Home /News /sports /

वासु परांजपे के निधन से दुखी सौरव गांगुली, कहा- पर्दे के पीछे से संवारा भारतीय क्रिकेटरों का करियर

वासु परांजपे के निधन से दुखी सौरव गांगुली, कहा- पर्दे के पीछे से संवारा भारतीय क्रिकेटरों का करियर

सौरव गांगुली ने पूर्व कोच वासु परांजपे के साथ बिताए पलों को याद किया . (pc: Sourav Ganguly/Instagram)

सौरव गांगुली ने पूर्व कोच वासु परांजपे के साथ बिताए पलों को याद किया . (pc: Sourav Ganguly/Instagram)

पूर्व क्रिकेटर और जाने माने कोच वासु परांजपे (Vasudeo Paranjape) ने 82 साल की उम्र में दुनिया को अलविदा कह दिया. उन्‍होंने सुनील गावस्‍कर, सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) से लेकर रोहित शर्मा तक को तराशने का काम किया था

    मुंबई. भारतीय क्रिकेट बोर्ड (बीसीसीआई) ने पूर्व क्रिकेटर और जाने माने कोच वासु परांजपे के निधन पर मंगलवार को शोक जताया. परांजपे का सोमवार को मातुंगा में अपने आवास पर निधन हो गया था. वह 82 वर्ष के थे. बीसीसीआई ने बयान में कहा कि बीसीसीआई वासुदेव पारंजपे के निधन पर शोक व्यक्त करता है, जिन्होंने विभिन्न क्षमताओं में खेल की सेवा की. उन्‍होंने सुनील गावस्कर (Sunil Gavaskar), दिलीप वेंगसकर (Dilip Vengsarkar), राहुल द्रविड़ (Rahul Dravid), सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) और रोहित शर्मा (Rohit Sharma) को भी तराशने का काम किया.
    बयान के अनुसार कि खेल पर बेहतरीन पकड़ होने के कारण उन्होंने मुंबई और भारत के कई दिग्गजों के करियर को संवारा. तकनीकी रूप से बेहद सक्षम परांजपे ने अपने मानव प्रबंधन कौशल का शानदार इस्तेमाल किया. बीसीसीआई ने कहा कि बोर्ड ने 1980 के दशक में उन्हें कोचिंग निदेशक नियुक्त किया और वह जूनियर क्रिकेटरों के शिविर के मुख्य कोच भी रहे. वर्ष 2000 में जब राष्ट्रीय क्रिकेट अकादमी का उद्घाटन किया गया तो परांजपे इसके कोचों के शुरुआती समूह में शामिल थे.

    IPL 2022 : बीसीसीआई को 2 टीमों से मिल सकते हैं 5 हजार करोड़, अगले सीजन से होंगे 74 मैच

    IND vs ENG: टीम इंडिया पर सीरीज हारने का खतरा! ओवल और मैनचेस्टर दोनों वेन्यू पर रिकॉर्ड खराब

    क्रिकेटरों की सुनाते थे कहानियां
    बीसीसीआई अध्यक्ष और पूर्व भारतीय कप्तान सौरव गांगुली ने कहा कि मुझे वासू सर के साथ अपनी बातें याद हैं. वह हर छोटी चीज की जानकारी रखने वाले शानदार कोच के अलावा काफी मजाकिया भी थे. उनके साथ कभी उबाऊ लम्हा नहीं आया, क्योंकि वे हमें उन क्रिकेटरों की शानदार कहानियां सुनाते थे जिन्हें देखते हुए हम बड़े हुए. गांगुली ने कहा कि उन्होंने भारतीय क्रिकेट की सेवा करने वाले क्रिकेटरों का करियर संवारने में पर्दे के पीछे से शानदार भूमिका निभाई. मैं जतिन और पूरे परांजपे परिवार के प्रति संवेदना व्यक्त करता हूं.

    Tags: BCCI, Cricket, India cricket team, Sourav Ganguly

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर