Home /News /shows /

देश के सबसे बड़े जश्न की सुरक्षा पहरे में बड़ी चूक, सैकड़ों सीसीटीवी खराब

देश के सबसे बड़े जश्न की सुरक्षा पहरे में बड़ी चूक, सैकड़ों सीसीटीवी खराब

एक बड़ी चूक का सनसनीखेज खुलासा हुआ है. ये खुलासा हुआ है 26 जनवरी के सुरक्षा ऑडिट में, जिसमें दिल्ली में सैकड़ों सीसीटीवी खराब पाए गए हैं.

    देश के सबसे बड़े जश्न यानी गणतंत्र दिवस की तैयारियां पूरी हो चुकी है. ये वो मौका है जब आतंकी कोई न कोई वारदात करने का मंसूबा जरूर बनाते हैं. इसे नाकाम करने के लिए चप्पे चप्पे पर पहरा होता है. सुरक्षा एजेंसियां हर कोने पर नजर रखती है. सबसे बड़ी जिम्मेदारी दिल्ली पुलिस के कंधों पर होती है. लेकिन इस सुरक्षा को लेकर दिल्ली पुलिस की एक बड़ी लापरवाही सामने आई है.

    दुनिया के सामने हिंदुस्तान की आन-बान शान का सबसे बड़ा शो राजधानी दिल्ली में होगा. इसलिए दिल्ली में जमीन से आसपान तक पहरा लग चुका है. मुल्क के जांबाज पहरेदारों के अलावा सुरक्षा के लिए एक तीसरी आंख भी दिल्ली के कोने-कोने पर लगी हुई है. ये है सीसीटीवी. जिसकी निगाहों से किसी का बचना मुश्किल होता है. लेकिन इस पहरे में एक बड़ी चूक का सनसनीखेज खुलासा हुआ है. ये खुलासा हुआ है 26 जनवरी के सुरक्षा ऑडिट में, जिसमें दिल्ली में सैकड़ों सीसीटीवी खराब पाए गए हैं.

    गणतंत्र दिवस की सुरक्षा में कोई चूक न रह जाए इसकी जांच के लिए बनाई गई टीम ने जो रिपोर्ट दी, उससे सुरक्षा एजेंसियों के होश उड़ गए हैं. इस रिपोर्ट की एक्सक्लूसिव कॉपी सिर्फ NEWS18 इंडिया के पास है. इसलिए दिल्ली पुलिस पर भी सबसे बड़ा सवाल खड़ा हो रहा है. रिपोर्ट के मुताबिक दिल्ली में करीब 700 सीसीटीवी बंद पड़े हैं.

    हैरानी की बात ये है कि सुरक्षा के लिहाज से सबसे अहम रेलवे स्टेशनों का हाल सबसे ज्यादा बुरा है. पुरानी दिल्ली रेलवे स्टेशन पर के सभी 136 सीसीटीवी खराब हैं. जबकि नई दिल्ली रेलवे स्टेशन पर एक भी मेटल डिटेक्टर काम नहीं कर रहा है.

    रेलवे स्टेशन के साथ-साथ दिल्ली की भीड़भाड़ वाले बाजारों का हाल और भी बुरा है. यहां भी बहुत से सीसीटीवी बंद पड़े हुए हैं. जबकि दिल्ली के बाजारों पर आतंकियों की सबसे ज्यादा निगाह लगी होती है. सुरक्षा की जांच पर आई रिपोर्ट के मुताबिक, दिल्ली की मशहूर साकेत मार्केट में 50 सीसीटीवी खराब पाए गए हैं. जांच में वसंत कुंज इलाके में भी 50 सीसीटीवी बंद मिले है. कई इलाकों में सीसीटीवी कंट्रोल रूम बदल दिया गया. लेकिन इलाके के सीसीटीवी को नए कंट्रोल रूम से जोड़ा ही नहीं गया है.

    गणतंत्र दिवस के मौके पर राजधानी में दिल्ली में सुरक्षा की इतनी बड़ी लापरवाही से सुरक्षा एजेंसियों की नींद उड़ गई है. जिम्मेदारी दिल्ली पुलिस की है इसलिए अब वो इन्हें ठीक कराने का वादा कर रही है. विशेष आयुक्त मुकेश कुमार मीणा के मुताबिक, जहां-जहां सीसीटीवी खराब हैं उन्हें सही करवाया जाएगा.

    इतनी बड़ी संख्या में सीसीटीवी की खराबी का खुलासा होने के बाद NEWS18 इंडिया की टीम ने सुरक्षा के लिहाज से बेहद ज़रूरी दिल्ली के होटलों का रियलटी चेक किया. NEWS18 इंडिया की टीम दिल्ली के पहाड़गंज इलाके में मौजूद कई होटलों का जायजा लिया. यहां के ज्यादातर होटल पर नियमों का पालन किया जा रहा था. होटल में आने जाने वालों का पूरा रिकॉर्ड भी रखा जा रहा था. होटल के मालिकों का कहना है कि वो गणतंत्र दिवस को देखते हुए सुरक्षा को लेकर किसी तरह कोताही नहीं कर रहे हैं. साथ ही मौके की नजाकत के मुताबिक इन दिनों खास एहतियात बरती जा रही है.

    NEWS18 इंडिया की टीम के इस रियलटी चेक की खबर मिलते ही दिल्ली पुलिस की टीम भी होटलों की जांच के लिए पहुंची. इस बार गणतंत्र दिवस के मौके पर जिस तरह से बार बार आतंकी खतरे का अलर्ट आया है. इसके बाद सुरक्षा एजेंसियां पूरी तरह सतर्क है. हाल ही में जम्मू कश्मीर में लश्कर के आतंकी लखवी के भतीजे के ढेर होने के बाद खतरा और भी बढ़ गया है. इसलिए पहरा और भी कड़ा किया गया है. लेकिन दिल्ली शहर में 700 सीसीटीवी में खराबी की बात सामने आने के बाद अब चुनौती इन्हें वक्त पर ठीक करने की है.

    Tags: Delhi, Republic day

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर