लाइव टीवी

एशियन गेम्‍स में गोल्‍ड जीत पूरा किया सपना मगर मेडल देखने से पहले ही गुजर गए पिता

News18Hindi
Updated: September 4, 2018, 9:14 PM IST

पिछले काफी समय से कैंसर से जूझ रहे तेजिंदर के पिता का सोमवार को मोगा में निधन हो गया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 4, 2018, 9:14 PM IST
  • Share this:
जकार्ता में हुए एशियन गेम्स में करोड़ों भारतवासियों को सुनहरी खुशी देने वाले एथलीट तेजिंदरपाल सिंह तूर के लिए देश वापसी के साथ ही खुशियां छिन गई. सोमवार शाम को जकार्ता से दिल्ली वापस लौटने के साथ ही तेजिंदर को दिल तोड़ देने वाली खबर मिली. पिछले काफी समय से कैंसर से जूझ रहे तेजिंदर के पिता का सोमवार को मोगा में निधन हो गया.

तेजिंदर ने जकार्ता में गोला फेंक (शॉट पुट) में भारत को स्वर्ण पदक दिलाया था. एथलेटिक्स में तेजिंदर ने ही स्वर्ण पदकों का खाता खोला था. तेजिंदर ने 20.75 मीटर के थ्रो के साथ एशियन गेम्स का रिकॉर्ड बनाया था.

तेजिंदर के पिता को पिछले दो सालों से कैंसर था और वो पंजाब के मोगा के अस्पताल में भर्ती थे. तेजिंदर के पिता का सपना था कि उनका बेटा एशियाड में गोल्ड जीते और वो उनका मेडल उठाएं लेकिन ऐसा हो नहीं पाया. तेजिंदर के घर पहुंचने से पहले ही उनका निधन हो गया.

भारतीय एथलेटिक्स महासंघ के अध्यक्ष आदिल सुमारिवाला ने देर रात ट्वीट कर तेजिंदर के पिता के निधन की जानकारी दी. सुमारिवाला ने लिखा- “AFI गहरे सदमें में है. हमने कुछ देर पहले ही शॉट पुट में एशियन गेम्स का स्वर्ण पदक जीतने वाले तेजिंदर तूर का एयरपोर्ट पर स्वागत किया था और उसी वक्त उनके पिता के निधन की दुखद खबर मिली. उनकी आत्मा को शांति मिले. हमारी संवेदनाएं उनके और उनके परिवार के साथ हैं.”

पंजाब के एक साधारण किसान परिवार से ताल्लुक रखने वाले तेजिंदर पाल सिंह तूर बचपन में एक क्रिकेटर बनना चाहते थे. लेकिन, किस्मत को कुछ और ही मंज़ूर था. पिता के कहने पर उन्होंने शॉटपुट खेलना शुरू किया और ये उनकी ज़िन्दगी का सबसे अच्छा निर्णय साबित हुआ. युवा तेजिंदर को इसमें काफी सफलता मिली और उन्होंने एशियन गेम्स में भी इतिहास रचा.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए अन्य खेल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 4, 2018, 6:28 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर