लाइव टीवी

क्रूर तानाशाह के ओलंपिक टॉर्चर के डर से सदमे में हैं उत्तर कोरियाई खिलाड़ी

News18India
Updated: August 25, 2016, 12:20 AM IST

रियो ओलंपिक में सवा सौ करोड़ की आबादी वाले भारत ने 120 खिलाड़ी भेजकर कुल दो मेडल जीते, जिनमें एक सिल्वर और एक ब्रॉन्ज शामिल हैं। लेकिन...

  • News18India
  • Last Updated: August 25, 2016, 12:20 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली।  रियो ओलंपिक में सवा सौ करोड़ की आबादी वाले भारत ने 120 खिलाड़ी भेजकर कुल दो मेडल जीते, जिनमें एक सिल्वर और एक ब्रॉन्ज शामिल हैं। वहीं, ढाई करोड़ की आबादी वाले देश उत्तर कोरिया के 31 एथलीट ने 7 मेडल जीते जिनमें दो गोल्ड भी हैं।

लेकिन बावजूद इसके उत्तर कोरियाई खिलाड़ी खौफ में हैं वो अपनी जीत का जश्न नहीं मना पा रहे क्योंकि वो जानते हैं कि तानाशाह नाराज है और उसने जो टारगेट दिया था उसे वो पूरा नहीं कर पाए। अब देश लौटने पर उन्हें सजा मिलेगी लेकिन ये सजा क्या होगी कोई नहीं जानता। वो जल्दी किसी पर रहम नहीं करता। सनक चढ़ने पर वो कुछ भी कर गुजरता है। सजा-ए-मौत देना उसके लिए मजाक जैसा है। फिर चाहे वो उसका कितना भी करीबी क्यों न हो।

ये मिजाज है उत्तर कोरिया के क्रूर तानाशाह किम जोंग-उन का जिसकी सनक के किस्से दुनिया भर में जाने जाते हैं। लेकिन अब उसकी सनक का निशाना बन सकते हैं वो 31 खिलाड़ी जो रियो ओलंपिक में हिस्सा लेने गए थे जिन्हें तानाशाह का फरमान मिला था कि रियो से कम से कम 17 मेडल लेकर आना, जिसमें पांच गोल्ड मेडल भी होने चाहिए। वर्ना अंजाम भुगतने के लिए तैयार रहना।

तानाशाह का ये फरमान खिलाड़ी न भूलें. इसके लिए रियो में खेल शुरू होने से पहले ही वरिष्ठ ओलंपिक अधिकारी ने चेताया था हम इतनी दूर यहां सिर्फ पांच गोल्ड मेडल जीतने नहीं आए हैं।

लेकिन तानाशाह की मांग के बावजूद, उसके खिलाड़ी दो गोल्ड मेडल समेत कुल सात ही मेडल जीत सके यानी लक्ष्य से 10 मेडल कम। तानाशाह से मिली चेतावनी का असर रियो में हिस्सा ले रहे उत्तर कोरियाई खिलाड़ियों पर दिख भी रहा था। वो जानते थे कि अगर लक्ष्य से कम मेडल लेकर अपने देश लौटे तो सनकी तानाशाह उन्हें कोई भी सजा दे सकता है यहां तक कि मौत भी।

उत्तर कोरिया के जिम्नास्ट री से ग्वांग रियो ओलंपिक के गोल्ड मेडल विजेता है लेकिन इसके बावजूद उनके चेहरे पर जरा भी मुस्‍कान नहीं थी जबकि साथ खड़े रूस और जापान के खिलाड़ी खुश नजर आ रहे थे इसलिए इन्हें एक और खिताब मिला,  सबसे दुखी गोल्ड मेडलिस्ट का। सोशल मीडिया में ग्वांग की ये तस्वीर देख कुछ लोगों ने तो यहां तक कहा कि ऐसा लग रहा है कि जैसे ये बंदूक की नोंक पर मेडल ले रहा है।

उत्तर कोरिया के वेट लिफ्टर ओम यन-चोल ने भी / 2012 में लंदन ओलंपिक में गोल्ड जीतने वाले चोल ने तब ये कहकर तानाशाह का शुक्रिया किया था कि मेरी क्षमता में सुधार और मेरे गोल्ड मेडल जीतने की वजह है महान नेता किम जोंग-इल और महान कॉमरेड किम जोंग-उन का प्यार।लेकिन रियो ओलंपिक में गोल्ड से चूके सिल्वर मेडलिस्ट चोल ने खुशी मनाने के बजाय ये कहकर अफसोस जाहिर किया कि- किम जोंग-उन हमेशा मेरे लिए प्रेरणा रहेंगे और मुझे दुख है कि मैं दोबारा गोल्ड जीतने में नाकाम रहा।

मुझे नहीं लगता कि मैं सिल्वर मेडल लाने पर अपने देशवासियों के लिए हीरो बन सकता हूं। अब देखिए सोशल मीडिया में वायरल हुई ये तीसरी तस्वीर। इस सेल्फी में उत्तर कोरिया की एथलीट हॉन्ग यूं जूंग और दक्षिण कोरिया की ली यू लू नजर आ रही हैं।

हॉन्ग यूं जूंग उत्‍तरी कोरिया की पहली महिला जिमनास्ट हैं, जिन्होंने अपने देश का नाम ऊंचा किया। लेकिन सबसे बड़े दुश्मन देश की खिलाड़ी के साथ इस सेल्फी के सामने आने के बाद से ही उत्तर कोरियाई टीम में खलबली मच गई। आशंका जताई जाने लगी कि इस तस्वीर को देख तानाशाह नाराज हो सकता है और मेडल जीतने वाली एथलीट की पीठ थपथपाने के बजाय उसे सजा-ए-मौत तक दे सकता है।

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए इंडिया 9 बजे से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 24, 2016, 11:15 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर