• Home
  • »
  • News
  • »
  • sports
  • »
  • Tokyo Olympics: मुक्केबाज लवलीना बोरगोहेन का गोल्ड का सपना टूटा, ब्रॉन्ज मेडल से ही करना होगा संतोष

Tokyo Olympics: मुक्केबाज लवलीना बोरगोहेन का गोल्ड का सपना टूटा, ब्रॉन्ज मेडल से ही करना होगा संतोष

Tokyo Olympics: मुक्केबाज लवलीना बोरगोहेन को ब्रॉन्ज मेडल से ही संतोष करना होगा, सेमीफाइनल में मिली हार. (AP)

Tokyo Olympics: मुक्केबाज लवलीना बोरगोहेन को ब्रॉन्ज मेडल से ही संतोष करना होगा, सेमीफाइनल में मिली हार. (AP)

Tokyo Olympics 2020: भारतीय मुक्केबाज लवलीना बोरगोहेन (Lovlina Borgohain) सेमीफाइनल में तुर्की की मौजूदा विश्व चैंपियन बुसेनाज सुरमेनेली से हार गईं. लवलीना का ओलंपिक फाइनल में पहुंचने का सपना टूट गया और उन्हें ब्रॉन्ज मेडल (Lovlina Bronze Medal) से ही संतोष करना होगा.

  • Share this:

    नई दिल्ली. मुक्केबाज लवलीना बोरगोहेन (Lovlina Borgohain) टोक्यो ओलंपिक (Tokyo Olympics) में इतिहास रचने से चूक गईं. लवलीना को 69 किलोवर्ग के सेमीफाइनल में तुर्की की मौजूदा विश्व चैंपियन बुसेनाज सुरमेनेली (Lovlina Borgohain vs Busenaz Surmeneli) ने 5-0 से हराया. असम की 23 वर्षीय लवलीना बॉक्सिंग में ब्रॉन्ज मेडल जीतने वाली तीसरी भारतीय खिलाड़ी हैं. लवलीना की हार के साथ ही बॉक्सिंग में भारतीय चुनौती समाप्त हो गई. टोक्यो ओलंपिक (Tokyo 2020) में भारत की तरफ से मुक्केबाजी में सिर्फ लवलीना ही पदक जीतने में कामयाब रहीं.

    टोक्यो खेलों में यह भारत का तीसरा पदक है. इससे पहले भारोत्तोलन में मीराबाई चानू (Mirabai Chanu) ने रजत जबकि बैडमिंटन में पीवी सिंधु (PV Sindhu) ने कांस्य पदक जीता. लवलीना का पदक पिछले नौ वर्षों में भारत का ओलंपिक मुक्केबाजी में पहला पदक है. लवलीना ओलंपिक मुक्केबाजी प्रतियोगिता फाइनल में जगह बनाने वाली पहली भारतीय मुक्केबाज बनने के लिए चुनौती पेश कर रही थी लेकिन विश्व चैंपियन बुसेनाज ने उनका सपना तोड़ दिया. भारतीय मुक्केबाज के पास तुर्की की खिलाड़ी के दमदार मुक्कों और तेजी का कोई जवाब नहीं था. इस बीच हड़बड़ाहट में भी लवलीना ने गलतियां की.

    क्वार्टर फाइनल में लवलीना हालांकि चीनी ताइपै की पूर्व विश्व चैंपियन नीन चिन चेन को हराकर पहले ही पदक पक्का कर चुकी थीं. असम की 23 वर्षीय लवलीना ने विजेंदर सिंह (बीजिंग 2008) और एमसी मैरीकॉम (लंदन 2012) की बराबरी की. विजेंदर और मैरीकोम दोनों ने कांस्य पदक जीते थे. तुर्की की मुक्केबाज 2019 चैंपियनशिप में विजेता रही थी जबकि उस प्रतियोगिता में लवलीना को कांस्य पदक मिला था. तब इन दोनों के बीच मुकाबला नहीं हुआ था.

    यह भी पढ़ें:

    Tokyo Olympics: टोक्यो के दंगल में बजा रवि दहिया-दीपक पूनिया का डंका, मेडल से बस एक जीत दूर

    नीरज चोपड़ा ने Tokyo Olympics में जगाई मेडल की आस, पहली कोशिश में ही जेवलिन थ्रो के फाइनल में पहुंचे

    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ओलंपिक की मुक्केबाजी प्रतियोगिता में कांस्य पदक जीतने पर लवलीना को बधाई दी और कहा कि रिंग में उनकी सफलता कई भारतीयों को प्रेरित करती है. प्रधानमंत्री ने एक ट्वीट में कहा, ‘‘बहुत शानदार मुकाबला किया लवलीना बोरगोहेन. बॉक्सिंग रिंग में उनकी सफलता कई भारतीयों को प्रेरित करती है. उनकी दृढ़ता और संकल्प प्रशंसनीय है. कांस्य पदक जीतने पर उन्हें बधाई. भविष्य के लिए ढेर सारी शुभकामनाएं.’’

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज