लाइव टीवी

हाफिज सईद की साइबर सेना के अटैक से बिगड़े थे हंदवाड़ा के हालात!

News18India
Updated: April 21, 2016, 10:47 PM IST

पाकिस्तान ने अपनी अफवाह ब्रिगेड का मोर्चा भारत के खिलाफ खोल दिया है और उसके निशाने पर है भारतीय सेना।

  • News18India
  • Last Updated: April 21, 2016, 10:47 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली। पाकिस्तान ने अपनी अफवाह ब्रिगेड का मोर्चा भारत के खिलाफ खोल दिया है और उसके निशाने पर है भारतीय सेना। हंदवाड़ा में बीते एक हफ्ते में जो कुछ हुआ वो इसी का सबूत है। एक लड़की के साथ हुई छेड़खानी को सेना के खिलाफ आग उगलने का जरिया बना दिया गया। स्थानीय नौजवानों को भड़काया गया, लोगों को डराया गया और ये सब कुछ किया मेड इन पाकिस्तान अफवाह ने।

दरअसल पाकिस्तान में भारतीय फौज के खिलाफ दुष्प्रचार की तैयारी कुछ महीनों पहले शुरू की गई। लश्कर ए तैयबा की तर्ज पर अब मुंबई हमले के गुनहगार हाफिज सईद ने लश्कर-ए-साइबर शुरू किया है। हाफिज सईद का साफ कहना है कि जिस तरह ISIS का साइबर सेल काम करता है, उसी तरह लश्कर का साइबर सेल सोशल मीडिया का इस्तेमाल करेगा और उसके निशाने पर होगा भारत।

अमेरिका ने हाफिज सईद पर 50 करोड़ का ईनाम रखा हुआ है लेकिन जिसे पाकिस्तानी सरकार और फौज का समर्थन मिला हुआ हो, वो ऐसे इनामों से भला क्यों डरेगा। जानकारी के मुताबिक दिसंबर के महीने में लाहौर में हाफिज सईद ने एक कॉन्फ्रेंस आयोजित की थी। इसमें दो दिन तक लश्कर की सोशल मीडिया विंग के बारे में माथापच्ची की गई। कॉन्फ्रेंस में जमात उद दावा के 24 घंटे सक्रिय रहने वाले सायबर सेल की शुरुआत की गई। नजरियापाकिस्तान.कॉम के नाम से एक वेबसाइट भी शुरू की गई।

हाफिज सईद मानता है कि जेहाद के लिए सोशल मीडिया के इस्तेमाल में इस्लामिक स्टेट दूसरे संगठनों से बाजी मार ले गया है। वो अब अपने आतंकी संगठन को साइबर लड़ाई में आगे बढ़ाना चाहता है। उसका खुद का बयान है कि दाइश सोशल मीडिया को बहुत इस्तेमाल करती है। तकसीनी ग्रुप जो पाक-अफगान में हैं वो काफी पहले से सोशल मीडिया का इस्तेमाल कर रहे हैं। वो ज्यादा लोकप्रिय हैं, हम काफी लेट हैं।

पिछले कुछ सालों में आतंकी गतिविधियों में ट्विटर, फेसबुक, यू-ट्यूब और व्हाट्सएप का इस्तेमाल बहुत ज्यादा हो गया है। आतंकी संगठन खुफिया एजेंसियों की निगाह से बचकर इसके जरिए संदेश भेजते हैं और नौजवानों तक पहुंचते हैं। हाफिज सईद को लगता है कि दुनिया भर के दूसरे आतंकी संगठन जैसे इस्लामिक स्टेट, अल कायदा और हमास सोशल मीडिया का बेहतर इस्तेमाल करते हैं और इसलिए उनकी ताकत बढ़ रही है। अब अपने साइबर सेल के लिए हाफिज ने कई नौजवानों की भर्ती भी कर ली है। साइबर सेल की शुरुआत करते हुए हाफिज ने कहा कि इसका इस्तेमाल कश्मीर में आतंक फैलाने के लिए और भारत के दूसरे हिस्सों तक अपना संदेश पहुंचाने के लिए किया जाएगा।

हाफिज ने भी ये मान लिया है कि आने वाले दिनों में आतंक की लड़ाई में सोशल मीडिया जैसे हथियार को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता। कुछ वक्त पहले तक हाफिज सईद खुद भी ट्विटर पर सक्रिय था लेकिन अब उसके अकाउंट को सस्पेंड कर दिया गया है। हालांकि दूसरे ट्विटर अकाउंटों के जरिए हाफिज सईद की टीम जेहादी वीडियो और लेखों को युवाओं तक पहुंचाती रही है। हाफिज के फरमान के बाद अब लश्कर के आतंकियों को भी सोशल मीडिया का इस्तेमाल सिखाया जा रहा है।

हाफिज को लगता है कि बदलते वक्त के साथ कश्मीर में आतंक को बढ़ाने के लिए आधुनिक तकनीक का ज्यादा से ज्यादा इस्तेमाल किया जाए। अब सोशल मीडिया की मदद लेकर उसके आतंकी लोगों के दिमाग पर भी हमला करेंगे। जाहिर है भारत के ज्यादा से ज्यादा नौजवानों को भड़काने के लिए लश्कर अपनी रणनीति बदल रहा है। वो देश के नौजवानों को भारतीय सेना, भारत की सरकार के खिलाफ भड़काना चाहता है इसलिए भारतीय सुरक्षाबलों के सामने इस खतरे से निपटना बड़ी चुनौती है।

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए खबरों में खास से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: April 21, 2016, 10:47 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर