आकाश चोपड़ा बोले, IPL-2021 के बाकी सीजन में पैट कमिंस के ना खेलने से KKR पर फर्क नहीं पड़ेगा

आईपीएल 2022 को लेकर आकाश चोपड़ा ने दिया नया सुझाव (Aakash Chopra Twitter)

आईपीएल 2022 को लेकर आकाश चोपड़ा ने दिया नया सुझाव (Aakash Chopra Twitter)

IPL-2021 के बाकी मैचों का आयोजन सितंबर-अक्टूबर में हो सकता है लेकिन विदेशी खिलाड़ियों के खेलने को लेकर सवाल उठ रहे हैं. पैट कमिंस भी ऐसे ही क्रिकेटर हैं जो आईपीएल के शेष सीजन में मुश्किल ही खेलेंगे. आकाश चोपड़ा (Aakash Chopra) ने कहा कि कमिंस के ना खेलने से KKR पर कोई खास फर्क नहीं पड़ेगा.

  • Share this:

नई दिल्ली. भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) ने इंडियन प्रीमियर लीग (IPL 2021) के 14वें सीजन के बाकी मैचों को यूएई में आयोजित करने का ऐलान किया है. हालांकि विदेशी खिलाड़ियों की उपलब्धता पर सवाल खड़े हो रहे हैं. ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेटर पैट कमिंस (Pat Cummins) का यूएई में खेलना निश्चित नहीं है. इस बीच पूर्व भारतीय क्रिकेटर आकाश चोपड़ा (Aakash Chopra) ने कहा है कि पैट कमिंस के ना खेलने से उनकी फ्रेंचाइजी कोलकाता नाइटराइडर्स पर कोई खास फर्क नहीं पड़ेगा.

आईपीएल के बाकी मैचों का आयोजन सितंबर-अक्टूबर में हो सकता है लेकिन कई विदेशी खिलाड़ी नजर नहीं आएंगे जो अपनी-अपनी राष्ट्रीय टीम के साथ होंगे. कमिंस भी ऐसे ही क्रिकेटर हैं जिनके बारे में समझा जाता है कि वह आईपीएल के शेष सीजन में नहीं खेलेंगे. न्यूजीलैंड और आरसीबी के तेज गेंदबाज काइल जेमिसन की भागीदारी भी अनिश्चित है.

मशहूर कमेंटेटर चोपड़ा ने अपने यूट्यूब वीडियो में केकेआर फ्रेंचाइजी पर ऑस्ट्रेलियाई तेज गेंदबाजों की अनुपस्थिति के प्रभाव का विश्लेषण किया है. उन्होंने सुझाव दिया कि अगर लॉकी फर्ग्युसन केकेआर के लिए उपलब्ध रहते हैं, तो केकेआर टीम कमिंस को उतना मिस नहीं करेगी.  उन्होंने कहा, 'केकेआर के पास पहले से ही लॉकी फर्ग्युसन हैं. मेरी राय में, अगर आपको टी20 गेंदबाज के रूप में उनमें से किसी एक को चुनना है, तो लॉकी फर्ग्युसन को उनसे (कमिंस) आगे रखूंगा. अगर लॉकी उपलब्ध हैं और खेलते हैं, तो यह बिल्कुल ठीक है. मुझे नहीं लगता कि केकेआर टीम कमिंस को मिस करने वाली है.'

इसे भी देखें, 17 साल की शेफाली एक बार में 150 बाउंसर खेलती हैं, पुरुष खिलाड़ियों के साथ भी ट्रेनिंग
चोपड़ा ने आगे कहा, 'कमिंस का प्रदर्शन IPL के पिछले सीजन में ज्यादा अच्छा नहीं रहा है. अगर पिछले साल की बात करें तो उन्होंने यूएई में 14 मैचों में सिर्फ 12 विकेट लिए थे. इस साल भी उन्होंने सात मैचों में केवल नौ विकेट लिए और वह बेहद महंगे भी साबित हुए, करीब नौ रन प्रति ओवर.'

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज