अपना शहर चुनें

States

दिल्ली लाए गए आसाराम, एम्स में डॉक्टरी जांच

नाबालिग से रेप के आरोप में गिरफ्तारी के बाद से ही जमानत के लिए बीमारी का दावा करने वाले आसाराम को गुरुवार को जोधपुर जेल से दिल्ली लाया गया।

  • News18India
  • Last Updated: January 1, 2015, 5:40 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली। नाबालिग से रेप के आरोप में गिरफ्तारी के बाद से ही जमानत के लिए बीमारी का दावा करने वाले आसाराम को गुरुवार को जोधपुर जेल से दिल्ली लाया गया। दिल्ली में आसाराम की सेहत की जांच के लिए उन्हें एम्स ले जाया गया। आसाराम की जांच हो चुकी है और रिपोर्ट जल्द ही कोर्ट में पेश की जाएगी।
आसाराम का कहना है कि उन्हें त्रिनाड़ी शूल नाम की बीमारी है। हालांकि डॉक्टर और वैद्य इस तरह की किसी बीमारी से इनकार करते रहे हैं। उनके बेटे नारायण साईं का कहना है कि उन्हें ट्राईजिमिनियल न्यूरोलॉजिया नाम की बीमारी है। इस बीमारी की वजह से उनके भयंकर दर्द रहता है। फिलहाल एम्स में डॉक्टरों के एक बोर्ड ने आसाराम की सेहत की जांच की है। अब डॉक्टर बताएंगे कि उन्हें इलाज के लिए गामा सर्जरी की जरूरत है या नहीं।
इससे पहले बुधवार की रात जोधपुर सेंट्रल जेल से मंडोर एक्सप्रेस से आसाराम को दिल्ली के लिए रवाना किया गया। आसाराम के लिए एसी फर्स्ट क्लास में रिजर्वेशन था। जोधपुर स्टेशन पर भी आसाराम समर्थकों की भीड़ उन्हें विदा करने आई। हालांकि राजस्थान पुलिस आसाराम को बस से दिल्ली लाना चाहती थी। लेकिन आसाराम इसके लिए तैयार नहीं हुए। लेकिन जब कोर्ट ने भी उन्हें विमान से दिल्ली लाने की इजाजत नहीं दी तो उन्हें मजबूरन ट्रेन से दिल्ली लाना पड़ा। हैरानी की बात ये है कि पुलिस ने रिजर्वेशन के लिए उसका टिकट संत आसाराम जी के नाम से बनवाया। आसाराम की दिल्ली यात्रा की भनक लगते ही कई यात्रियों ने भी टिकट कटाकर उस ट्रेन से यात्रा शुरू कर दी। इस वजह से यात्रा के दौरान उसकी सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए।
आसाराम पर गुरुकुल की नाबालिग छात्रा के साथ बलात्कार का आरोप है। सूरत की दो महिलाओं के साथ भी उनपर बलात्कार का आरोप है। उस पर अप्राकृतिक यौन संबंध बनाने और आश्रम की साधिकाओं की मदद से महिलाओं के शोषण के आरोप हैं। इसके अलावा, आसाराम पर आपराधिक साजिश रचने और हथियार अधिनियम के तहत भी मामला दर्ज किया गया है।
फिलहाल छिंदवाड़ा की युवती के साथ दुष्कर्म के आरोप में जेल में बंद आसाराम को लेकर कई सवाल खड़े हो रहे हैं। सवाल ये कि आसाराम का टिकट संत आसाराम जी नाम से क्यों बनवाया गया? आसाराम को एसी फर्स्ट क्लास से दिल्ली क्यों लाया गया? कब मिलेगा पीड़ित महिलाओं को इंसाफ? क्या बलात्कार से जुड़े कानूनों में बदलाव और सख्ती का नहीं हुआ है कोई असर? क्या देर से मिले इंसाफ को पूरा इंसाफ माना जा सकता है? ये कुछ ऐसे सवाल हैं जिसकी चिंता सरकार और व्यवस्था को भी करनी चाहिए।
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज