लाइव टीवी

...तो इस वजह से लालू की कड़वी बातों को भूलने पर मजबूर हुए बाबा रामदेव!

विक्रांत यादव | News18India
Updated: May 4, 2016, 10:18 PM IST

कहते हैं राजनीति में कोई परमानेंट दोस्त या दुश्मन नहीं होता और आज ये बात फिर साबित हुई है। जिस रामदेव पर लालू यादव ने कभी आरोप लगाया था कि वो अपने उत्पादों में हड्डियों का चूरा मिलाकर बेचते हैं।

  • Share this:
नई दिल्ली। कहते हैं राजनीति में कोई परमानेंट दोस्त या दुश्मन नहीं होता और आज ये बात फिर साबित हुई है। जिस रामदेव पर लालू यादव ने कभी आरोप लगाया था कि वो अपने उत्पादों में हड्डियों का चूरा मिलाकर बेचते हैं। आज उन्हीं रामदेव की कंपनी की क्रीम, उन्हीं के हाथों से अपने गालों पर लगवाई। 


ऐसा नहीं है कि लालू यादव की बाबा रामदेव के प्रति राय धीरे-धीरे बदली हो। चंद दिन पहले तक लालू यादव रामदेव को फ्रॉड मानते थे। अब उन्हें रामदेव लुप्त होती भारतीय परंपरा को बचाने वाले नजर आ रहे हैं। दोनों की दोस्ती के पीछे बिहार का बड़ा बाजार है। जहां सबसे बड़ा ब्रांड अगर कोई है तो वो खुद लालू यादव ही हैं।

रामदेव लालू यादव को बहुत कुछ याद दिलाने आए थे, लेकिन योग याद दिलाने आए बाबा रामदेव अपनी पतंजलि कंपनी का ढेर सारा सामान लेकर पहुंचे। बाबा रामदेव कैमरे के सामने लगातार कोशिश करते रहे कि किसी तरह लालू उनकी कंपनी के उत्पादों का नाम ले लें। लालू भी लगातार रामदेव के मन की करते रहे।  लालू ने रामदेव को विरोधियों की साजिशों से सावधान रहने को भी कहा।

लालू और रामदेव के इस दोस्ताने के बीच उन्हें मौके पर मौजूद रिपोर्टर लगातार पुराने दिनों की याद दिलाते रहे। उन्हें याद दिलाया गया जब चार साल पहले बाबा रामदेव ने सांसदों के खिलाफ अपशब्द कहे थे तो लालू ने रामदेव को मेंटल केस करार दिया था, लेकिन अब इतने सालों बाद रामदेव कैमरे पर किए गए लालू के तीखे हमलों को भूल चुके हैं। दरअसल, लालू जी गांव-देहात के व्यक्ति हैं। बहुत नीचे से उठ कर आए हैं। जाहिर है ये सम्मान सिर्फ सियासत से नहीं आया। इसके पीछे कारोबारी राज भी छिपा है।

आपको बता दें बिहार बाबा रामदेव के लिए बहुत बड़ा बाजार है। कांग्रेस को छोड़कर रामदेव दूसरे छोटे दलों का साथ भी लेना चाहते हैं। कारोबार के लिए रामदेव सिर्फ एनडीए पर ही आश्रित नहीं रहना चाहते। इस वजह से बिहार में नीतीश के साथ मिलकर सरकार चला रहे लालू यादव रामदेव के लिए अहम हो गए हैं। बिहार जैसे बाजार में अगर लालू जैसा ब्रांड एंबैसेडर मिल जाए तो रामदेव के वारे-न्यारे होने तय हैं। इसके लिए भले कुछ पुरानी बातें भूलनी पड़ें तो बुरा क्या है।

(पूरी कवरेज के लिए वीडियो देखें)

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए खबरों में खास से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: May 4, 2016, 8:02 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर