लाइव टीवी

मुंबई: नाबालिग ने ब्रेक की जगह दबाया एक्सीलेटर, हादसे में 2 मरे

News18India
Updated: April 22, 2016, 9:36 PM IST

मुंबई में एक परिवार में हर शख्स आंसुओं में डूबा है क्योंकि उनके चौदह साल के बेटे ने गाड़ी का स्टेयरिंग संभाल लिया था।

  • News18India
  • Last Updated: April 22, 2016, 9:36 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली। मुंबई में एक परिवार में हर शख्स आंसुओं में डूबा है क्योंकि उनके चौदह साल के बेटे ने गाड़ी का स्टेयरिंग संभाल लिया था।  नतीजे के तौर पर ऐसा हादसा सामने आया जिसने पूरी मुंबई को दहला दिया। इस घटना में दो लोगों की मौत हो गई।

यह घटना मुंबई के नागपाड़ा में आसमान को छूती 25 मंजिला इमारत हुई। इस बहुमंजिला इमारत का नाम इकबाल हाइट्स है। इस इमारत में सबसे बड़ा आराम मल्टीलेवल पार्किंग है। जाहिर है जिस मुंबई में रहने के लिए जगह मिलना मुश्किल है वहां पार्किंग की सुविधा सबसे बड़ा आराम मानी जाती है। लेकिन यही सुविधा एक परिवार के लिए मातम की वजह बन गई।

आपको बता दें इस इमारत में कार को ऊपर नीचे ले जाने के लिए लिफ्ट का इंतजाम है। लिफ्ट के जरिए ही कार मल्टीलेवल पार्किंग तक पहुंचती है। इस कार को भी लिफ्ट के जरिए ही दूसरी मंजिल से नीचे उतरना था, लेकिन एक गलती की वजह से ये कार मौत की कार बन गई।

दरअसल  14 साल का लड़का कहीं जाने के लिए ड्राइवर के साथ निकला था, लेकिन उसने जिद की कि कार को वही चलाएगा। ड्राइवर ने भी उसकी जिद मान ली और उसे कार की ड्राइविंग सीट पर बैठा दिया और खुद बराबर की सीट पर बैठ गया। लेकिन उसकी यही गलती दोनों की मौत की वजह बन गई। लड़के ने गाड़ी स्टार्ट करके आगे बढ़ाई और लिफ्ट के गेट के सामने गाड़ी को रोकने के लिए ब्रेक को पूरी ताकत से दबा दिया, लेकिन उसका पैर ब्रेक के बजाए एक्सीलेटर पर रखा था।



उसका नतीजा ये हुआ कि कार पूरी ताकत के साथ लिफ्ट के दरवाजे से टकराई। जिसकी वजह से दरवाजा खुल गया और कार सीधे लिफ्ट शॉफ्ट में समा गई। कार दूसरी मंजिल से गिरी तो सीधे बेसमेंट में आकर रूकी। इतनी ऊंचाई से गिरने की वजह से कार बुरी तरह से टूट हुई।

पुलिस के मुताबिक जब नाबालिग लड़का काफी देर तक घर नहीं लौटा तो परिवार उसे ढूंढने लगा और पुलिस को भी खबर दी गई। लेकिन जब पुलिस ने लड़के के मोबाइल को ट्रेस किया तो उसकी लोकेशन उसी इमारत से आ रही थी। इसी बीच उसी सोसायटी से फायर ब्रिग्रेड को एक फोन आया, जिसमें बताया कि लिफ्ट शाफ्ट में एक गाड़ी गिरी हुई है जिसमें दो लोग फंसे हैं। जिसके बाद पुलिस और फायर ब्रिग्रेड मौके पर पहुंची तो दोनों को बाहर निकाला गया। कार इतनी ऊंचाई से गिरी थी कि दोनों की मौके पर ही मौत हो गई।

बहरहाल, इस हादसे को देखकर अंदाजा लगाना मुश्किल नहीं कि नाबालिग बच्चों के हाथ में स्टेयरिंग देने का मतलब उनको खतरे में डालना। इस लिए हमारी आपसे विनती है कि अगर आपके बच्चे अभी नाबालिग हैं और गाड़ी चलाने के शौकीन हैं तो आप उन्हें गाड़ी की चाबी कभी ना दें। क्योंकि एक जरा सी गलती आपकी खुशियों को मातम में बदल सकती है।

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए राजधानी एक्सप्रेस से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: April 22, 2016, 7:37 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर