Home /News /sports /

1983 World Cup: 'मार के मरने का है', जब सैयद किरमानी के कहने पर कपिल देव ने ठोके 175 रन

1983 World Cup: 'मार के मरने का है', जब सैयद किरमानी के कहने पर कपिल देव ने ठोके 175 रन

भारत की 1983 World Cup जीत में कपिल देव की भूमिका अहम रही थी. उन्होंने जिम्बाब्वे के खिलाफ 175 रन की स्पेशल पारी खेली थी. (Kapil Dev Instagram)

भारत की 1983 World Cup जीत में कपिल देव की भूमिका अहम रही थी. उन्होंने जिम्बाब्वे के खिलाफ 175 रन की स्पेशल पारी खेली थी. (Kapil Dev Instagram)

83 World Cup: भारत ने कपिल देव (kapil Dev) की कप्तानी में 1983 का विश्व कप जीता था. इस पर रणवीर सिंह (Ranveer Singh) की फिल्म 83 आ रही है. इस टूर्नामेंट में कपिल ने जिम्बाब्वे के खिलाफ 17 रन पर 5 विकेट गिरने क बाद 175 रन की पारी खेली थी. उनकी इस पारी से जुड़ा एक सैयद किरमानी (Syed Kirmani) ने फिल्म से जुड़े एक इवेंट मे सुनाया था. किरमानी ने बताया था कि उन्होंने भारतीय कप्तान से बीच मैदान में क्या कहा था.

अधिक पढ़ें ...

    नई दिल्ली. भारत के 1983 में विश्व चैम्पियन (1983 ODI World cup) बनने में कप्तान कपिल देव (kapil Dev) की भूमिका सबसे अहम रही थी. कपिल ने जिम्बाब्वे के खिलाफ करो या मरो के मुकाबले में 175 रन ठोक डाले थे. कपिल की इस पारी के बाद खिलाड़ियों का खुद पर यकीन बढ़ा और इसके बाद जो हुआ, वो इतिहास के पन्नों में दर्ज है. भारत ने वेस्टइंडीज जैसी अजेय टीम को हराकर विश्व कप जीता. भारत की इसी जीत पर रणवीर सिंह (Ranveer Singh) की फिल्म 83 इस शुक्रवार को रिलीज होने जा रही है. इससे पहले 1983 विश्व विजेता टीम के खिलाड़ियों के लिए मुंबई में फिल्म का स्पेशल प्रीमियर रखा गया. जिसमें लगभग सभी खिलाड़ियों ने शिरकत की.

    रणवीर सिंह (Ranveer Singh) की फिल्म ’83’ का हाल ही में लॉन्च हुआ ऑफिशियल ट्रेलर दर्शकों को पीछे 18 जून, 1983 में ले जाता है. वेन्यू टनब्रिज वेल्स है और वेस्टइंडीज, ऑस्ट्रेलिया से लगातार दो मैच गंवाने के बाद भारत जिम्बाब्वे का सामना कर रहा है. तभी ड्रेसिंग रूम से एक आवाज आती है, जो कपिल देव (Kapil Dev) को यह बताती है कि हमारी शुरुआत खराब रही है. ‘कैप्स इट्स टू टाउन’, य़ह सुनते ही कप्तान कपिल बोलते हैं, मुझे नहा लेने दो.

    जल्द ही स्कोर 9/4 और 17 पर 5 हो जाता है. भारत पर विश्व कप से बाहर होने का खतरा मंडराने लगता है. इस नाजुक मौके पर कपिल देव बल्लेबाजी के लिए उतरते हैं और 175 रन की ऐसी पारी खेलते हैं, जो वनडे क्रिकेट के इतिहास में अमिट हो जाती है. कपिल की 175 रन की यह पारी वनडे में भारत की तरफ से पहली सेंचुरी भी थी.

    किरमानी ने कैसे बढ़ाया कपिल देव का हौसला ?
    कपिल देव (Kapil Dev) की इस पारी ऐतिहासिक पारी से जुड़े कई किस्से हैं. उसमें से एक सैयद किरमानी ने फिल्म से जुड़े एक इवेंट में सुनाया था. कपिल ने अपनी 175 की पारी के दौरान सैयद किरमानी के साथ महत्वपूर्ण पार्टनरशिप की थी.

    कपिल की इस पारी के बारे में बात करते हुए किरमानी ने कहा, “मैं मैदान पर अंदर गया तो कपिल सिर झुकाए खड़े थे. 60 ओवर का मैच था और हमारी पारी में 35 ओवर और बाकी थे. मैंने कपिल से कहा, हमारे लिए करो या मरो वाला मैच है और हमें मरना नहीं है. हमको मार के मरना है. मैंने उन्हें यह कहते हुए प्रेरित करने की कोशिश की, ‘आप (कपिल) भारतीय टीम में सर्वश्रेष्ठ हिटर हैं. मैं एक रन लूंगा और आपको स्ट्राइक दूंगा. आप हर गेंद को हिट करने की कोशिश करेंगे.”

    तब कपिल ने कहा था, “किरी भाई, हमको और 35 ओवर खेलना है (हमें अभी भी 35 ओवर खेलना है). मै पूरी कोशिश करूँगा.” इसके बाद जो हुआ, वो इतिहास के पन्नों में दर्ज हो गया. कपिल देव ने 175 रन की पारी खेली. जो आज भी भारतीय क्रिकेट के इतिहास में वनडे की सबसे बेस्ट पारियों में से एक हैं.

    ‘कपिल की एक बात से एकजुट हुई थी टीम’
    किरमानी ने वर्ल्ड कप के शुरुआती मुकाबलों को याद करते हुए कहा कि कपिल एक युवा कप्तान थे, जिन्हें अपने सीनियर्स के समर्थन की जरूरत थी, ऐसे समय में जब भारतीय क्रिकेट जोनल लॉबी में बंटी हुई थी. कपिल ने सबको एक सूत्र मे जोड़ दिया.

    रोहित शर्मा NFT के जरिए फैंस को देंगे खास तोहफा, जानिए क्या होता है एनएफटी

    IND vs SA Test Series: द्रविड़-कोहली की गलती टीम इंडिया पर पड़ेगी भारी, कुंबले से भी नहीं लिया सब

    उन्होंने इससे जुड़ा एक किस्सा सुनाया. किरमानी ने कहा,”विश्व कप के पहले मैच की पूर्व संध्या पर हमारी टीम मीटिंग थी, जहां कपिल ने कहा, ‘सुनो जेंटलमेन, आप सभी सीनियर हैं, आपको मेरे मार्गदर्शन की जरूरत नहीं है. आपको मेरा मार्गदर्शन करना होगा. यह एक बड़ा बयान था, जिसने टीम को झकझोर दिया. जैसे-जैसे टूर्नामेंट आगे बढ़ा, हमने एक टीम के रूप में सुधार किया. हालांकि, हमारे पास कोई सपोर्ट स्टाफ नहीं था. कभी-कभी कोई टीम बस भी नहीं. बेशक, किस्मत ने हमारा साथ दिया. लेकिन किस्मत तभी आपकी मदद करती है जब आप अपना काम पूरी ईमानदारी से करते हैं और 1983 की विश्व विजेता टीम ने ऐसा ही किया था.”

    Tags: 83 movie, Cricket news, Kapil dev, Ranveer Singh, World cup 1983

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर