अल रेयान से ड्रॉ के बाद बोले एफसी गोवा के कोच जुआन फेर्रांडो, भारत के लोगों के लिए जीतना चाहता था

एफसी गोवा को एएफसी चैंपियंस लीग में अल-रेयान के खिलाफ शिकस्त झेलनी पड़ी. (Twitter)

एफसी गोवा को एएफसी चैंपियंस लीग में अल-रेयान के खिलाफ शिकस्त झेलनी पड़ी. (Twitter)

एफसी गोवा ने एएफसी चैंपियंस लीग के मुकाबले में अल-रेयान के खिलाफ ड्रॉ खेला. गोवा ने मैच में आखिरी मिनट में बराबरी का गोल खाया जिससे कोच जुआन फेर्रांडो काफी निराश नजर आए. फेर्रांडो ने कहा कि उनकी टीम कोरोना-19 महामारी की घातक दूसरी लहर से जूझ रहे भारत के लोगों के लिए यह मुकाबला जीतना चाहती थी. भारत में कोरोना वायरस के चलते बड़ी संख्या में लोग प्रभावित हैं.

  • Share this:
मड़गांव. एएफसी (एशियाई फुटबॉल परिसंघ) चैंपियंस लीग में अल-रेयान के खिलाफ मैच में आखिरी मिनट में बराबरी का गोल खाने से बेहद निराश एफसी गोवा के मुख्य कोच जुआन फेर्रांडो ने कहा कि उनकी टीम कोरोना-19 महामारी की घातक दूसरी लहर से जूझ रहे भारत के लोगों के लिए यह मुकाबला जीतना चाहती थी. एफसी गोवा ने सोमवार को यहां ग्रुप ई के मैच में जोर्ज मोर्टिज मेंडोजा के तीसरे मिनट में किए गोल से बढ़त हासिल कर ली थी लेकिन 89वें मिनट में अली फेर्यदून के गोल से कतर की टीम अल रेयान ने बराबरी कर ली. इससे गोवा का एएफसी चैंपियंस लीग (एसीएल) में जीत दर्ज करने वाली पहली भारतीय टीम बनने का सपना टूट गया.

फेर्रांडो ने कहा, ‘जब आप आखिरी मिनटों में हारते (गोल खाते) हैं तो इसे पचा पाना काफी मुश्किल होता है लेकिन सच्चाई यह है कि हम बहुत मजबूत टीमों के खिलाफ खेल रहे हैं. पेरसेपोलिस, अल वहदा और अल रेयान जैसी टीमों के खिलाफ खेलना शानदार है.’ कोच ने कहा, ‘यह एक बहुत महत्वपूर्ण मैच था क्योंकि इस समय भारत में स्थिति बहुत मुश्किल है. हम सोच रहे थे कि अगर हम जीत गए तो यह भारत के लोगों के लिए एक अच्छा पल होगा क्योंकि खिलाड़ियों के लिए यह बहुत मुश्किल समय है.’

इसे भी पढ़ें, अख्तर की पाकिस्तान के लोगों से अपील- भारत में ऑक्सीजन की कमी, मदद करें

उन्होंने कहा, ‘वे भारत के लिए खेलने के बारे में बात कर रहे थे क्योंकि मुझे पता है कि यह कठिन समय है लेकिन हमने आखिरी मिनट में मौका गंवा दिया। यह फुटबॉल है.’ गेंद को अपने कब्जे में रखने के मामले में पहला हाफ अल रेयान के नाम जरूर रहा लेकिन दूसरे हाफ में मुकाबला बराबरी का था.
फेर्रांडो ने कहा, ‘जाहिर है हमें सुधार की जरूरत है, हमें अल वहदा के खिलाफ अगला मैच खेलना है. टीम के कुछ खिलाड़ी चोटिल हैं और ऐसे में तैयारी करने में समस्या आ रही है. चिकित्सा से जुड़े कर्मी बिना थके काम कर रहे हैं.’ उन्होंने कहा, ‘हमें आखिरी क्षणों में गोल से बचने के लिए बेहतर करना होगा, हम जिन टीम के खिलाफ खेल रहे, उनसे अपनी तुलना करें तो यह बड़ा अंतर है. हमारे खिलाड़ियों के लिए आखिरी क्षणों में गोल खाना बेहद ही बुरा अनुभव रहा. वे मैदान में काफी थक चुके थे.’

इसे भी पढ़ें, महिला फुटबॉल लीग को ओडिशा में कोविड-19 मामलों में बढ़ोतरी के कारण टला

टीम के नाम पांच मैचों में तीन अंक है और उसे अल वहदा के खिलाफ ग्रुप चरण का आखिरी मैच 30 अप्रैल को खेलना है. लीग के एक अन्य मैच में सोमवार को अल वहदा ने पेरसेपोलिस एफसी को 1-0 से हराया जिससे इंडियन सुपर लीग की यह टीम एसीएल के नॉक-आउट चरण में जगह बनाने के दौड़ से बाहर हो गई है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज