Home /News /sports /

विराट कोहली की नाकामी के बाद आकाश चोपड़ा बोले- धोनी ने टीम में 'डर' पैदा नहीं होने दिया

विराट कोहली की नाकामी के बाद आकाश चोपड़ा बोले- धोनी ने टीम में 'डर' पैदा नहीं होने दिया

आकाश चोपड़ा ने बताया- क्यों इतने सफल कप्तान थे धोनी?  (PIC: PTI)

आकाश चोपड़ा ने बताया- क्यों इतने सफल कप्तान थे धोनी? (PIC: PTI)

विराट कोहली (Virat Kohli) की कप्तानी में भारत ने वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप के फाइनल (WTC Final) में हार झेली. इस हार के बाद लगातार विराट की कप्तानी पर सवाल खड़े हो रहे हैं. पूर्व टेस्ट क्रिकेटर आकाश चोपड़ा ने विराट कोहली की नाकामी के बाद एमएस धोनी (MS Dhoni) की सफलता की वजह बताई है.

अधिक पढ़ें ...
    नई दिल्ली. टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली वर्ल्ड टेस्ट सीरीज हारने के बाद से आलोचकों के निशाने पर हैं. विराट कोहली (Virat Kohli) की कप्तानी पर लगातार सवाल खड़े किये जा रहे हैं. दरअसल विराट कोहली की कप्तानी में भारतीय टीम लगातार तीसरी बार आईसीसी टूर्नामेंट जीतने से चूकी है. साल 2017 में हुई आईसीसी चैंपियंस ट्रॉफी, वर्ल्ड कप 2019 के बाद अब टीम इंडिया ने वर्ल्ड टेस्ट सीरीज के फाइनल में भी हार झेली है. बता दें विराट कोहली की नाकामी के बीच पूर्व टेस्ट क्रिकेटर आकाश चोपड़ा (Aakash Chopra) ने अपने यूट्यूब चैनल पर एक बेहद ही दिलचस्प वीडियो पोस्ट किया है, जिसमें उन्होंने धोनी (MS Dhoni) की सफलता की वजह बताई है.

    आकाश चोपड़ा ने अपने वीडियो में बताया कि आखिर क्यों एमएस धोनी इतने सफलत कप्तान रहे? आखिर क्यों उनकी अगुवाई में भारत ने चार में से तीन आईसीसी टूर्नामेंट के फाइनल जीते? बता दें एमएस धोनी की अगुवाई में भारत ने टी20 वर्ल्ड कप 2007, वर्ल्ड कप 2011 और चैंपियंस ट्रॉफी 2013 अपने नाम की थी.

    आकाश चोपड़ा ने बताया धोनी की सफलता का श्रेय
    आकाश चोपड़ा ने बताया कि बतौर कप्तान धोनी की सबसे बड़ी खासियत खिलाड़ियों में भरोसा पैदा करना था. आकाश चोपड़ा की मानें तो धोनी की टीम के किसी खिलाड़ी में असुरक्षा का भाव नहीं था. आकाश चोपड़ा ने कहा, 'धोनी की कप्तानी में टीम का प्रदर्शन बेहतर हुआ. धोनी टीम में ज्यादा बदलाव नहीं करते थे यही उनकी सफलता का राज था. उन्होंने टीम के किसी खिलाड़ी में असुरक्षा का भाव पैदा नहीं होने दिया.'

    आकाश चोपड़ा ने चुनी न्यूजीलैंड से टक्कर लेने वाली टीम, विराट कोहली को जगह नहीं

    आकाश चोपड़ा ने आगे कहा, 'अगर आप उनकी टीम को देखेंगे तो लीग से लेकर नॉक आउट तक वो एक ही टीम के साथ खेलते थे. उनके पास ऐसे खिलाड़ी रहे जो नॉक आउट मुकाबलों में रन बनाते थे. जब आप क्वार्टर फाइनल, सेमीफाइनल या फाइनल में पहुंचते हैं तो सबसे कम गलती करने वाली टीम ही मैच में जीत हासिल करती है. जो टीम पूरे टूर्नामेंट में ज्यादा बदलाव नहीं करती उसके खिलाड़ी ज्यादा आत्मविश्वासी नजर आते हैं.'undefined

    Tags: Aakash Chopra, Cricket news, Ms dhoni, Virat Kohli, WTC Final

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर