लाइव टीवी

पाकिस्तान के इस गांव में गली-गली में बनते हैं अवैध हथियार!

News18India
Updated: July 1, 2016, 10:32 PM IST

पाकिस्तान के खैबर पख्तूख्वाह इलाके में मौजूद दारा अदम खेल गांव का नाम रूस और अमेरिका तक में लिया जाता है।

  • Share this:
नई दिल्ली।  पाकिस्तान के खैबर पख्तूख्वाह इलाके में मौजूद दारा अदम खेल गांव का नाम रूस और अमेरिका तक में लिया जाता है। दुनिया के तमाम आतंकी संगठन भी इस गांव का नाम जानते हैं क्योंकि ये गांव दुनिया के बाकी गांवों से एकदम अलग है। दरअसल, दारा अदम खेल गांव के घर-घर में अवैध तरीके से दुनिया के खतरनाक हथियारों को तैयार किया जाता है। रिवॉल्वर, ऑटोमैटिक पिस्टल, पेन गन या क्लाशनिकोव, जिस भी हथियार का आप नाम लेंगे वो यहां मिल जाएगा।

सुबह होते ही यहां हथियारों को पॉलिश करने वाले, फिनिशिंग टच देने वाले अपने-अपने काम में जुट जाते हैं और दिन ढलते-ढलते आग उगलने वाले कई हथियार तैयार हो जाते हैं। पाकिस्तान के इस गन वाले गांव की अर्थव्यवस्था अवैध हथियार बनाने पर ही निर्भर है।

दारा अदम खेल गांव की गली-गली में अवैध हथियार बनाने की दुकाने हैं। इन दुकानदारों के पास एक असली हथियार आता है तो 10 दिन के भीतर उसकी कॉपी तैयार कर लेते हैं। एक बार हथियार की कॉपी तैयार होने के बाद 2-3 दिन के भीतर उसकी नई कॉपी तैयार कर ली जाती है यानी पूरा कारोबार अवैध और नकली हथियारों का है।

इस गांव के 75 फीसदी लोग अवैध हथियार बनाने का ही काम करते हैं। इन हथियारों को शिपयार्ड से लाए गए स्क्रैप मेटल से बनाया जाता है। इन्हें बनाने के लिए छोटे से हैंड टूल और ड्रिल का इस्तेमाल किया जाता है। इनके टूल्स भले ही बहुत पुराने हों, लेकिन इनसे बनने वाले हथियार सटीक होते हैं। ओरिजनल हथियार का सीरियल नंबर तक इन अवैध हथियारों पर डाला जाता है।

अवैध हथियार बनाने वालों का दावा है कि दुनिया में ऐसा कोई हथियार नहीं, जिसकी कॉपी यहां तैयार नहीं होती। इनके मुताबिक इनके बनाए हथियारों और असली हथियारों में फर्क करना मुश्किल हो जाएगा। हथियारों का ये कारोबार दिनों दिन बढ़ता ही जा रहा है। यहां के बच्चे भी अवैध हथियार बनाने के धंधे में शामिल हैं। यहां की एक पीढ़ी अपनी अगली पीढ़ी को हथियार बनाना सीखाती है और ये सिलसिला सालों से चलता आ रहा है।

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए खबरों में खास से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 1, 2016, 10:32 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर