लाइव टीवी

UP के सरकारी स्कूलों का बुरा हाल, बिना किताबों के पढ़ाई कर रहे बच्चे

News18India
Updated: August 31, 2016, 11:16 PM IST

क्या आप यकीन करेंगे कि स्कूल में बिना किताबों के भी पढ़ाई होती है। यूपी में ऐसा ही हो रहा है। वजह सुनकर आप चौंक जाएंगे।

  • News18India
  • Last Updated: August 31, 2016, 11:16 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली। क्या आप यकीन करेंगे कि स्कूल में बिना किताबों के भी पढ़ाई होती है। यूपी में ऐसा ही हो रहा है। वजह सुनकर आप चौंक जाएंगे। आरोप है कि कमीशनखोरी के चक्कर में सरकारी किताबें वक्त पर नहीं छापी जा सकीं जिसकी वजह से बच्चे पांच महीनों से किताबों के बिना ही स्कूल जा रहे हैं। वहीं कुछ स्कूल में बच्चों को पुरानी किताबों से पढ़ाया जा रहा है।

देश में चारों तरफ नारे लग रहे हैं, पढ़ेगा इंडिया तो बढ़ेगा इंडिया। लेकिन इन नारों की गूंज शायद यूपी के सरकारी स्कूलों तक नहीं पहुंच रही है तभी तो यहां बच्चे उन किताबों से ही महरूम हैं जो उन्हें सरकार से मुफ्त में दी जाती हैं। इसका नतीजा ये कि यहां बच्चे स्कूल तो जाते हैं लेकिन बिना किताब के ही और बिना पढ़े ही घर लौट जाते हैं। अखिलेश राज में यूपी के सरकारी स्कूलों की यही हकीकत है। एक तरफ जहां प्राइवेट स्कूल के बच्चे पांच महीने में करीब आधी पढ़ाई पूरी कर चुके हैं, तो वहीं सरकारी स्कूलों में पढ़ने वाले लगभग डेढ़ करोड़ बच्चे अभी किताब मिलने का ही इंतजार कर रहे हैं।

झांसी पुलिस लाइन के सरकारी स्कूल में पांचवीं का छात्र मनीष ऐसे गरीब परिवार से है जो कि उसे किसी कान्वेंट या प्राइवेट स्कूल में नहीं पढ़ा सकता। लिहाजा उसका दाखिला सरकारी प्राइमरी स्कूल में कराया गया पर किताबें न मिलने से उसकी पढ़ाई ठप है। यही हालत स्कूल के बाकी बच्चों की भी है। शिक्षा अधिकारी भी मानते हैं कि किताबें छपने में देरी की वजह से ऐसा हो रहा है लेकिन ये भी दावा करते हैं कि इससे ज्यादा फर्क नहीं पड़ा है।

यही हाल इलाहाबाद के लीडर रोड प्राइमरी स्कूल का भी है। दूसरे बच्चों की तरह शालिनी और पूजा की पढ़ाई भी किताब के बगैर ही चल रही है। वो स्कूल आती हैं, मिड डे मील खाती हैं और फिर वापस लौट जाती हैं।  सेशन के मुताबिक यूपी के सरकारी स्कूलों में पढ़ने वाले बच्चों को अप्रैल तक किताबें मिल जानी चाहिए थीं लेकिन पांच महीने बाद भी उनके हाथ में किताबें नहीं हैं। ये बच्चे अखिलेश अंकल से किताबें मांग रहे हैं।

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए इंडिया 9 बजे से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 31, 2016, 9:55 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर