vidhan sabha election 2017

35 साल बाद इस गेंदबाज़ ने लगाई मुंबई के खिलाफ हैट्रिक

News18Hindi
Updated: December 7, 2017, 4:31 PM IST
35 साल बाद इस गेंदबाज़ ने लगाई मुंबई के खिलाफ हैट्रिक
आर विनय कुमार
News18Hindi
Updated: December 7, 2017, 4:31 PM IST
इस समय रणजी ट्रॉफी के 84वें सत्र के क्वार्टर फाइनल मैच चल रहे हैं जिसमें आठ टीमें सेमीफाइनल के टिकट के लिए जद्दोजहद कर रही हैं. जबकि नागपुर के विदर्भ क्रिकेट एसोसिएशन स्टेडियम में 41 बार की चैंपियन मुंबई और आठ बार इस ख़िताब पर कब्जा करने वाली कर्नाटक टीम के बीच जबरदस्त मुकाबला चल रहा है. इस दौरान कर्नाटक के कप्तान और तेज़ गेंदबाज़ ​आर विनय कुमार ने मुंबई के खिलाफ हैट्रिक लेकर मैच को अपने लिए यादगार ​बना लिया है.

हालांकि उनकी ये हैट्रिक दो ओवर में पूरी हुई. 33 साल के इस तेज़ गेंदबाज़ ने मैच के पहले ओवर की अंतिम गेंद पर मुंबई के युवा बल्लेबाज़ पृथ्वी शॉ (2 रन) को नायर के हाथों कैच कराया तो अपने दूसरे और मैच के तीसरे ओवर की पहली गेंद पर ओपनर जय बिष्टा (1 रन) को आउट किया. उन्हें भी नायर ने कैच किया. जबकि ओवर की दूसरी गेंद पर आकाश पारकर (0) को एलबीडब्ल्यू कर अपनी हैट्रिक पूरी की.

500 से अधिक मैचों में मुंबई के खिलाफ़​ सिर्फ तीसरी हैट्रिक
मुंबई ने अब तक 500 से ज़्यादा रणजी मैच खेले हैं और यह उसके खिलाफ सिर्फ तीसरी हैट्रिक है. हालांकि उसके खिलाफ अभी तक सभी हैट्रिक नॉकआउट दौर में ही हुई हैं. 1972-73 में मुंबई के खिलाफ़ पहली और 1981-82 में दूसरी हैट्रिक हुई थी, जो कि क्रमश: सेमीफाइनल और फाइनल मैच थे.

कर्नाटक के तीसरे सफल गेंदबाज़ बने विनय कुमार
मुंबई की पहली पारी में 34 रन देकर छह विकेट लेने वाले कुमार 375 विकेट के साथ कर्नाटक के तीसरे सफल गेंदबाज़ बन गए हैं. कर्नाटक के लिए सुनील जोशी ने सबसे अधिक 479 विकेट लिए हैं. वहीं बीएस चंद्रशेखर के नाम 437 विकेट दर्ज हैं.

रणजी की 75वीं और नॉकआउट की छठी हैट्रिक
यह मौजूदा सत्र की पहली और रणजी ट्रॉफी के इतिहास की कुल 75वीं हैट्रिक है. रणजी ट्रॉफी में पहली हैट्रिक बाका जिलानी ने नॉर्दन इंडिया के लिए खेलते हुए साउर्थन पंजाब के खिलाफ 1934-35 में ली थी.
इसी के साथ कुमार फर्स्ट क्लास क्रिकेट में दो हैट्रिक लेने वाले कर्नाटक के दूसरे गेंदबाज बन गए हैं. इससे पहले उन्होंने अपनी पहली हैट्रिक 2006-07 में महाराष्ट्र के खिलाफ ली थी. वह कर्नाटक के लिए अनिल कुंबले के बाद दो हैट्रिक लेने वाले सिर्फ दूसरे गेंदबाज़ हैं. विनय कुमार समेत कर्नाटक के लिए अब तक आठ गेंदबाज़ों ने हैट्रिक ली है.

यही नहीं, आर विनय कुमार की नॉकआउट दौर में हैट्रिक लेने वाले छठे गेंदबाज़ हैं. हालांकि बतौर कप्तान वह ऐसा कारनामा करने वाले इकलौते गेंदबाज़ हैं. रणजी के नॉकआउट में पहली हैट्रिक होल्कर से खेलने वाले सीटी सरवते ने बिहार के खिलाफ 1948-49 में ली थी. संयोगवश वह भी क्वार्टर फाइनल मुकाबला था.

ये भी पढ़ें :

क्या वाकई शादी कर रही है 'विरुष्का'?

शून्य से शुरुआत करके विराट ने बनाया ऐसा अनोखा रिकॉर्ड 

 
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर