Home /News /shows /

घूस के आरोप में फंसी मुंबई की मेयर स्नेहल

घूस के आरोप में फंसी मुंबई की मेयर स्नेहल

महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना के पार्षद संदीप देशपांडे ने एक ऑडियो टेप जारी कर आरोप लगाया है कि स्नेहल अंबेकर ने पार्षदों को पैसे जारी करने के लिए घूस मांगी।

    मुंबई। मुंबई की मेयर स्नेहल अंबेकर पर रिश्वत मांगने का आरोप लगा है। महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना(एमएनएस)के पार्षद संदीप देशपांडे ने एक ऑडियो टेप जारी कर आरोप लगाया है कि स्नेहल अंबेकर ने पार्षदों को पैसे जारी करने के लिए घूस मांगी। इस ऑडियो को एमएनएस पार्षद संदीप देशपांडे ने रिकॉर्ड किया है। मेयर फंड में कई करोड़ के घोटाले का आरोप लगाते हुए एमएनएस ने एंटी करप्शन ब्यूरो में मेयर के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई है। इस ऑडियो टेप की प्रामाणिकता अभी तक साबित नहीं हुई है। मेयर स्नेहल अंबेकर शिवसेना की है।

    मुंबई की मेयर स्नेहल अंबेकर और एमएनएस का पार्षद संदीप देशपांडे के बीच बातचीत मराठी में हुई थी, इस बातचीत हिंदी रूपांतरण इस प्रकार है-

    रिपेप्शनिस्ट: हां, स्नेहल अंबेकर आप से बात करेंगे
    संदीप देशपांडे: हैलो
    स्नेहल अंबेकर: जय महाराष्ट्र
    संदीप देशपांडे: जय महाराष्ट्र, मैडम बोलिए
    स्नेहल अंबेकर: ठीक है, मैं फाइनल करने वाली थी इसलिए सोचा एक बार पूछ लूं।
    संदीप देशपांडे: क्या मैडम?
    स्नेहल अंबेकर: क्या करना है...हां? नहीं अभी मैंने क्या किया है?
    सभी को खुश करना है। कितना भी सोचा तो आखिर में वो बाकियों के पास आएगा तो आएगा ही लिखकर...तुम्हारे यहां से इंडिविजुअल भी आकर गए हैं और मैंने पहले तुमको 2 बोला था ना, लेकिन अब फाइनल है 3
    संदीप देशपांडे: नहीं मैडम आप आपना देख लीजिए।
    स्नेहल अंबेकर: नहीं लेकिन बाकी के लोग तेरे भरोसे पर रह गए है ना...सभी उनके लेटर सबके आ गए हैं।
    संदीप देशपांडे: मैं उनके लेटर आपको दे देता हूं...आपको जैसा लगे करो।
    स्नेहल अंबेकर: नहीं लेकिन सुनो... मैं क्या बोल रही हूं, बाकियों के भी लेटर आ गए हैं लेकिन वो तुम्हारे शब्द के आगे बोले नहीं होंगे...मुझे ऐसा लगता है..
    संदीप देशपांडे: लेकिन मामा का आपने पहले से ही किया है ना...
    स्नेहल अंबेकर: मामा का है उसके अलावा वैश्नवी सरकरे है...उसका भी आया है, मेरे ख्याल से आया है कॉन्ट्रैक्टर के थ्रू ही आया है...तेरा लेटर भी है पीछे और मामा का है...
    संदीप देशपांडे: लेकिन क्या करूं, कैसे करूं...और किसका लेटर आया है डायरेक्ट

    स्नेहल अंबेकर: लेटर अभी तुम कार्रवाई करोगे उसका टेंशन आ रहा है...
    संदीप देशपांडे: मैं क्यों कार्रवाई करूंगा मैडम... लेटर तो सबक ही आए होंगे ना
    स्नेहल अंबेकर: हां लेटर तो सबके ही आए है...क्या करूं अब
    संदीप देशपांडे: मैं करूं आपको एक दो मिनट में वापस से फोन

    Tags: Anti corruption bureau, MNS, Rajdhani express

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर