• Home
  • »
  • News
  • »
  • sports
  • »
  • CRICKET AAKASH CHOPRA SUGGESTS 10 CRICKET LAWS SHOULD BE CHANGED

आकाश चोपड़ा ने क्रिकेट के 10 नियमों को बदलने की बात कही, बताया-किस शॉट पर मिलें 8 रन?

आकाश चोपड़ा ने क्रिकेट के 10 नियमों को बदलने की बात कही (Aakash Chopra Twitter)

पूर्व टेस्ट क्रिकेटर और मशहूर कमेंटेटर आकाश चोपड़ा (Aakash Chopra) ने क्रिकेट के 10 नियमों को बदलने की मांग की है. आकाश चोपड़ा ने चौके-छक्के की तरह 8 रन का नियम भी बनाने का सुझाव दिया है.

  • Share this:
    नई दिल्ली. 1877 में शुरू हुए क्रिकेट के खेल में कई नियम बदले हैं. फॉर्मेट के हिसाब से इस खेल में कई ऐसे नियम आए जिनकी वजह से और रोमांच पैदा हुआ. लेकिन कुछ नियम ऐसे भी हैं जिनकी वजह से विवाद खड़े हुए हैं और साथ ही ये आरोप लगे हैं कि ये खेल बल्लेबाजों के लिए आसान और गेंदबाजों के लिए मुश्किल हो गया है. पूर्व टेस्ट क्रिकेटर आकाश चोपड़ा (Aakash Chopra) ने अपने यूट्यूब वीडियो में 10 ऐसे नियमों को बदलने की मांग की है जो इस खेल का संतुलन और बेहतर कर सकते हैं.
    Published by:Anoop Dev Singh
    First published:
    आकाश चोपड़ा ने क्रिकेट के खेल में 8 रन का शॉट लाने की बात कही है. आकाश चोपड़ा ने कहा कि अगर कोई खिलाड़ी 100 मीटर या उससे लंबा शॉट लगाता है तो फिर टीम को 8 रन मिलने चाहिए.
    आकाश चोपड़ा ने वनडे क्रिकेट में सिर्फ एक ही गेंद के इस्तेमाल की बात कही. बता दें आईसीसी के ताजा नियमों को मुताबिक 2 नई गेंदों का इस्तेमाल होता है जिसकी वजह से डेथ ओवर्स में और ज्यादा रन बनने लगे. तेज गेंदबाजों का सबसे अहम हथियार रिवर्स स्विंग ही उनसे छिन गया. साथ ही स्पिनर्स को भी ज्यादा पुरानी गेंद नहीं मिलने से नुकसान हुआ.
    आकाश चोपड़ा ने मांग करते हुए कहा कि अगर कोई गेंदबाज बाउंसर फेंकता है, गेंद बल्लेबाज के सिर के ऊपर से जाती है और अंपायर उसे वाइड देता है तो फिर वो, उस ओवर की बाउंसर में नहीं गिनी चाहिए.
    आकाश चोपड़ा ने क्रिकेट के खेल से लेग बाई हटाने की भी मांग की. आकाश चोपड़ा का तर्क है कि ये खेल गेंद और बल्ले का है. अगर गेंद बल्लेबाज के पैरों पर लगती है तो उसे रन नहीं मिलना चाहिए क्योंकि वो तकनीकी तौर पर गेंद को खेलने में नाकाम रहा है.
    आकाश चोपड़ा के मुताबिक अंपायर को तभी किसी बल्लेबाज को आउट देना चाहिए जब गेंद डेड हो जाए. आकाश चोपड़ा ने कहा- अगर अंपायर गलती से किसी बल्लेबाज को आउट दे और वो गेंद चौके के लिए जाए और फिर डीआरएस में वो खिलाड़ी नॉट आउट करार हो तो टीम को रन नहीं मिलते. उस गेंद को डेड माना जाता है.
    आकाश चोपड़ा ने अच्छी फॉर्म में चल रहे गेंदबाज को एक अतिरिक्त ओवर देने का नियम बनाने की भी वकालत की. आकाश चोपड़ा ने कहा- अगर एक बल्लेबाज पूरे 20 या 50 ओवर खेल सकता है तो फिर क्यों एक गेंदबाज सिर्फ 10 या 4 ही ओवर फेंक सकता है. आकाश चोपड़ा ने कहा कि अगर मैच के दौरान कोई गेंदबाज बेहतर प्रदर्शन कर रहा है तो उसे अतिरिक्त ओवर देने का विकल्प भी होना चाहिए.
    आकाश चोपड़ा ने एक और बड़ा दिलचस्प नियम बनाने की बात कही. चोपड़ा ने कहा कि अगर कोई टीम निर्धारित समय में ओवर पूरे नहीं करती है तो उसे एक और अतिरिक्त खिलाड़ी 30 गज के अंदर लाने के लिए बाध्य किया जाए. इस नियम से सभी टीमें ओवर रेट का ध्यान रखेंगी.
    आकाश चोपड़ा ने कहा कि अगर गेंद लगने के बाद LED लाइट्स नहीं गिरती हैं तो भी बल्लेबाज को आउट दिया जाए. चोपड़ा का तर्क है कि LED लाइट्स का वजन ज्यादा है जिसकी वजह से कई बार वो नहीं गिरती हैं.
    आकाश चोपड़ा ने एक और नियम बदलने की मांग की. चोपड़ा ने कहा कि 30 गज के बाहर अंपायर के सॉफ्ट सिग्नल पर रोक लगनी चाहिए. चोपड़ा की दलील है कि अंपायर को कैसे पता चलेगा कि खिलाड़ी का पांव बाउंड्री लाइन पर लगा है या नहीं.
    आकाश चोपड़ा ने कहा कि मैदानी अंपायरों को तीसरे अंपायर से हर फैसले पर मदद लेने का अधिकार होना चाहिए. साथ ही तीसरे अंपायर के पास मैदानी अंपायर के गलत फैसले को बदलने की शक्ति होनी चाहिए.