SWISS OPEN: सिंधु ने 19 महीने और 13 टूर्नामेंट बाद फाइनल में जगह बनाई, पर मिली हार

पीवी सिंधु को 9वीं बार मारिन से हार मिली (फोटो सिंधु के टि्वटर अकाउंट से)

पीवी सिंधु को 9वीं बार मारिन से हार मिली (फोटो सिंधु के टि्वटर अकाउंट से)

भारतीय बैडमिंटन खिलाड़ी पीवी सिंधु 13 टूर्नामेंट और 19 महीने बाद किसी टूर्नामेंट के फाइनल में पहुंची थीं. लेकिन वे खिताब नहीं जीत सकीं. फाइनल में वे मारिन से हार गईं.

  • Share this:
नई दिल्ली. भारतीय बैडमिंटन खिलाड़ी पीवी सिंधु (PV Sindhu) स्विस ओपन (Swiss Open) के फाइनल में हार गईं. सिंधु वर्ल्ड चैंपियन बनने के बाद से किसी टूर्नामेंट के फाइनल में नहीं पहुंची थीं. वे 13 टूर्नामेंट और 19 महीने बाद खिताबी मुकाबले में जगह बनाने में सफल हुई थीं. लेकिन स्पेन की कैरोलिना मारिन के खिलाफ वे जीत हासिल नहीं कर सकीं. मारिन ने उन्हें सीधे गेम में हराया.

मारिन ने पहले गेम में शुरुआत से ही बढ़त बना ली थी. उन्होंने यह गेम 19 मिनट में 21-12 से जीत लिया. दूसरा गेम में भी सिंधु कोई खास चुनौती नहीं दे सकीं. मारिन ने यह गेम 16 मिनट में 21-5 से जीतकर खिताब अपने नाम किया. मैच 35 मिनट में ही खत्म हो गया. मारिन ने पहली बार स्विस ओपन का खिताब जीता. महिला सिंगल्स की बात की जाए तो बतौर भारतीय महिला सिंगल्स में सिर्फ साइना नेहवाल यहां चैंपियन बनी हैं. साइना ने 2011 और 2012 में लगातार दो साल यह खिताब जीता था. लेकिन मौजूदा सीजन के पहले राउंड में ही हारकर साइना बाहर हो गई थीं. कोई भी भारतीय खिलाड़ी किसी कैटेगरी के फाइनल में नहीं पहुंच सका था. ओलिंपिक के पहले पीवी सिंधु का फॉर्म में आना भारत के लिए अच्छा है, लेकिन उन्हें मेडल जीतने के लिए टॉप खिलाड़ियों को हराना होगा. दाेनों के बीच यह 14वीं भिड़ंत थी. कैरोलिना मारिन ने 9 बार जबकि पीवी सिंधु ने 5 बार जीत हासिल की है. ओलिंपिक के मुकाबले इस साल जुलाई-अगस्त में जापान में होने हैं. कोरोना के बाद से वर्ल्ड टूर्नामेंट जब से शुरू हुए हैं, मारिन का प्रदर्शन बेहतरीन रहा है.

यह भी पढ़ें: WTC: इन 4 युवाओं ने वर्ल्ड चैंपियनशिप के दौरान डेब्यू किया, अब इन्हीं पर दारोमदार



पुरुष सिंगल्स का खिताब विक्टर एक्सलसन ने जीता
पुरुष सिंगल्स का खिताब डेनमार्क के विक्टर एक्सलसन ने जीता. एक्सलसन ने थाईलैंड के कुनलावुत वितिस्त्रम को सीधे गेम में 21-16, 21-6 से हराया. यह मुकाबला 47 मिनट तक चला. एक्सलसन ने दूसरी बार यहां खिताब जीता. इसके पहले वे 2014 में भी चैंपियन बन चुके हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज