• Home
  • »
  • News
  • »
  • sports
  • »
  • इस भारतीय खिलाड़ी के साथ हुआ नस्लभेद, कहा- साउथ अफ्रीकी क्रिकेटरों ने मुझे पाकी कहा

इस भारतीय खिलाड़ी के साथ हुआ नस्लभेद, कहा- साउथ अफ्रीकी क्रिकेटरों ने मुझे पाकी कहा

आकाश चोपड़ा ने ट्वीट करते हुए लिखा, 'चेतन चौहान जी कोरोना टेस्ट में पॉजिटिव पाए गए. आपके जल्दी ठीक होने की कामना करता हूं. यह वाकई में काफी मुश्किल रात है पहले अमिताभ बच्चन अब चेतन जी.'

आकाश चोपड़ा ने ट्वीट करते हुए लिखा, 'चेतन चौहान जी कोरोना टेस्ट में पॉजिटिव पाए गए. आपके जल्दी ठीक होने की कामना करता हूं. यह वाकई में काफी मुश्किल रात है पहले अमिताभ बच्चन अब चेतन जी.'

इंग्लैंड में लीग क्रिकेट खेलते हुए आकाश चोपड़ा (Aakash Chopra) को नस्लवादी टिप्पणियों का सामना करना पड़ा

  • Share this:
    नई दिल्ली. इस वक्त पूरी दुनिया में नस्लवाद का मुद्दा छाया हुआ है. हाल ही में वेस्टइंडीज के पूर्व कप्तान डैरेन सैमी ने खुलासा किया है कि आईपीएल के दौरान उन्हें सनराइजर्स हैदराबाद के कुछ खिलाड़ी कालू कहकर बुलाते थे. सैमी के बाद अब भारत के पूर्व सलामी बल्लेबाज आकाश चोपड़ा (Aakash Chopra) ने आरोप लगाया है कि इंग्लैंड के लीग क्रिकेट के दौरान उन्हें नस्लवादी टिप्पणियों का सामना करना पड़ा था.

    आकाश चोपड़ा हुए नस्लभेद के शिकार
    पूर्व भारतीय बल्लेबाज 2007 में मेरिलबोन क्रिकेट क्लब के लिये खेले थे, उन्होंने कहा कि उन्हें ‘पाकी’ बुलाया जाता था जो एक नस्लवादी शब्द हैं जिसे अंग्रेजी बोलने वाले देश दक्षिण एशियाई मूल के लोगों के लिये इस्तेमाल करते हैं. चोपड़ा (Aakash Chopra) ने अपने यूट्यूब चैनल पर कहा,'हम (क्रिकेटर) कभी ना कभी, नस्लवाद का शिकार हुए हैं. मुझे याद है जब मैं इंग्लैंड में लीग क्रिकेट खेलता था तो एक प्रतिद्वंद्वी टीम में दो दक्षिण अफ्रीकी थे और दोनों अभद्र टिप्पणियां करते थे. '

    आकाश चोपड़ा को कहते थे पाकी
    आकाश चोपड़ा (Aakash Chopra Racism) ने कहा,'और यहां तक कि जब मैं बल्लेबाजी के दौरान दूसरे छोर पर होता था तो वे मेरे पीछे पड़े रहते थे. वे मुझे लगातार पाकी बुलाते थे. कईयों को लगता है कि पाकिस्तान का छोटा स्वरूप पाकी है लेकिन यह सच नहीं है. अगर आपका रंग ‘ब्राउन’ है. अगर आप एशियाई उपमहाद्वीप में कहीं से भी हो तो इस शब्द को नस्लीय टिप्पणी के रूप में इस्तेमाल किया जाता है. ' चोपड़ा ने कहा कि उनकी टीम ने उनका पूरा साथ दिया लेकिन इन दोनों खिलाड़ियों ने नस्लवादी टिप्पणी करना नहीं छोड़ा.

    इस 42 साल के खिलाड़ी ने भारत के लिये 10 टेस्ट मैच खेले. उन्होंने कहा कि पूरी दुनिया में इस समस्या की जड़े काफी गहरी हैं. चोपड़ा ने कहा,'अगर आपकी त्वचा का रंग सफेद है तो भी ऐसा होता है. जब वे दुनिया के इस हिस्से में आते हैं तो उनसे भी इसी तरह का व्यवहार किया जाता है. ' उन्होंने उस घटना को याद किया जब ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेटर एंड्रयू साइमंड्स को भारत में क्षेत्ररक्षण करते समय ‘बंदर’ बुलाया गया था. चोपड़ा ने कहा,'जब एंड्रयू साइमंड्स भारत आये थे तो वानखेड़े स्टेडियम में कईयों ने उन्हें ‘बंदर’ बुलाना शुरू कर दिया था. '

    वेस्टइंडीज के पूर्व विश्व कप विजेता कप्तान डेरेन सैमी और स्टार बल्लेबाज क्रिस गेल ने अमेरिका में पुलिस के हाथों अफ्रीकी-अमेरिकी जार्ज फ्लॉयड की मौत के बाद नस्लवादी टिप्पणियों का सामना करने की बात कही थी. फ्लॉयड की मौत के बाद कई अंतरराष्ट्रीय क्रिकेटरों ने नस्लवाद का सामना करने के अपने अनुभवों का खुलासा किया है.

    इस भारतीय क्रिकेटर की हत्या के आरोप में बेटा अश्विन गिरफ्तार, शराब पीकर मार डाला!

    गंजे क्रिकेटरों की टीम में नहीं मिली सहवाग को जगह, चुने गए ये 11 खिलाड़ी!

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज