European Super League: 9 क्लबों पर लगा 134 करोड़ रुपए का जुर्माना, 3 अन्य क्लब अड़े

European Super League:  मेसी के क्लब बार्सिलोना ने अब तक हटने की घोषणा नहीं की है. (Lionel Messi Instagram)

European Super League: मेसी के क्लब बार्सिलोना ने अब तक हटने की घोषणा नहीं की है. (Lionel Messi Instagram)

यूएफा (UEFA) ने यूरोपियन सुपर लीग (European Super League) के लिए हामी भरने वाले 9 फुटबॉल क्लबों पर 134 करोड़ रुपए का जुर्माना लगाया है. तीन अन्य क्लबों पर भी बड़ा जुर्माना लग सकता है.

  • Share this:

नई दिल्ली. यूरोप के टॉप-12 क्लबों ने यूरोपियन सुपर लीग (European Super League) के लिए हामी भर दी थी. इसमें 6 इंग्लिश क्लब भी शामिल थे. लेकिन यूएफा (UEFA) और फीफा (FIFA) के अलावा फैंस की आलोचना के बाद इस लीग को स्थगित कर दिया गया. 9 क्लबों ने इससे हटने की भी बात कही. लेकिन अब तक तीन क्लबों की ओर से इस पर कुछ भी नहीं कहा गया गया है. इन पर यूएफा बड़ी कार्रवाई कर सकता है.

यूएफा ने 9 क्लबों आर्सनल, चेल्सी, लिवरपूल, मैनचेस्टर सिटी, मैनचेस्टर यूनाइटेड, टॉटेनहम, एसी मिलान, इंटर मिलान और एटलेटको मैड्रिड पर लीग से हटने के बाद बड़ा जुर्माना लगाया है. 9 क्लब मिलकर बच्चों और ग्रास रूट पर फुटबॉल को बढ़ावा देने के लिए 15 मिलियन यूरो यानी लगभग 134 करोड़ रुपए खर्च करेंगे. इन क्लबों ने यूएफा और उसके टूर्नामेंट पर भरोसा जताया है.

तीन क्लबों ने हटने की घोषणा नहीं की है

यूरोपियन सुपर लीग को हालांकि स्थगित कर दिया गया है. इसके बाद भी तीन क्लब बार्सिलोना, रियल मैड्रिड और युवेंतस ने अब तक लीग से हटने की आधिकारिक घोषणा नहीं है. ऐसे में यूएफा इन तीनों क्लबों पर कार्रवाई कर सकता है. लियोनेल मेसी बार्सिलोना से जबकि क्रिस्टियानो रोनाल्डो युवेंतस से खेलते हैं. हालांकि तीनों क्लब कह रहे हैं कि हमें यूएफा की ओर से हमें धमकी दी जा रही है.
यह भी पढ़ें: ओलंपियन शूटर अंजुम मुद्गिल ने कहा- भारत में अभ्यास करना सुरक्षित नहीं, क्रोएशिया बेहतर

तो सभी क्लबों पर लगेगा 900-900 करोड़ का जुर्माना

यूएफा ने कहा कि यदि भविष्य में ये क्लब किसी नई लीग के साथ जुड़ने की कोशिश करते हैं तो सभी पर 900-900 करोड़ रुपए का जुर्माना लगेगा. यूएफा के अध्यक्ष एलेक्जेंर सेफरिन ने कहा कि हमारी गलतियों के कारण ये क्लब ऐसा कदम उठाने में सफल रहे. हमें आगे से इस संबंध में ध्यान रखने की जरूरत है. हमारा संगठन बेहद मजबूत है और हम लगातार इसे मजबूत बनाने में कोई कसर नहीं छोड़ेंगे.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज