोसिस का दफ्तर. इंफोसिस में एक महिला सॉफ्टवेयर इंजीनियर की हत्या की वारदात सामने आई. जिस सच्चाई के साथ इसका खुलासा हुआ वो वाकई डराता है.

उस दिन बिल्डिंग के इसी गेट से 24 साल की वो लड़की रसीला राजू अंदर गई थी लेकिन तमाम सुरक्षा एहतियातों के बावजूद वो बाहर नहीं आ पाई. बाहर आई उसकी मौत की ख़बर. एक ऐसी खबर जिसने पूरे शहर को सन्न करके रख दिया. आईटी पार्क के गोद में बसी तमाम कंपनियों में काम करने वाले लोगों की रगो में सिहरन दौड़ गई. किसी को इस ख़बर पर यकीन ही नहीं हो रहा था कि वाकई टेक्नॉलोजी के इस दौर में दुनिया को सिक्योरिटी के तमाम रास्ते बताने वाली इन कंपनियों के कांच की दीवार के पीछे खुद उसके मुलाजिम सुरक्षित नहीं हैं और वो उन लोगों के हाथों जिनके हाथों में इतनी बड़ी कंपनी ने हिफाजत का बंदोबस्त दे रखा है. लेकिन ख़बर सच थी.

पुलिस सुत्रों से मिली जानकारी के बाद खुलासा यही है कि रसिला राजू की मौत चलकर इंफोसिस बिल्डिंग की नौवीं मंजिल पर पहुंची थी. रसिला के गले में कंप्यूटर की केबल लिपटी मिली. वो रविवार का दिन था. लेकिन छुट्टी होने के बावजूद रसिला राजू काम के सिलसिले में दोपहार करीब ढाई बजे ऑफिस पहुंची.



कुछ देर उसने अपनी बैंगलुरू की एक सहयोगी से ऑनलाइन बातें भी की. उसी दौरान उसकी नज़र इस शख्स पर पड़ी जो काफी देर से उसे बुरी नज़रों से देख रहा था. वो शख्स था भावेन भारली सायकिया. इंफोसिस कंपनी का एक अदना सा सुरक्षाकर्मी. रसिला को ये बात खटक गई. उसने शिकायत करने की बात कही. इस दौरान भावेन ने उससे ऐसा न करने की गुज़ारिश भी की थी. इसी कहा-सुनी के दौरान 5.30 से 6.00 के बीच रसिला राजू की हत्या की गई.
दरअसल बात बस इतनी ही नहीं थी खुलासा ये भी है कि असम का रहने वाला ये गार्ड भावेन, रसीला से एकतरफा प्यार करता था और उसने उसके साथ उस दिन कॉन्फ्रेंस रूम में छेड़छाड़ भी की थी. इंफोसिस के सीसीटीवी फुटेज में साफ दिखाई दिया कि भावेन कॉन्फ्रेंस रूम में जा रहा है. खुद को फंसता देख वो फरार हो गया. इस सनसनीखेज मर्डर की गुत्थी को सुलझाते हुए पुणे पुलिस ने मुंबई पुलिस की मदद से उसे मुंबई से गिरफ्तार किया.

पुलिस की जांच में ये बात भी सामने आई है कि रसीला अपने टीम के मेंबर्स के साथ ऑनलाइन काम करने में जुटी हुई थी. लेकिन कुछ ही देर बात जब उसके मैनेजर ने उससे बात करनी चाही तो उसका फोन पिक नहीं हुआ. फिर जब गार्ड को पता लगाने के लिए भेजा गया तो गले में कंप्यूटर का तार लिपटे हुए उसकी लाश मिली.

बता दें कि पुणे के इसी इंफोसिस कैंपस से दिसंबर 2015 में रेप की घटना भी सामने आई थी. पीड़ित महिला यहां की कैंटीन में काम करती थी. नौकरी के लिए युवाओं की पहली पसंद बन चुके इस शहर से पिछले एक महीने में किसी महिला सॉफ्टवेयर इंजीनियर के मर्डर की ये दूसरी खबर सामने आई है. इससे पहले पुणे की ही एक कंपनी कैपजेमिनी में काम करने वाली एक महिला सॉफ्टवेयर इंजीनियर अंतरा देबनंद दास की भी हत्या कर दी गई थी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज