Home /News /shows /

प्रशांत-योगेंद्र से सुलह का दिखावा कर रही है AAP!

प्रशांत-योगेंद्र से सुलह का दिखावा कर रही है AAP!

जैसे-जैसे अट्ठाइस तारीख करीब आ रही है वैसे-वैसे आम आदमी पार्टी में चल रहा शह और मात का खेल दिलचस्प होता जा रहा है। दोनों खेमों की तरफ से चालें चली जा रही हैं।

    नई दिल्ली। जैसे-जैसे अट्ठाइस तारीख करीब आ रही है वैसे-वैसे आम आदमी पार्टी में चल रहा शह और मात का खेल दिलचस्प होता जा रहा है। दोनों खेमों की तरफ से चालें चली जा रही हैं। दोनों खेमों की तरफ से ये दिखाने की कोशिश हो रही है कि समझौते की कोशिश हो रही है लेकिन अंदरखाने कुछ और ही चल रहा है।

    योगेंद्र यादव और प्रशांत भूषण पर आर-पार के मूड में नजर आ रहे केजरीवाल खेमा अंत तक ये दिखाने की फिराक में है कि उनकी तरफ से समझौते की हर संभव कोशिश हो रही है। सूत्रों के मुताबिक आज शाम या देर रात योगेंद्र यादव और केजरीवाल खेमे के नेताओं के बीच किसी अज्ञात लोकेशन पर बैठक होनी है।

    इस बैठक में दो तीन प्रस्तावों पर चर्चा होगी, लेकिन ये तय है कि योगेंद्र और प्रशांत के खिलाफ शिकायतों के मद्देनजर उनको नेशनल एक्जीक्यूटिव से बाहर करने पर कोई समझौता नहीं होगा। हालांकि पार्टी के नेता औपचारिक तौर पर सुहल की कोशिशों का ही राग अलाप रहे हैं।

    ये वही दिलीप पांडे हैं जिनकी शिकायत पर योगेंद्र और प्रशांत भूषण को पीएसी से बाहर किया गया था। पीएसी से इन दोनों को बाहर करने के बाद अब प्रशांत-योगेंद्र की जोड़ी को नेशनल एक्जीक्यूटिव से बाहर किया जाएगा। सूत्रों के मुताबिक केजरीवाल खेमा की तरफ से इस बात के संकेत दिए गए हैं कि अगर योगेंद्र यादव नेशनल एक्जीक्यूटिव से इस्तीफा दे देते हैं तो उनको कोई और जिम्मेदारी दी जा सकती है।

    अगर प्रशांत और योगेंद्र नेशनल एक्जीक्यूटिव से इस्तीफा दे देते हैं तो फिर केजरीवाल की राह का रोड़ा खत्म हो जाएगा और वो अपने मन मुताबिक फैसले ले सकेंगे। इन दोनों के नेशनल एक्जीक्यूटिव से बाहर होने के बाद दोनों कमेटियों यानी पीएसपी और एनई में केजरीवाल खेमे का दबदबा हो जाएगा।

    सूत्रों के मुताबिक अरविंद खेमा प्रशांत भूषण से खासा नाराज है। उनका मानना है कि प्रशांत भूषण अड़े हुए हैं और केजरीवाल के अलावा किसी और से बात नहीं करना चाहते हैं। उधर केजरीवाल उनको मिलने का वक्त नहीं दे रहे हैं।

    इस बात के भी कयास लगाए जा रहे हैं कि इस तनातनी के बीच प्रशांत भूषण 28 मार्च को होने वाली बैठक के लिए एक स्वतंत्र पर्यवेक्षक की मांग कर सकते हैं। आम आदमी पार्टी में जारी इस घामासान से ये बात तो साफ हो गई है कि अलग तरह की राजनीति का दावा करनेवाली पार्टी भी परंपरागत राजनीति की लकीर ही पीट रही है।

    क्या प्रशांत भूषण और योगेंद्र यादव को राष्ट्रीय कार्यकारिणी से बाहर करने का फैसला करने के बाद पार्टी के बड़े नेता दोनों से बातचीत और सुलह की कोशिश का दिखावा कर रहे हैं? इस मुद्दे पर बात करने के लिए आईबीएन7 पर बीजेपी प्रवक्ता संबित पात्रा, कांग्रेस प्रवक्ता आलोक शर्मा और एएपी के प्रवक्ता सोमनाथ भारती मौजूद थे। चर्चा देखने के लिए वीडियो देखें।

    Tags: AAP, Arvind kejriwal, Dilip Pandey, Prashant bhushan, Yogendra yadav

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर