लाइव टीवी

मुंबई में बढ़ा हाई प्रोफाइल सेक्स रैकेट का धंधा, पुलिस के हत्थे चढ़ी नामचीन मॉडल!

News18India
Updated: July 4, 2016, 12:18 AM IST

प्रॉडक्शन हाउस की आड़ में जिस्मफरोशी के दलदल का जब मुंबई पुलिस की सोशल सर्विस ब्रांच ने खुलासा किया तो लोगों को हैरानी हुई। लेकिन, ये हैरानी तब और बढ़ गई जिस्मफरोश एक नामचीन मॉडल निकली।

  • Share this:
मुंबई। मुंबई में हाई प्रोफाइल सेक्स रैकेट का धंधा जोर पकड़ चुका है। इस हाई प्रोफाइल धंधे के कर्ताधर्ता इसके लिए हाईटेक हो चुके हैं और इसके लिए वेबसाइट पर बाकायदा रेट कार्ड तक डाले गए हैं। प्रॉडक्शन हाउस की आड़ में जिस्मफरोशी के दलदल का जब मुंबई पुलिस की सोशल सर्विस ब्रांच ने खुलासा किया तो लोगों को हैरानी हुई। लेकिन, ये हैरानी तब और बढ़ गई जिस्मफरोश एक नामचीन मॉडल निकली। मौके से पुलिस ने दो और लड़कियों को मुक्त कराया।

पुलिस का दावा है कि आरोपी मॉडल बॉलीवुड और टीवी इंडस्ट्री में काम करने वाली संघर्षरत मॉडलों और अभिनेत्रियों से संपर्क करती थी। उन्हें ग्राहकों तक पहुंचाती थी और अपना धंधा चलाती थी। आरोपी मॉडल के पास से पुलिस को एक डायरी मिली।  इस डायरी में संघर्षरत मॉडलों की तस्वीरें मिली हैं। डायरी में करीब 100 मॉडलों की तस्वीरें थीं।

crime2562562

24 साल की इस मॉडल पर भी जिस्मफरोश होने का आरोप है। पुलिस का दावा है कि इस मॉडल की पहुंच बॉलीवुड की बड़ी-बड़ी हीरोइनों तक है।



ये इक्का-दुक्का मामले नहीं। मुंबई में हर हफ्ता ऐसे सेक्स रैकेट का खुलासा होता है और हर साल बड़ी संख्या में ऐसी मॉडल और अभिनेत्रियां बेनकाब होती हैं। जो मुंबई तो पहुंचती हैं हीरोइन बनने, लेकिन बन जाती हैं जिस्मफरोश।

मुंबई पुलिस के सोशल सर्विच ब्रांच का दावा है कि बीते साल यानी 2015 में 215 लड़कियों को सेक्स रैकेट में पकड़ा गया। इनमें से 202 लड़कियां बालिग थीं  जबकि 13 लड़कियां नाबालिग थीं। ये सब वो मामले हैं जो बड़े हैं।

एसीपी सोशल सर्विस ब्रांच मुंबई पुलिस नन्द कुमार के मुताबिक जैसा कि हमने 2015 में 215 लड़कियों को रेस्क्यू करवाया। इनमें से 202 मेजर, 13 माइनर ये काम बहुत बड़ा है। हम लोगों को जैसे ही खबर मिलता है कि कोई भी लड़की को जबरदस्ती इसमें लाया गया है। कोई भी लड़की को उसकी इच्छा के बगैर, हम तुरंत जाकर कार्रवाई करते हैं।

मुंबई पुलिस ने वर्सोवा में जिस मामले का खुलासा किया वह एक प्रोडक्शन हाउस की आड़ में चलाया जा रहा था। मुंबई पुलिस का दावा है कि एस्कार्ट्स सर्विस के नाम पर जिस्मफरोशी का ये गंदा धंधा बहुत तेजी से फैल रहा है। इसके लिए बाकायदा वेबसाइट्स तक बने हैं। इन वेबसाइट्स पर लड़की की तस्वीरों से लेकर दलाल के फोन नंबर तक होते हैं, जिससे उनसे संपर्क किया जा सकता है। ग्राहक दलाल से संपर्क कर तस्वीरों में से मनचाही लड़की का चुनाव कर मनचाही जगह पर उन्हें मंगा सकता है।

एसीपी सोशल सर्विस ब्रांच मुंबई पुलिस नन्द कुमार ने बताया है कि अभी एस्कार्ट सर्विस का काम बहुत ज्यादा हो गया। एस्कार्ट सर्विस बोले तो दलाल रहता है।  पुलिस के दावों को मनगढ़ंत नहीं कहा जा सकता। जिस्मफरोशी की दुनिया से जुड़ा एक दलाल मुबंई पुलिस के आरोपों की पुष्टि करता है। जिस्मफरोशी का ये धंधा हाईटेक हो चुका है।

दलाल के मुताबिक साइट्स की बात करें तो वेबसाइट भी है हमारी, जिसमें फोटोज वगैरह डाल के रखते हैं मॉडल्स की और बाकी लड़कियों की फोटोज रहते हैं।  उसके नीचे नाम, डिटेल्स और उसके नीचे हमारे फोन नंबर रहते हैं।

एस्कार्ट सर्विस की वेबसाइट को जिस्म के सौदागरों ने कोड वर्ड में बदल दिया है। यहां मॉडल्स और अभिनेत्रियों का रेट कार्ड मिलता है, लेकिन कूट भाषा यानी कोड वर्ड में। कुछ वेबसाइट्स पर रेट कार्ड कॉफी, डिनर और लंच के नाम पर मिलता है।   दो घंटे एक कप कॉफी के साथ 10,000 रुपये,  चार घंटे दो कप कॉफी के साथ 16,000 रुपये, डिनर डेट 8 घंटों के लिए 30,000 रुपये  और एक्स्ट्रा कप कॉफी के लिए 6,000/- रुपये। जाहिर है, इसमें कॉफी का वक्त सुबह या शाम का है। डिनर रात का और एक्स्ट्रा कप का मतलब तय घंटे के अलावा अतिरिक्त सेवा से है।

मुंबई को मायानगरी कहा जाता है। मुंबई लोगों के सपनों को पूरा करने वाला शहर कहा जाता है, लेकिन सपनों का पीछा करते-करते यहां पहुंचने वाले किस तरह देह व्यापार के दलदल में पहुंच जाते हैं। यह भी कम हैरतअंगेज नहीं। पार्टी,  रोशनी और चकाचौंध का सच स्याह भी हो सकता है और बेहद खौफनाक भी।

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए राजधानी एक्सप्रेस से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 3, 2016, 11:39 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर

भारत

  • एक्टिव केस

    5,095

     
  • कुल केस

    5,734

     
  • ठीक हुए

    472

     
  • मृत्यु

    166

     
स्रोत: स्वास्थ्य मंत्रालय, भारत सरकार
अपडेटेड: April 09 (08:00 AM)
हॉस्पिटल & टेस्टिंग सेंटर

दुनिया

  • एक्टिव केस

    1,099,679

     
  • कुल केस

    1,518,773

    +813
  • ठीक हुए

    330,589

     
  • मृत्यु

    88,505

    +50
स्रोत: जॉन हॉपकिंस यूनिवर्सिटी, U.S. (www.jhu.edu)
हॉस्पिटल & टेस्टिंग सेंटर