Home /News /sports /

Tokyo Paralympics: अवनि लेखरा ने रचा इतिहास, टोक्यो पैरालंपिक में जीता दूसरा मेडल

Tokyo Paralympics: अवनि लेखरा ने रचा इतिहास, टोक्यो पैरालंपिक में जीता दूसरा मेडल

अवनि की इस उपलब्धि पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, केन्द्रीय गृहमंत्री अमित शाह और सीएम अशोक गहलोत ने बधाई दी है.

अवनि की इस उपलब्धि पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, केन्द्रीय गृहमंत्री अमित शाह और सीएम अशोक गहलोत ने बधाई दी है.

Tokyo Paralympics 2020: अवनि लेखरा (Avani Lekhara) ने टोक्यो पैरालंपिक खेलों में गोल्ड के बाद ब्रॉन्ज मेडल जीत इतिहास रच दिया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated :

    नई दिल्ली. 19 साल की अवनि लेखरा (Avani Lekhara) ने टोक्यो पैरालंपिक खेलों में गोल्ड के बाद ब्रॉन्ज मेडल जीत इतिहास रच दिया है. अवनि महिलाओं की 50 मीटर राइफल थ्री पोजीशन एसएच1 में तीसरे स्थान पर रहीं. अवनि ने कुछ दिनों पहले ही महिलाओं के 10 मीटर एयर राइफल के क्लास एसएच1 में गोल्ड मेडल जीता था. टोक्यो पैरालंपिक में यह भारत का 12वां पदक है. टोक्यो पैरालंपिक 2020 में भारत अब तक 2 गोल्ड, 6 सिल्वर और 4 ब्रॉन्ज मेडल जीत चुका है. हाई जंप में ही भारत को 4 पदक मिले हैं. यह पैरालंपिक इतिहास में भारत का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन है. इससे पहले भारत ने 2016 में रियो पैरालंपिक में 2 गोल्ड सहित 4 मेडल जीते थे.

    अवनि लेखरा एक ही ओलंपिक या पैरालंपिक खेलों में दो मेडल जीतने वाली पहली महिला हैं. भारत की तरफ से ओलंपिक या पैरालंपिक खेलों में सबसे ज्यादा तीन पदक जोगिंदर सिंह बेदी ने जीते हैं. बेदी ने 1984 लॉस एंजिल्स पैरालंपिक खेलों में एक रजत और दो कांस्य पदक पदक जीता था. बेदी ने गोला फेंक में रजत पदक, जबकि चक्का और भाला फेंक में कांस्य पदक जीते थे.

    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कांस्य पदक जीतने पर अवनि लेखरा को बधाई दी और कहा कि उनके शानदार प्रदर्शन से उन्हें बहुत खुशी हुई. प्रधानमंत्री ने एक ट्वीट में कहा, ‘‘’टोक्यो पैरालंपिक में भारत के लिए गौरव का एक और क्षण. अवनि लेखरा के शानदार प्रदर्शन से बेहद उत्साहित हूं. देश के लिए कांस्य पदक जीतने पर उन्हें बधाइयां. भविष्य के लिए उन्हें ढेर सारी शुभकामनाएं.’’

    जयपुर की रहने वाली यह 19 वर्षीय निशानेबाज ओलंपिक या पैरालंपिक (Paralympics) में गोल्ड जीतने वाली पहली भारतीय महिला खिलाड़ी हैं. उनकी रीढ़ की हड्डी में 2012 में कार दुर्घटना में चोट लग गयी थी.

    Tokyo Paralympics: एथलीट प्रवीण कुमार ने जीता सिल्वर, भारत को मिला टोक्यो पैरालंपिक में 11वां मेडल

    अभिनव बिंद्रा की किताब पढ़कर अवनि को मिली प्रेरणा
    अवनि को उनके पिता ने खेलों में जाने के लिये प्रेरित किया. उन्होंने पहले निशानेबाजी और तीरंदाजी दोनों खेलों में हाथ आजमाये. उन्हें निशानेबाजी अच्छी लगी. उन्हें बीजिंग ओलंपिक 2008 के स्वर्ण पदक विजेता अभिनव बिंद्रा की किताब पढ़कर भी प्रेरणा मिली. उन्होंने 2015 में जयपुर के जगतपुरा खेल परिसर में निशानेबाजी शुरू की थी. कानून की छात्रा अवनि ने संयुक्त अरब अमीरात में विश्व कप 2017 में भारत की तरफ से डेब्यू किया था.

    Tags: Avani Lekhara, Paralympics, Paralympics 2020, Tokyo Paralympics, Tokyo Paralympics 2020

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर