अपना शहर चुनें

States

जब सैयद किरमानी ने कपिल देव से कहा था- हमें मारकर मरना है...

Photo- BCCI
Photo- BCCI

भारत के पूर्व विकेटकीपर बल्लेबाज़ सैयद किरमानी का आज जन्मदिन है. किरमानी की गिनती भारतीय क्रिकेट के महानतम विकेट कीपरों में होती हैं. बहुत कम लोगों को पता है कि 1983 वर्ल्ड कप में किरमानी को सर्वश्रेष्ठ विकेट कीपर चुना गया था. तब उन्हें चांदी के दस्तानों में चांदी की गेंद जड़ा स्मृति चिन्ह मिला था.

  • Last Updated: December 29, 2016, 10:47 AM IST
  • Share this:
भारत के पूर्व विकेटकीपर बल्लेबाज़ सैयद किरमानी का आज जन्मदिन है. किरमानी की गिनती भारतीय क्रिकेट के महानतम विकेट कीपरों में होती हैं. बहुत कम लोगों को पता है कि 1983 वर्ल्ड कप में किरमानी को सर्वश्रेष्ठ विकेट कीपर चुना गया था. तब उन्हें चांदी के दस्तानों में चांदी की गेंद जड़ा स्मृति चिन्ह मिला था.

29 दिसंबर 1949 को जन्में किरमानी के 68वें जन्मदिन पर प्रदेश18 आपको इस क्रिकेटर से जुड़ी कुछ ऐसी ही अनसुनी बातों से रूबरू कराने जा रहा है.

1.किरमानी ने फिल्म 'कभी अजनबी थे' में एक अंडरवर्ल्ड के किरदार की भूमिका निभाई. इसी फिल्म में क्रिकेटर संदीप पाटिल भी नजर आए थे.
2. किरमानी ने अपना पहला टेस्ट मैच 1976 में न्यूज़ीलैंड के ख़िलाफ ऑकलैंड में खेला था. किरमानी ने पहले टेस्ट में कोई उल्लेखनीय प्रदर्शन नहीं किया और बल्ले से भी सिर्फ 14 रन का योगदान दिया.
3.सीरीज का दूसरा दूसरा टेस्ट क्राइस्टचर्च में खेला गया जहां किरमानी ने पहली पारी में 6 कैच लपककर उस समय के विश्व रिकॉर्ड की बराबरी की थी.


4. 1983 वर्ल्ड कप में जिम्बाब्वे के खिलाफ 17 रन पर पांच विकेट गिर गए थे. कपिल देव ने इस मैच में 175 रन की ऐतिहासिक पारी खेली थी. कपिल की इस पारी के दौरान दूसरे छोर पर उनके जोड़ीदार किरमानी थे.
5.कप्तान कपिल देव के साथ उन्होने नौवें विकेट के लिए नाबाद 126 रनों की साझेदारी निभाई, जिसमें किरमानी का योगदान 24 रन का था.
6.पिछले साल एक इंटरव्यू में किरमानी ने उस पारी को याद करते हुए कहा, 'कपिल देव का उत्साह बढ़ाते हुए मैंने उन्हें कहा कि आप दुनिया के धुरंधर बल्लेबाज़ हैं, मैं एक गेंद खेलूंगा, बाकी पांच गेंद आप खेलेंगे’
7.किरमानी ने कपिल से कहा कि 'अब करो या मरो जैसी हालत है और हमें मारकर मरना है'
8.न्यूजीलैंड दौरे के बाद वेस्टइंडीज में उन्होंने अपने प्रशंसकों को काफी निराश किया. इस दौरे में विवियन रिचर्ड्स के लगातार तीन टेस्ट मैचों में शतक जमाने के लिए अधिकांश क्रिकेट विशेषज्ञों ने सैयद किरमानी के खराब प्रदर्शन को सहायक बताया था.
9.हालांकि, अगले साल न्यूजीलैंड टीम के भारत दौरे पर आने के बाद किरमानी ने उम्दा प्रदर्शन किया.
10.1979 वर्ल्ड कप में किरमानी को टीम में शामिल नहीं किया गया. खराब प्रदर्शन को टीम से बाहर करने की वजह बताया गया. हालांकि, बताते हैं कि किरमानी को कैरी पैकर से ऑफर था इस वजह से उन्हें टीम में शामिल नहीं किया गया.
11. ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ किरमानी ने 1979-80 में एक शतक जमाया. वे मुंबई टेस्ट में नाइट वॉचमैन बल्लेबाज के रूप में बैटिंग करने के लिए भेजे गए थे. उन्होंने इस मैच में 5 घंटे खेलकर 101 रनों की पारी खेली.
12. 1981-82 में इंग्लैंड के खिलाफ लगातार तीन टेस्ट मैचों में एक भी बाई रन नहीं दिया.
13. भारत सरकार ने 1982 में किरमानी को पद्मश्री से सम्मानित किया था.
14. गावस्कर ने जब वेस्टइंडीज के खिलाफ नाबाद 236 रन बनाये थे तो किरमानी ने नौवें विकेट के लिये उनके साथ 143 रन की अटूट साझेदारी की थी.
15. किरमानी को सदानंद विश्वनाथ के लिए जगह खाली करनी पड़ी.
16. इसके बाद चंद्रकांत पंडित और किरण मोरे जैसे युवा विकेट कीपर के आने के बाद किरमानी के भारतीय टीम में वापसी के सारे दरवाजे बंद हो गए.
17. किरमानी 88 टेस्ट मैचों में विकेट के पीछे 160 कैच और 38 स्टंप किए.
18. उन्होंने टेस्ट क्रिकेट में दो शतकों की मदद से 2759 रन भी बनाए.
19. इसके अलावा उन्होंने 49 एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय मैचों में 27 कैच और 9 स्टंप के अलावा 373 रन भी बनाए.
20. किरमानी वर्ष 2000 में चयन समिति के चेयरमैन भी रहे थे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज